सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने कहा- भाजपा का स्वतंत्रता आंदोलन से नहीं कोई संबंध, सिर्फ दिखावटी चर्चा

सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा का स्वतंत्रता आंदोलन से कोई संबंध नहीं रहा है।

सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने गुरुवार को चौरी चौरा में जनक्रांति के 100वें वर्ष में प्रवेश करने पर देश की आजादी के लिए अपने प्राण देने वाले शहीदों को नमन करते हुए श्रद्धांजलि दी। उन्होंने कहा कि देश सदैव शहीदों के बलिदान को याद रखेगा।

Umesh TiwariThu, 04 Feb 2021 10:29 PM (IST)

लखनऊ [राज्य ब्यूरो]। समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी का स्वतंत्रता आंदोलन से कोई संबंध नहीं रहा है। बीजेपी केवल दिखावटी चर्चा करती है। स्वतंत्रता आंदोलन की चर्चा करना ही पर्याप्त नहीं, बल्कि स्वतंत्रता सेनानियों के मूल्यों को अपनाकर उन पर चलने का संकल्प भी लेना चाहिए। अखिलेश यादव ने कहा कि प्रतिबद्धताएं व उसकी प्राथमिकताएं तय करने के साथ उन पर पूरी निष्ठा रखते हुए मन, कर्म, वचन से समर्पण करना होता है। भाजपा सरकार लोकतांत्रिक व्यवस्थाओं को कमजोर कर स्वतंत्रता सेनानियों के सपनों को नकार रही है।

सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने गुरुवार को चौरी चौरा में जनक्रांति के 100वें वर्ष में प्रवेश करने पर देश की आजादी के लिए अपने प्राण देने वाले शहीदों को नमन करते हुए श्रद्धांजलि दी। उन्होंने कहा कि देश सदैव शहीदों के बलिदान को याद रखेगा। सपा अध्यक्ष ने कहा कि स्वतंत्रता सेनानियों के स्तुतिगान से उनका सम्मान नहीं होता है। बल्कि पूरी श्रद्धा से उनके विचारों को आत्मसात करना होता है।

सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने कहा कि चौरी चौरा कांड से भाजपा को सबक लेना चाहिए। आज देश के किसान आंदोलित हैं। वह ठंड में कई साथियों को खोने के बाद भी खेती बचाने के लिए डटे हैं। जो बात किसान कह रहे हैं, भाजपा सरकार उसे सुनना नहीं चाहती है। तीन कृषि कानूनों की वापसी की मांग को लेकर आंदोलित किसानों के प्रति सरकारी रवैये से ज्यादा उम्मीद नहीं है। किसानों के प्रति क्रूरता और जनता के आक्रोश से भाजपा में भी असंतोष पनप रहा है। उन्होंने कहा कि समाजवादी सरकार के समय शहीदों के सम्मान में चौरी चौरा होते हुए गोरखपुर-देवरिया फोरलेन सड़क बनाकर शहीदों की स्मृति को स्थायित्व दिया गया था।

सपा के कामों पर अपना पत्थर लगा रही भाजपा : अखिलेश यादव ने गुरुवार को कहा कि जनता की याददाश्त इतनी खराब नहीं कि लखनऊ में उच्चस्तरीय कैंसर अस्पताल के निर्माता का नाम भूल जाए। भाजपा के पास कोई योजना न होने से इसका नेतृत्व हताशा में डूब गया है। उन्होंने कहा कि समाजवादी सरकार ने कैंसर अस्पताल बनवाया। अब जब विदाई की बेला आ गई है तो मुख्यमंत्री समाजवादी सरकार के कामों पर अपने नाम का पत्थर लगवा रहे हैं। कैंसर इंस्टीट्यूट एंड हॉस्पिटल का लोकार्पण सपा सरकार में वर्ष 2016 में ही हो चुका है। भाजपा सरकार चार साल में भी उसका संचालन नहीं कर पाई।

भाजपा व बसपा के कई नेता सपा में शामिल : भाजपा व बसपा के कई नेता गुरुवार को सपा में शामिल हो गए। सपा के प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल ने सभी को पार्टी की सदस्यता दिलाई। पार्टी में शामिल होने वालों में भाजपा के प्रबोध गोस्वामी, मंजुला गोस्वामी, मोमिन खां, रामस्वरूप, मनोज सिंह व अखिलेश मिश्र तथा बसपा के हैदर अली, इलियास खां, साबित अली, दिलीप रावत, विनोद रावत, तौफीक शेख व साबिर मंसूर ने भी साइकिल थाम ली। जिलाजीत यादव व अरुण कुमार यादव ने भी गुरुवार को सपा की सदस्यता ग्रहण कर ली।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.