बिजली मुफ्त देने की बजाय बिजली के रेट कम होने चाहिए: कारोबारी

सरकार की ओर से कारोबारियों के लिए बस घोषणाएं ही की जाती हैं पर होता कुछ नहीं।

JagranSat, 25 Sep 2021 08:24 PM (IST)
बिजली मुफ्त देने की बजाय बिजली के रेट कम होने चाहिए: कारोबारी

जागरण टीम, अमृतसर: सरकार की ओर से कारोबारियों के लिए बस घोषणाएं ही की जाती हैं पर होता कुछ नहीं। इस पर मजीठ मंडी के साथ लगते मिश्री बाजार के कारोबारियों ने दैनिक जागरण के फेसबुक लाइव के दौरान अपनी बात रखी। उन्होंने कहा कि कोरोना काल में न तो केंद्र और न ही राज्य सरकार ने मदद की है। इस मुश्किल घड़ी में कारोबारियों को खुद अपनी समस्याओं से लड़ना पड़ा है। खर्च तक निकालने मुश्किल हो गए हैं। उन्होंने कहा कि मुफ्त बिजली देने की बात करने की बजाय सस्ते में बिजली देनी चाहिए ताकि सभी लोगों को इसका लाभ मिले। इसके अलावा खाने पीने वाली वस्तुओं पर जीएसटी की दरे काफी है। इसलिए इसे कम किया जाना चाहिए। कारोबारियों को हमेशा समस्या रहती हैं। सरकार की रणनीति कारोबारियों के प्रति सही नहीं होती। कारोबार करना मुश्किल होता जा रहा है। सभी तरफ मंदी का दौर चल रहा है। सरकार को कारोबारियों को राहत देनी चाहिए।

-सतिदर सिंह संत, दुकानदार महंगाई ज्यादा होने के कारण लोगों की परचेजिग पावर पर असर पड़ा है। इसका खामियाजा दुकानदारों को भुगतना पड़ रहा है। सरकार द्वारा किसी तरह की कोई मदद नहीं की जा रही है। मुफ्त सुविधाएं देने से बजाएं टैक्स कम करने चाहिए जिससे हर एक वर्ग को राहत मिल सके।

-अजिदर सिंह, दुकानदार बिजली के रेट कम करने चाहिए। महंगाई पर अंकुश लगना चाहिए। बाजार में जो मूलभूत सुविधाओं की कमी है, उसमें सुधार करना चाहिए। सफाई व्यवस्था ठीक करनी चाहिए। बारिश के दिनों में पानी खड़ा हो जाता है। नालियों की सफाई होनी चाहिए।

-परमिदर सिंह, दुकानदार कारोबारियों के खर्चे निकलना मुश्किल हो रहा है। कर्मचारियों को वेतन देना भी मुश्किल होता है। टैक्स की भरमार है। खाने-पीने व रसोई की वस्तुएं पर टैक्स भी काफी लगा हुआ है। नई पंजाब में जो सरकार बनी है उसको बिजली के बिल टैक्सो में कमी करनी चाहिए।

-जसप्रीत सिंह, दुकानदार पेट्रोल डीजल के दाम बढ़ चुके हैं। सिलेंडर के दाम बढ़े हुए हैं। घर की रसोई का बजट बिगड़ चुका है। उसके कारण हर एक वर्ग का बजट बिगड़ा हुआ है। कारोबारी सबसे ज्यादा समस्या में है।

-सुमित सहगल, दुकानदार दुकानदारों को अपने खर्चे खुद ही निकालने पड़ रहे हैं। किसी भी सरकार ने कोई मदद नहीं की है। मुफ्त बिजली देने की बजाय बिजली की दर कम करनी चाहिए ताकि हर एक वर्ग को राहत मिले।

-हरविदर कुमार, दुकानदार बाजार में मंदी का दौर चल रहा है। समस्या गंभीर है, बाजार में ग्राहक बिल्कुल नहीं है। यदि हालात ऐसे रहते हैं, तो दुकानदारों को काफी नुकसान उठाना पड़ सकता है। सरकार को कारोबारियों से मिलकर ऐसी रणनीति बनानी चाहिए जिससे कारोबारियों को राहत मिले।

-अभिषेक अबरोल, दुकानदार बिजली बिल की दरें कम होनी चाहिए। नालियों की समय समय पर सफाई होनी चाहिए। बाजार में थोड़ी सी वर्षा के कारण ही पानी भर जाता है। बाजार में इस समय मंदी का दौर चल रहा है। हार कारोबार प्रभावित है। जीएसटी पर कमी होनी चाहिए।

-जसविदर सिंह, दुकानदार कारोबारियों के लिए सरकार ना के बराबर होती है। कभी भी सरकार ने कारोबारियों को राहत नहीं दी है। अगर टैक्स व बिजली के बिल कम होते हैं, तो उससे हर एक ग्राहक को लाभ मिलता है। वही कारोबार भी भरता है।

-परमजीत सिंह, दुकानदार मंदी का दौर चल रहा है। बाजार में ग्राहक बिल्कुल नहीं है। दुकानों में लगे कर्मचारियों के खर्चे निकालना भी मुश्किल होता जा रहा है। लोगों की परचेसिग पावर में असर पड़ा है। सरकार को इस तरफ ध्यान देना चाहिए।

-नरेंद्र कौर, दुकानदार

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.