भगवान श्री चंद्र जी की जयंती महोत्सव पर उदासीन आश्रमों में करवाए हवन-पूजन

उदासीन संप्रदाय के संस्थापक भगवान श्री चंद्र जी की जयंती महोत्सव मनाया गया। भगवान श्री चंद्र जी के विग्रह का अभिषेक और श्रृंगार किया गया।

JagranWed, 15 Sep 2021 07:54 PM (IST)
भगवान श्री चंद्र जी की जयंती महोत्सव पर उदासीन आश्रमों में करवाए हवन-पूजन

संवाद सहयोगी, अमृतसर :

उदासीन संप्रदाय के संस्थापक भगवान श्री चंद्र जी की जयंती महोत्सव मनाया गया। भगवान श्री चंद्र जी के विग्रह का अभिषेक और श्रृंगार किया गया। आरती करके भोग लगाया गया। कई जगहों पर हवन-पूजन किया गया। उदासीन आश्रम अखाड़ा छत्ते वाला, चौक पराग दास के महंत गोपाल दास की अध्यक्षता में प्रात: हवन किया गया। उसके बाद आरती कर भगवान श्री चंद्र जी को भोग लगाया गया। संकीर्तन के बाद भंडारा लगाया गया। महंत गोपाल दास ने कहा कि प्रभु नाम के साथ ही हम सभी कष्टों से बच सकते हैं।

उदासीन आश्रम अखाड़ा निर्वाणसर लक्कड़ मंडी के महंत सुखदेवानंद जी महाराज की अध्यक्षता में प्रात: हवन यज्ञ किया गया।

महंत सुखदेवानंद जी महाराज ने कहा कि भगवान श्री चंद्र से हमने अरदास की है की दुनिया से महामारी समाप्त हो तथा लोग सुखी भरा जीवन व्यतीत कर सकें। इस अवसर पर टाइगर मुनि, संत शिवा चंद, संत कपिल मुनि, सुखदेव राज बबला व अन्य भक्त जन शामिल थे।

उदासीन आश्रम अखाड़ा संगल वाला के महंत दिव्याम्बर मुनि के सानिध्य में भगवान श्री चंद जी महाराज का 527 वां जयंती महोत्सव मनाया गया। प्रसिद्ध भजन गायक राजीव भाटिया ने भगवान श्री चंद का गुणगान किया। इस मौके पर स्वामी विवेकानंद, महंत राम मुनि, महंत गोपाल दास, कुंवर विजय प्रताप सिंह, किशोर जोशी, अशोक चावला, रमेश शर्मा, रमन राठौर, प्रवीण जैन, रमण कौशिक, नरेश शर्मा, बलविदर गोयल व अन्य भक्तजन शामिल थे।

उदासीन आश्रम अखाड़ा घी मंडी में महंत गुरचरण दास जी महाराज के सानिध्य में पूजा अर्चना की गई तथा भंडारा लगाया गया। उदासीन आश्रम अखाड़ा बेरीवाला मजीठा रोड में महंत प्रताप दास महाराज जी के सानिध्य में पूजा अर्चना की गई।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.