नीले कार्ड धारकों को कोई परेशानी है तो पीजीआरएस पोर्टल पर करें शिकायत: डीएफएसओ

पंजाब सरकार की ओर से आटा-दाल स्कीम के तहत लोगों को गेहूं बाटने का सिस्टम पारदर्शी ढंग से किया जा रहा है।

JagranMon, 23 Aug 2021 12:00 PM (IST)
नीले कार्ड धारकों को कोई परेशानी है तो पीजीआरएस पोर्टल पर करें शिकायत: डीएफएसओ

विक्की कुमार, अमृतसर: पंजाब सरकार की ओर से आटा-दाल स्कीम के तहत लोगों को सरकारी गेहूं बाटने का सिस्टम पारदर्शी ढंग से किया जा रहा है। इसके लिए फूड एंड सिविल सप्लाई विभाग में कई बदलाव किए गए हैं। वन नेशन वन कार्ड के तहत नीले कार्ड धारकों के स्मार्ट कार्ड बनाए जा रहे हैं। इससे उपभोक्ता पंजाब के किसी भी कोने से अपना सरकारी गेहूं ले सकता है। नीले कार्ड धारकों के स्मार्ट कार्ड बनाने के बाद भ्रष्टाचार पर लगाम लगेगी और लोगों का समय भी बचेगा। यह बात दैनिक जागरण के साथ साक्षात्कार के दौरान फूड एंड सिविल सप्लाई विभाग के डिस्ट्रिक्ट फूड सप्लाई कंट्रोलर (डीएफएसओ) रिषी राज मेहरा ने कही। उन्होंने कहा कि लोगों को कोई परेशानी न आए इसके लिए हरसंभव प्रयास किए जा रहे हैं। पेश हैं उनसे बातचीत के अंश: सवाल - लोगों को परेशानी आए तो उसके लिए क्या कोई टोल फ्री नंबर है?

जवाब - इसके लिए कोई टोल फ्री नंबर तो नहीं है, लेकिन पंजाब सरकार ने लोगों की सुविधा के लिए पब्लिक ग्रीविएंसीस रिड्रेसल सिस्टम (पीजीआरएस) पोर्टल बनाया है। इस पर उपभोक्ता किसी भी तरह की परेशानी पर अपनी शिकायत भेज सकता है। 24 घटे में उसकी समस्या का हल किया जाता है। रोजाना इस पोर्टल पर उन्हें 30 से 35 शिकायतें आती हैं और संबंधित अधिकारी को उसका हल करने के निर्देश दिए जाते हैं। इसके अलावा जिला शिकायत निवारण कमेटी में भी उपभोक्ता शिकायत कर सकते हैं। सवाल - जिले में कितने नीले कार्ड धारकों के स्मार्ट कार्ड बनाए जा चुके हैं?

जवाब - डीएफएसओ रिषी राज मेहरा ने कहा कि इस समय जिले में तीन लाख 47 हजार 476 नीले कार्ड धारक हैं और इसमें से दो लाख 94 हजार के स्मार्ट कार्ड बनाए जा चुके हैं। इनको लोगों में बाटा भी जा चुका है। स्मार्ट कार्ड का लोगों को काफी फायदा होने वाला है। इसमें नीले कार्ड धारक का परिवारों के सदस्य की डिटेल होगी। उपभोक्ता को पीओएस मशीन पर अंगूठे को लगाना होगा और पूरे परिवार की डिटेल आ जाएगी। उसके बाद वह कहीं से भी अपना सरकारी गेहूं ले सकता है। उन्होंने कहा कि पिछले वर्ष तीन लाख के करीब नीले कार्ड थे, लेकिन इस बार कार्डो की संख्या बढ़ गई है, क्योंकि उनके दफ्तर में जो भी जरूरतमंद आया, उनके कार्ड बनाए गए हैं। सवाल - सरकारी गेहूं कम देने की शिकायतें बहुत आती हैं, लोग इसके लिए क्या करें?

जवाब - आटा दाल स्कीम के तहत छह महीने की बाटी जाने वाली सरकारी गेहूं लोगों को पूरी दी जाती है। जिस भी उपभोक्ता को गेहूं कम मिले तो वह विभाग को शिकायत करे और उस डिपो होल्डर के खिलाफ कार्रवाई होगी। डीएफएसओ ने लोगों से कहा कि जब भी वह गेहूं लें तो उसे तोलकर लें। डिपो होल्डर के पास तोलने के लिए सारा सिस्टम है। अगर वह तोलने में आनाकानी करता है तो इसकी शिकायत विभाग को करें। सवाल- अप्रैल से सितंबर 2021 की सरकारी गेहूं कब बाटी जाएगी?

जवाब - अप्रैल से सितंबर 2021 तक छह महीने की सरकारी गेहूं उपभोक्ता को जल्द ही बाटी जाएगी। इसके लिए 41 हजार मीट्रिक टन गेहूं की एलोकेशन हो चुकी है और इसका आबंटन भी जल्द ही शुरू किया जाएगा। 31 अगस्त 2021 तक उपभोक्ताओं को सरकारी गेहूं बाटनी होगी। रिषी राज मेहरा ने कहा कि उपभोक्ता पूरे तोल के साथ गेहूं ले सकते हैं। सवाल - डिपो होल्डरों को काफी समय से कमीशन नहीं मिली है, वह कब आएगी?

जवाब - डीएफएससी का कहना है कि इस संबंधी उन्होंने डिपो होल्डरों के साथ बैठक की है। उनकी समस्याएं सुनी हैं, जिसमें बताया गया है कि कई सालों की उन्हें कमीशन तक नहीं मिली है। उनकी इस समस्या का हल करवाया जा रहा है। डिपो होल्डरों को किसी तरह की कोई परेशानी नहीं आने दी जाएगी।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.