वी हनुमंत राव ने सोनिया गांधी को लिखा पत्र, तेलंगाना कांग्रेस के अध्यक्ष पर फैसले के लिए AICC पर्यवेक्षक भेजने का आग्रह

तेलंगाना कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व सांसद वी हनुमंत राव ने शनिवार को पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी को पत्र लिखा। इसमें उन्होंने तेलंगाना कांग्रेस के नए अध्यक्ष का फैसला करने के लिए अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी (AICC) पर्यवेक्षकों को भेजने के लिए कहा।

TaniskSun, 13 Jun 2021 08:12 AM (IST)
तेलंगाना कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व सांसद वी हनुमंत राव ।

हैदराबाद, एएनआइ। तेलंगाना कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व सांसद वी हनुमंत राव ने शनिवार को पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी को पत्र लिखा। इसमें उन्होंने तेलंगाना कांग्रेस के नए अध्यक्ष का फैसला करने के लिए अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी (AICC) पर्यवेक्षकों को भेजने का आग्रह किया। राव ने अपने पत्र में इस बात पर प्रकाश डाला कि पिछले कुछ वर्षों से तेलंगाना कांग्रेस कमेटी में कांग्रेस के वफादार नेताओं और अन्य दलों से पार्टी में शामिल होने वाले नेताओं के बीच मतभेद चल रहा है।

राव ने कहा कि पार्टी ने मुद्दों को सुलझाने और पंजाब, केरल कर्नाटक जैसे राज्यों में एआइसीसी पर्यवेक्षकों की नियुक्ति की।माधोसोदन मिस्त्री को कर्नाटक में एआइसीसी पर्यवेक्षक के रूप में भेजा गया था, जबकि मल्लिकार्जुन खड़गे को पंजाब का पर्यवेक्षक बनाया गया था। हालांकि, जब तेलंगाना कांग्रेस की बात आती है, तो एआइसीसी आलाकमान केवल मनिकम टैगोर द्वारा भेजी गई रिपोर्ट पर निर्भर रहता है। अगर एआइसीसी पर्यवेक्षकों को तेलंगाना भेजा गया तो यह पार्टी के लिए बहुत फायदेमंद होगा।

कांग्रेस नेता ने सोनिया गांधी से कर्नाटक, पंजाब और केरल की तरह ही नीति अपनाने और टीपीसीसी अध्यक्ष और सीएलपी नेता की नियुक्ति सहित बड़े फैसले लेने से पहले एआइसीसी पर्यवेक्षकों को तेलंगाना भेजने और सभी वरिष्ठ कांग्रेस नेताओं की राय लेने का आग्रह किया। उन्होंने उन्हें चेताया कि टीपीसीसी प्रभारी पर भरोसा करके जल्दबाजी में निर्णय लेने से पार्टी को गंभीर नुकसान हो सकता है।

तेदेपा से अलग हुए और कांग्रेस पार्टी के टिकट पर जीतकर विधायक बनने वाले 12 नेताओं के बारे में बोलते हुए राव ने कहा कि इस बात की कोई गारंटी नहीं है कि अन्य दलों से आए नेता कांग्रेस में रहेंगे या नहीं। उन्होंने तेलंगाना में कांग्रेस पार्टी के व्यापक हित में और 2024 के आम चुनावों के लिए पार्टी को और मजबूत करने के लिए ये सुझाव दिए।  

इससे पहले राव ने पार्टी सांसद रेवंत रेड्डी की आलोचना की थी और टीपीसीसी अध्यक्ष के रूप में उनकी नियुक्ति का विरोध किया था। उन्होंने 4 जून को कहा था कि जिस नेता पर 'वोट फॉर नोट' और 'मनी लॉन्ड्रिंग' के आरोप हैं, वह टीपीसीसी अध्यक्ष कैसे बन सकता है? उन्होंने टीपीसीसी के नए अध्यक्ष के चयन में कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं की राय जानने के लिए कांग्रेस आलाकमान द्वारा एक समीक्षा बैठक आयोजित करने की मांग की।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.