हिमाचल के पूर्व सीएम का पोता चेतन परमार प्रतिबंधित दवाओं के कारोबार में नामजद

प्रतिबंधित ट्रामाडोल कैप्सूल पकड़े जाने के मामले में अमृतसर पुलिस ने हिमाचल के पूर्व मुख्यमंत्री यशवंत परमार के पोते चेतन परमार को नामजद कर लिया है।

JagranWed, 16 Jun 2021 02:00 AM (IST)
हिमाचल के पूर्व सीएम का पोता चेतन परमार प्रतिबंधित दवाओं के कारोबार में नामजद

नवीन राजपूत, अमृतसर: 15 करोड़ रुपये की प्रतिबंधित ट्रामाडोल कैप्सूल पकड़े जाने के मामले में अमृतसर देहाती पुलिस ने हिमाचल प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री यशवंत परमार के पोते चेतन परमार को नामजद कर लिया है। आरोप है कि चेतन ने नशीली दवाओं का कारोबार करने वाले फैक्ट्री मालिक को लाखों रुपये की फंडिग की है। आरोपित के पिता कुश परमार हिमाचल में पांच बार विधायक भी रह चुके हैं। जांच अधिकारी लवप्रीत सिंह ने बताया कि मामले में 24 से ज्यादा आरोपितों की गिरफ्तारी के लिए छापामारी की जा रही है।

उधर, पुलिस ने दवा मार्केट कटरा शेर सिंह में कारोबार करने वाले अमरप्रीत सिंह उर्फ सन्नी सिंह से पूछताछ की है। सन्नी ने बताया कि वह पिछले कुछ सालों से दिल्ली निवासी प्रेम झा और पावंटा साहिब में दवा की फैक्ट्री चलाने वाले मनीष मोहन से प्रतिबंधित दवाएं लेकर आगे दवा कारोबारियों को डिलीवर करता था। पुलिस अधिकारियों ने बताया कि फिलहाल सन्नी से कोई बरामदगी नहीं हुई है, लेकिन अपराध में उसकी शमूलियत साबित हो चुकी है। दवा मार्केट के 24 से अधिक कारोबारी निशाने पर

प्रतिबंधित दवाओं की खेप फोन पर ही डिलीवर करवा देने वाले सन्नी ने पुलिस हिरासत में अपने 24 से अधिक दुकानदारों के नाम कुबूले हैं। फिलहाल पुलिस मामले की गंभीरता से देखते हुए सभी संदिग्धों को गिरफ्तार करने की बजाय उन पर नजर रखे हुए है। उनकी काल डिटेल और उनकी गतिविधियों को खंगाला जा रहा है। जांच में सामने आया है कि सन्नी का सारा काम दवा मार्केट के प्रिस और मन्नू चौहान कर रहे थे। दोनों को पुलिस ने एफआइआर में नामजद कर लिया है। कांग्रेस का पूर्व नेता पुलिस कार्रवाई में बन रहा रोड़ा

पुलिस अधिकारियों ने बताया कि जैसे ही पुलिस ने दवा मार्केट पर शिकंजा कसना शुरू किया तो कांग्रेस के एक पूर्व नेता ने उनकी कार्रवाई को प्रभावित करने का प्रयास किया। नेता वर्तमान में एक अन्य पार्टी में शामिल हो चुका है। जब पुलिस सन्नी को काबू करने पहुंची तो उसने पुलिस को उलझा लिया और सन्नी फरार हो गया। पर बाद में पुलिस ने सन्नी को धर लिया। इस बारे में पुलिस के आला अधिकारियों ने उसकी रिपोर्ट डीजीपी मुख्यालय भेज दी है। पता चला है कि नेता कई कारोबारियों को बचाने के लिए एड़ी-चोटी का जोर लगा रहा है। मनीष ने जमानत अर्जी की दायर

पावंटा साहिब निवासी व फैक्ट्री मालिक मनीष मोहन ने अपनी रिहाई के लिए जमानत अर्जी कोर्ट में दायर की है। इस पर कोर्ट 17 जून को सुनवाई करेगी। बता दें इस मामले में पुलिस अब तक दस आरोपितों को गिरफ्तार कर चुकी है। इनमें समीर कुमार, सूरज, गुरमुख, मनीष मोहन, प्रेम झा, राणू भार्गव, राजेश वडेरा, प्रमोद, सन्नी और बब्लू शामिल हैं।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.