राम मंदिर के लिए टेस्ट पिलर का निर्माण शुरू

राम मंदिर के लिए टेस्ट पिलर का निर्माण शुरू

श्री रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के सदस्यों ने निर्माण शुरू होने से पूर्व विधि-विधान से किया पूजन

JagranFri, 11 Sep 2020 11:06 PM (IST)

अयोध्या : रामजन्मभूमि पर मंदिर की नींव के लिए 12 सौ स्तंभ बनने हैं। शुक्रवार को इनमें से एक टेस्टिग पिलर की ढलाई का काम विधि-विधान से आरंभ हुआ। काम शुरू होने से पूर्व श्री रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के सदस्यों ने पूजन किया। इसके बाद खनन के लिए विशेष रूप से लायी गयीं रिग मशीन से गड्ढा खोदने का काम शुरू किया गया। टेस्ट पिलर बिल्कुल उसी तर्ज पर बनाया जा रहा है, नींव के जिस तरह के 1200 स्तंभों पर मंदिर का भार होगा और टेस्टिग के ही मकसद से टेस्ट पिलर पर उतना ही भार दिया जायेगा, जितना भार स्थायी मंदिर में नींव के स्तंभों पर होगा। नींव के स्तंभ एक मीटर व्यास के और सौ फीट की गहराई तक होंगे, तो टेस्ट पिलर भी इसी आकार का बनाया जा रहा है। शुरुआत रिग मशीन से कुएं की शक्ल में सौ फीट गहरा गड्ढा खोदने से हुई। इसके बाद इसमें विशेष तकनीक और वेग के साथ कंक्रीट भरा जाएगा। फिलहाल, टेस्ट पिलर के लिए कंक्रीट रामजन्मभूमि परिसर के कुछ ही फासले पर स्थित एक निजी प्लांट से मंगाया जा रहा है, पर अगले कुछ दिनों में रामजन्मभूमि परिसर में ही बैचिग प्लांट स्थापित होगा और चाहे टेस्ट पिलर हो या इसके बाद बनने वाले नींव के स्थायी स्तंभ हों, इनमें कंक्रीट भरने का काम इसी बैचिग प्लांट से किया जायेगा। टेस्ट पिलर निर्माण में 24 घंटा का ही वक्त लगने का अनुमान है। हालांकि इस पर पत्थरों का समुचित भार डालने के बाद पिलर के व्यवहार का अध्ययन आईआईटी- चेन्नई के विशेषज्ञ अभियंता करेंगे और जांच में यदि टेस्ट पिलर खरा साबित हुआ, तो इसी तर्ज पर मंदिर की नींव के लिए 1200 स्तंभों के निर्माण का काम निर्बाध गति से आगे बढ़ेगा।

------------------

बिमलेंद्र एवं डीएम ने फोड़े नारियल

- टेस्ट पिलर के निर्माण की शुरुआत के मौके पर निर्माण में प्रयुक्त यंत्रों का पूजन किया गया। मुख्य यजमान ट्रस्ट के सदस्य राजा अयोध्या बिमलेंद्र मोहन मिश्र रहे। इस अवसर पर शुभता के प्रतीक नारियल फोड़े गये। एक नारियल बिमलेंद्रमोहन मिश्र ने तथा दूसरा नारियल जिलाधिकारी एवं ट्रस्ट के पदेन सदस्य अनुज कुमार झा ने फोड़ा। इस मौके पर तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव चंपतराय, निर्मोही अखाड़ा के महंत व ट्रस्ट के सदस्य दिनेंद्रदास एवं मंदिर के मुख्य शिल्पी सीके सोमपुरा के पुत्र आशीष सोमपुरा भी मौजूद रहे।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.