गुरु बाजार में लटक रहेबिजली के मीटर, लगता है पावरकाम दुर्घटना का इंतजार कर रहा

बाजार में बिजली की तारों का जाल फैला हुआ है बिजली के मीटर बाक्स लटक रहे हैं।

JagranSun, 22 Aug 2021 11:00 AM (IST)
गुरु बाजार में लटक रहेबिजली के मीटर, लगता है पावरकाम दुर्घटना का इंतजार कर रहा

कमल कोहली/अमनदीप, अमृतसर: श्री हरिमंदिर साहिब के नजदीक बना गुरु बाजार व्यापारिक दृष्टि से काफी विख्यात है। यह बाजार लोगों की पहली पसंद होता था। इस बाजार में सोने व कपड़े की अधिकतर दुकानें हैं। समय के बदलाव के साथ भी इस बाजार का सुधार नहीं हुआ। दुकानदार कई तरह की मूलभूत सुविधाओं से वंचित है। श्री हरमंदिर साहिब को जाने वाले रास्ते कई जगह से बंद होने के कारण इस बाजार में ट्रैफिक की समस्या जटिल हो गई है। ई-रिक्शा काफी संख्या मे गुजरते हैं, जोकि दुकानदारों के व्यापार को प्रभावित कर रही है। वहीं बाजार में बिजली की तारों का जाल फैला हुआ है, बिजली के मीटर बाक्स लटक रहे हैं। ऐसे में दुकानदारों का कहना है कि लगता है पावरकाम किसी हादसे का इंतजार कर रहा है। दूसरा उन्होंने कहा कि प्रशासन को ट्रैफिक समस्या का समाधान करने क लिए ई-रिक्शा के लिए कोई टी-प्वाइंट बनाना चाहिए। बाजार में मूलभूत सुविधाओं की कमी है ट्रैफिक जटिल समस्या है। ई-रिक्शा दोनों तरफ से आने जाने के कारण जाम लगा रहता है। भीड़ के कारण ग्राहक नहीं आता है। प्रशासन को समस्या की तरफ ध्यान देना चाहिए।

-जसवंत सिंह नारंग, प्रधान गुरु बाजार बाजार में बिजली की तारों का जाल बिछा हुआ है। हर समय भय रहता है कि आग न लग जाए। कपड़े की होलसेल की मार्केट है। इस बारे कई बार संबंधित विभाग को अवगत करवाया गया है पर उनकी कोई सुनवाई नहीं हो रही है।

-कुलदीप सिंह, दुकानदार सड़क टूटी हुई है। ट्रैफिक व्यवस्था ठीक नहीं है। दुकानदार मंदी का दौर से गुजर रहे है। बाजार में रिटेल का ग्राहक नहीं है। ट्रैफिक समस्या बनी हुई है। प्रशासन को इस तरफ ध्यान देना चाहिए। जो कमियां बाजार में है। उसको ठीक करना चाहिए।

अश्विनी कुमार, दुकानदार गुरु बाजार पहले ही तंग बाजार है। उस पर ई-रिक्शा की भरमार बाजार के व्यापार को प्रभावित कर रही है। जाम लगा रहता है। सरकार को इस पर ध्यान देना चाहिए ताकि दुकानदारों को ट्रैफिक समस्या से राहत मिल सके। पुलिस कर्मचारी भी तैनात किया जाना चाहिए।

कमल कुमार, दुकानदार पावरकाम को कई बार बिजली की तारों की शिकायतें की गई है पर उनके द्वारा कोई भी सुनवाई नहीं की जाती है। यह बाजार करोड़ों का व्यापार में मशहूर था। अब काफी कम हो गया है, जिसका मुख्य कारण बाजार में मूलभूत सुविधाएं नहीं है।

जितेंद्र पाल सिंह, दुकानदार हालात कोविड-19 के कारण काफी खराब है। कारोबार मंदी के दौर में हैं। उसके ऊपर ट्रैफिक की समस्या इस बाजार को मंदी के मार में धकेल रही है। ग्राहक डरता है। वाहन कहा रखा जाए। इससे दुकानदार भी परेशान हैं तथा ग्राहक भी परेशान रहते हैं।

अजीत सिंह नारंग, दुकानदार बाजार में ट्रैफिक की अधिक समस्या है। खासकर ई-रिक्शा की वजह से। ऐसे में ई-रिक्शों के लिए कोई टी-प्वाइंट बनाना चाहिए। बाजार में ई-रिक्शा का प्रतिबंध लगाना चाहिए ताकि ट्रैफिक की समस्या हल हो सके।

विनय भाटिया, दुकानदार ट्रैफिक की समस्या के समाधान के लिए प्रशासन को दुकानदारों के साथ बातचीत करनी चाहिए। ई-रिक्शा काफी संख्या में बाजार से गुजरते हैं, जो जाम का कारण बनते हैं। दुकानदारों को भी अपना माल रखने में काफी दिक्कत आती है। समस्या गंभीर है, इसका समाधान निकलना चाहिए।

-अमरजीत सिंह, दुकानदार बाजार में कई तरह की मूलभूत सुविधाओं की कमी है। शौचालय तक भी नहीं बना हुआ है। दुकानदार परेशान रहते हैं। ट्रैफिक की समस्या काफी जटिल है। बिजली की तारों का जाल बिछा हुआ है। इस तरफ किसी का कोई ध्यान नहीं है, जिससे इस बाजार का अपना अस्तित्व समाप्त होता जा रहा है।

नवनीत सिंह, दुकानदार दुकानदारों को यह डर रहता है कि बाजार में आग न लग जाए, क्योंकि बिजली की तारों के जाल बिछे हुए हैं। इसके अलावा बिजली कई कई घंटे बंद रहती है। यह समस्या भी बाजार में बनी रहती है। स्ट्रीट लाइट का भी बुरा हाल है।

अशोक सेठ, दुकानदार सड़क टूटी हुई है। मूलभूत सुविधाएं की काफी कमी है। पावरकाम को बिजली के तारों को ठीक करना चाहिए। नगर निगम को सड़क बनानी चाहिए।

हरीश खन्ना, दुकानदार गुरु नगरी का सबसे विख्यात बाजार गुरु बाजार अब अपना अस्तित्व समापन करता जा रहा है। क्योंकि बाजार में काफी कमियां है, जिसका प्रशासन को कोई ध्यान नहीं है। अगर प्रशासन इस तरफ ध्यान दें तो यह बाजार फिर से नंबर बन सकता है। ई-रिक्शा की समस्या को भी प्रशासन को हल करना चाहिए।

-संजीव दुआ, दुकानदार

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.