अध्यापकों की हड़ताल, परीक्षाएं की स्थगित

सातवां वेतन आयोग लागू करने की मांग को लेकर तीसरे दिन भी कालेज अध्यापकों का धरना और हड़ताल पंजाब सरकार के खिलाफ जारी रही।

JagranFri, 03 Dec 2021 11:52 PM (IST)
अध्यापकों की हड़ताल, परीक्षाएं की स्थगित

जासं, अमृतसर: सातवां वेतन आयोग लागू करने की मांग को लेकर तीसरे दिन भी कालेज अध्यापकों का धरना और हड़ताल पंजाब सरकार के खिलाफ जारी रही। उनके इस कदम से विद्यार्थियों का नुकसान हो रहा है। 14 दिसंबर से शुरू होने वाली सेमेस्टर परीक्षाओं को स्थगित कर दिया गया है, जिसके तहत जीएनडीयू कैंपस, रीजनल कैंपस गुरदासपुर, जालंधर और जीएनडीयू के अंतर्गत आते सभी कांस्टीट्यूएंट कालेजों में सेमेस्टर परीक्षा नहीं हो पाएगी। इसमें लगभग 20-25 हजार से अधिक विद्यार्थी प्रभावित होंगे और जीएनडीयू कैंपस अमृतसर में पढ़ने वाले लगभग सात हजार के करीब विद्यार्थियों की परीक्षा भी नहीं होगी, क्योंकि जीएनडीयू के साथ-साथ सभी कालेजों में कुल मिलाकर दस हजार के करीब अध्यापकों की संख्या बनती है, जोकि मुकम्मल तौर पर पढ़ाई ठप करके भूख हड़ताल पर बैठे हैं।

लारेंस रोड स्थित बीबीके डीएवी कालेज फार वूमेन में डा. शैली जग्गी, डा. अनीता नरिदर व रेणु वशिष्ट ने भूख हड़ताल पर बैठकर पंजाब अवाज बुलंद की। इसी तरह डीएवी कालेज, खालसा कालेज, डीएवी कालेज आफ एजुकेशन, हिदू कालेज, खालसा कालेज फार वूमेन, एसएन कालेज, खालसा कालेज आफ एजुकेशन, एसडीएस फेरुमान कालेज रइया, एसआर गवर्नमेंट कन्या कालेज और गुरु नानक देव यूनिवर्सिटी (जीएनडीयू) के अध्यापकों ने भूख हड़ताल पर बैठकर अपनी भड़ास निकाली। इस मौके पर कालेज के प्रि. डा. राजेश कुमार, डा. जीएस सेखों, डा. बीबी यादव, डा. डेजी शर्मा, डा. रजनी खन्ना, डा. संदीप जुत्शी, डा. ललित गोपाल, डा. मलकियत सिंह, प्रो. पूनम कोहली, डा. अदिति जैन, प्रो. स्वीटी बाला, डा. सुनीता शर्मा आदि मौजूद थे। आप नेता कुंवर विजय प्रताप सिंह ने अध्यापकों का किया समर्थन

हाथी गेट स्थित डीएवी कालेज में भूख हड़ताल में बैठे डा जीएस सेखों, डा. कुलदीप आर्य, डा. रजनी बाला, डा. रुपिदर कौर और डा. समृति अग्रवाल से मिलने के लिए आम आदमी पार्टी (आप) के नेता कुंवर विजय प्रताप सिंह पहुंचे। उन्होंने कहा कि अगर आप की सरकार सत्ता में आई, तो एक माह में सातवां वेतन आयोग लागू करवा दिया जाएगा। उनके साथ आए आप नेता प्रो. एचएस वालिया ने कहा कि अध्यापक सरकार की प्राथमिकता में होने चाहिएं, लेकिन ऐसा नही हो रहा है।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.