खंडवाला बिजली घर में बिजली गुल, कैश काउंटरों का काम प्रभावित

वेस्ट सब डिवीजन के खंडवाला बिजली घर में मंगलवार को बिजली गुल होने की वजह से कैश काउंटरों का काम प्रभावित रहा।

JagranTue, 21 Sep 2021 07:47 PM (IST)
खंडवाला बिजली घर में बिजली गुल, कैश काउंटरों का काम प्रभावित

जासं, अमृतसर : वेस्ट सब डिवीजन के खंडवाला बिजली घर में मंगलवार को बिजली गुल होने की वजह से कैश काउंटरों का काम प्रभावित रहा। इसमें विभागीय उपभोक्ताओं को बिलों का भुगतान करने के लिए बिजली आने का इंतजार करना पड़ा। बिजली घर में जेनरेटर व इनवर्टर ही नहीं बल्कि कंप्यूटरों के बैटरी बैकअप की भी सुविधा न होना भी पावरकाम की कार्यप्रणाली पर सवालीय चिन्ह लगाता है।

खंडवाला बिजली घर में बिजली के बिलों का भुगतान करने के लिए पहुंचे राज कुमार, शमशेर सिंह, राहुल कुमार, सुरिदर कौर, परवीन कौर व मुखतार सिंह ने बताया कि वे बिलों का भुगतान करने के लिए कैश काउंटरों की लाइन में खड़े थे। अचानक ही कैश काउंटरों की बिजली बंद होने से काम प्रभावित हो गया और कर्मचारी कैश काउंटरों से उठकर चले गए। कैश काउंटरों पर अंधेरा छा गया था और बाहर आकर बिजली आने का इंतजार करने लगे।

कोट खालसा निवासी इंदरजीत सिंह ने बताया कि उनके भाई सुरिदर सिंह की पत्नी का नाम लखविदर कौर है। लखविदर कौर को अब 8240 रुपये का बिल डिलीवर हुआ है। सिमें गलत अकाउंट में गई राशि को लखविदर कौर के बिल में एडजस्ट किया जाए, ताकि उनकी राशि का सही इस्तेमाल हो सके।

मरम्मत के चलते बिजली सप्लाई बाधित हुई

वेस्ट सब डिवीजन के एसडीओ धर्मिंदर सिंह का कहना है कि बिजली घर स्थित 66केवीए सब स्टेशन की रिपेयर चल रही थी। इसकी वजह से बिजली की सप्लाई प्रभावित होने से कैश काउंटर बंद हुए थे। जबकि कुछ देर बाद बिजली की सप्लाई चालू होने से कैश काउंटरों पर बिलों का मुकम्मल भुगतान हुआ है। वहीं दूसरी तरफ गलत अकाउंट में गई बिजली के बिल की राशि के रिफंड संबंधी उनका कहना है कि शिकायत मिलने के बाद उसका हल करवा दिया जाएगा।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.