जीएनडीएच की सफाई पर विवाद, सुलभ कंपनी के कर्मियों ने नए ठेकेदार को घेरा

पंजाब के प्रमुख चिकित्सा संस्थान गुरु नानक देव अस्पताल (जीएनडीएच) में सफाई पर दो निजी कंपनियों के कर्मचारियों के बीच ठन गई है।

JagranThu, 02 Dec 2021 05:00 AM (IST)
जीएनडीएच की सफाई पर विवाद, सुलभ कंपनी के कर्मियों ने नए ठेकेदार को घेरा

जागरण संवाददाता, अमृतसर : पंजाब के प्रमुख चिकित्सा संस्थान गुरु नानक देव अस्पताल (जीएनडीएच) में सफाई पर दो निजी कंपनियों के कर्मचारियों के बीच ठन गई है। सरकार ने अस्पताल की सफाई के लिए राधाकृष्ण फर्म को टेंडर जारी किया है। इससे पूर्व सुलभ इंटरनेशनल के पास सफाई का काम था। बुधवार को जैसे ही राधाकृष्ण फर्म का ठेकेदार अस्पताल पहुंचा तो सुलभ कर्मियों ने उसे घेर लिया। सुलभ कर्मियों ने ठेकेदार धर्मवीर सिंह से कहा कि उन्हें भी यहीं एडजस्ट करे, पर धर्मवीर ने इससे इन्कार किया। उसका तर्क था कि उसने टेंडर लिया है और उसके पास अपना स्टाफ है। इस बात पर सुलभ कर्मी भड़क गए। उन्होंने ठेकेदार के खिलाफ नारेबाजी की और उसे कमरे से बाहर नहीं निकलने दिया।

सुलभ कंपनी के सुपरवाइजर राजू ने कहा कि हमारे 45 कर्मचारी जीएनडीएच की सफाई कर रहे हैं। वह पिछले दस सालों से यहां काम कर रहे हैं। अचानक टेंडर दूसरी कंपनी को दे दिया गया और हमें कहीं भी एडजस्ट नहीं किया जा रहा। राधाकृष्ण कंपनी हमें एडजस्ट करे, ताकि हमारे परिवार का गुजारा चल सके। इधर, राधाकृष्ण कंपनी के ठेकेदार धर्म सिंह ने कहा कि उनके पास अपना स्टाफ है। हम उन्हें ही यहां तैनात करेंगे।

एमएस ने सुलभ व राधाकृष्ण कंपनी के अधिकारियों से की बात

सुलभ के कर्मचारियों ने मेडिकल सुपरिटेंडेंट डा. केडी सिंह से मिलकर अपनी व्यथा रखी। उन्होंने कर्मचारियों को आश्वासन दिया कि उनके साथ ज्यादती नहीं होगी। दैनिक जागरण से बातचीत में डा. केडी ने कहा कि नए ठेकेदार को काम समझते हुए काफी वक्त लगेगा। 1200 बेडेड अस्पताल की सफाई करना आसान काम नहीं है। सुलभ व राधाकृष्ण कंपनी का काम पंजाब सहित दिल्ली में भी है। हम दोनों कंपनियों के अधिकारियों से बात कर रहे हैं कि वह इन कर्मचारियों को कहीं भी एडजस्ट कर दें। सुलभ वाले भी इन्हें दूसरे राज्य अथवा जिले में तैनात कर सकते हैं। राधाकृष्ण वाले भी ऐसा कर सकते हैं। सभी को एडजस्ट करेंगे : डा. केडी

डा. केडी ने कहा कि सरकार की प्राथमिकता है कि जिन कर्मचारियों ने कोरोना काल में काम किया है उन्हें एडजस्ट करें। राधाकृष्ण कंपनी के अधिकारियों ने पहले चरण में कोरोना में काम करने वाले कर्मचारियों को रखने की बात कही है। सरकार नए पद सृजित करने जा रही है जिसमें कोविड में काम करने वाले कर्मचारियों चाहे वो सुलभ के हैं या फिर ठेके के कर्मी, उन्हें प्राथमिक तौर पर कहीं न कहीं लगाया जाएगा। किसी भी कर्मचारी को बेरोजगार नहीं होने देंगे। हालांकि इसके बाद सुलभ कर्मी दोपहर तीन बजे तक मेडिकल सुपरिटेंडेंट के कमरे के बाहर बैठे रहे।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.