दिल्ली

उत्तर प्रदेश

पंजाब

बिहार

उत्तराखंड

हरियाणा

झारखण्ड

राजस्थान

जम्मू-कश्मीर

हिमाचल प्रदेश

पश्चिम बंगाल

ओडिशा

महाराष्ट्र

गुजरात

आरटीए के अप्वाइंटमेट स्लाट पर दलालों का कब्जा

आरटीए के अप्वाइंटमेट स्लाट पर दलालों का कब्जा

आरटीए विभाग को अगर समस्याओं का दफ्तर कहा जाए तो वह गलत नहीं होगा। दफ्तर में पक्का ड्राइविंग लाइसेंस (डीएल) बनवाने का काम करवाना बड़ा मुश्किल है।

JagranSun, 16 May 2021 09:30 AM (IST)

जागरण संवाददाता, अमृतसर: आरटीए विभाग को अगर समस्याओं का दफ्तर कहा जाए तो वह गलत नहीं होगा। दफ्तर में पक्का ड्राइविंग लाइसेंस (डीएल) बनवाने का काम करवाना बड़ा मुश्किल है। हालात यह हो चुके हैं कि पक्का लाइसेंस बनवाने के लिए लोग कई-कई महीनों से अप्वाइंटमेंट लेने की कोशिश कर रहे हैं, मगर नहीं मिल रही।

कोरोना के कारण दफ्तरों में भीड़ न हो इसके लिए स्लाट कम किए गए हैं। ऐसे में सुबह नौ बजे अप्वाइंटमेंट स्लाट खुलते हैं और कुछ ही सेकंड में स्लाट फुल हो जाते हैं। इसके पीछे एजेटों का ही खेल है। लोगों से भारी रकम वसूल कर उनके डीएल बनवाने वाले एजेंट ही यह स्लाट अपने लोगों के काम करवाने के लिए बुक कर लेते हैं। आम लोगों के लिए अप्वाइंटमेंट लेना तो नामुमकिन सा हो गया है। लोगों की मांग है कि सरकार इन दलालों पर शिकंजा कसे और लोगों के लिए अप्वाइंटमेंट स्लाट की संख्या बढ़ाए।

दरअसल, ट्रांसपोर्ट विभाग की तरफ से डीएल बनवाने के लिए आनलाइन अप्लाई करना पड़ता है। पहले लर्निग डीएल बनाया जाता है और उसके छह महीने बाद पक्का लाइसेंस बनाना होता है। लर्निग लाइसेंस के लिए तो बड़ी ही आसानी से अप्वाइंटमेंट मिल जाती है, लेकिन पक्के लाइसेंस के लिए अप्वाइंटमेंट लेना मुश्किल हो रहा है। आरटीए विभाग में 100 अप्वाइंटमेंट हैं, जबकि एसडीएम-1 दफ्तर में आठ अप्वाइंटमेंट स्लाट हैं। कोरोना से पहले इनकी संख्या 200 से अधिक रहती थी, लेकिन अब इसे कम कर दिया गया है। कई लोगों के लर्निग लाइसेंस की अवधि खत्म होने वाली

कई लोग ऐसे हैं, जिनके लर्निग लाइसेंस की अवधि खत्म होने को है। उन्हें अप्वाइंटमेंट नहीं मिली तो दोबारा से लर्निग लाइसेंस अप्लाई करना पड़ेगा। दोबारा अप्लाई करने के लिए पैसे अलग से खर्चने पड़ेंगे। पक्का लाइसेंस अप्लाई करने के लिए आरटीए दफ्तर में जब लोग जाते हैं, तो उन्हें कहा जाता है कि चार महीने से पहले पक्का लाइसेंस बनाने के लिए आवेदन किया जाए। अगर ऐसा नहीं होता है तो उसकी अवधि खत्म हो जाएगी और उन्हें दोबारा लाइसेंस अप्लाई करना होगा। केस 1 : दो महीने से पक्के डीएल के लिए नहीं मिल रही अप्वाइंटमेंट

सुल्तानविड रोड निवासी अंबुज शर्मा का कहना है कि उन्होंने अपना लर्निंग लाइसेंस खुद बनवाया था। 14 जुलाई तक उसकी अवधि है। पिछले दो महीनों से वह पक्के लाइसेंस के लिए अप्वाइंटमेंट ले रहे हैं, लेकिन वह मिल नहीं रही। उन्हें पता चला था कि सुबह नौ बजे वेबसाइट खुलती है। जब वह अप्वाइंटमेट लेने लगा तो कुछ ही सेकंड में स्लाट फुल हो गए। उन्हें अप्वाइंटमेट नहीं मिल पाया। केस 2 : चार महीने से कोशिश कर रहा, पर अप्वाइंटमेट नहीं मिल रही

मोहन नगर सुल्तानविड रोड निवासी नमन शर्मा का कहना है कि उन्होंने अपना लर्निंग लाइसेंस खुद ही बनवाया था। 6 जून 2021 तक उसकी अवधि है। यह अगले महीने खत्म हो जाएगी। चार महीने से वह पक्के लाइसेंस के लिए अप्लाई करने की कोशिश कर रहे हैं। पर अप्वाइंटमेंट नहीं मिल रही है। उन्होंने मांग की है कि उन लोगों की समस्या हल की जाए और लर्निग लाइसेंस की अवधि बढ़ा दी जाए। इस बारे अधिकारियों को अवगत करवाया जाएगा : आरटीए

आरटीए सेक्रेटरी ज्योति बाला का कहना है कि कोरोना के कारण अप्वाइंटमेंट स्लाट कम किए गए है। अगर इसमें परेशानी आ रही है तो वह इस बाबत उच्चाधिकारियों से बात करेंगी। उन्हें बताया जाएगा कि इससे लोग परेशान हो रहे हैं। लोगों को कोई परेशानी न आए, इसके लिए वह हरसंभव कोशिश कर रही हैं। इस समस्या का हल अवश्य करवाया जाएगा।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.