Mission Shakti: यूपी में मिशन शक्ति का बड़ा असर, नौ दिन में 36 हजार दोषियों ने शपथपत्र देकर की छेड़छाड़ से तौबा

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश में 17 अक्टूबर को मिशन शक्ति का शुभारंभ करने के साथ कड़े निर्देश दिए थे
Publish Date:Mon, 26 Oct 2020 11:56 PM (IST) Author: Dharmendra Pandey

लखनऊ, [राज्य ब्यूरो]। महिला तथा बहन बेटियों के साथ अभद्र व्यवहार करने के साथ छेड़छानी करने वालों के खिलाफ प्रदेश सरकार के अभियान का बड़ा असर हो रहा है। मिशन शक्ति के तहत प्रदेश में मां,बहन व बेटियों के खिलाफ अपराध के केस में मिशन शक्ति का बड़ा असर हो गया है। प्रदेश में नौ दिन में 36 हजार दोषियों ने शपथपत्र देकर की छेड़छाड़ से तौबा कर ली है।

मिशन शक्ति के तहत पहले चरण में महिलाओं से छेड़छाड़ व बदसलूकी करने वाले 36 हजार से अधिक दोषियों को पुलिस ने सबक सिखाया है। एंटी रोमियो स्क्वायड ने उनसे भविष्य में दोबारा ऐसी गलती न करने के शपथपत्र भी लिए हैं। सुधारात्मक कार्रवाई की कड़ी में पुलिस ने शपथपत्र लेने के बाद संबंधित लोगों को कड़ी चेतावनी देकर छोड़ा है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश में 17 अक्टूबर को मिशन शक्ति का शुभारंभ करने के साथ ही महिलाओं से छेड़छाड़ करने वालों पर शिकंजा कसने के कड़े निर्देश दिए थे। इसी के तहत सूबे में महिलाओं की शिकायतों पर कार्रवाई का दायरा लगातार बढ़ रहा है। अभियान के तहत एक दिन में 1090 पर आई महिलाओं की 933 शिकायतों पर कार्रवाई की गई। वहीं मिशन शक्ति अभियान के तहत 17 से 25 अक्टूबर के बीच 112 के जरिये महिलाओं से जुड़ी 6932 शिकायतों पर भी कार्रवाई की गई है। इनमें घरेलू हिंसा की 5994 शिकायतें तथा छेडख़ानी के 938 मामले शामिल हैं।

गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव अवनीश कुमार अवस्थी ने बताया कि अभियान के तहत वूमेन पावर लाइन (1090), यूपी 112 तथा एंटी रोमियो स्कवायड को और तेज कार्रवाई करने का निर्देश दिया गया है। उन्होंने बताया कि विशेष अभियान के तहत सूबे में 1574 एंटी रोमियो स्क्वायड सक्रिय हैं। एंटी रोमियो स्क्वायड ने मिशन शक्ति के तहत 25 अक्टूबर तक 59,277 स्थानों पर 2.33 लाख से अधिक व्यक्तियों की चेकिंग की। इसमें 36,595 व्यक्तियों से शपथपत्र लेकर उन्हें छोड़ा गया। जिन लोगों से शपथपत्र लिए गए, उनमें 12,204 अभिभावक भी शामिल हैं।

उन्होंने बताया कि 1090 पर 25 अक्टूबर को आईं कुल काल में 933 मामलों में कार्रवाई की जा रही है। इनमें 543 शिकायतों का निस्तारण 1090 के स्तर से किया जा रहा है, जबकि शेष 468 शिकायतें कार्रवाई के लिए अन्य संबंधित विभागों को भेजी गई हैं। इनमें 303 शिकायतों पर 112 की पीआरवी पर तैनात पुलिसकर्मियों को त्वरित कार्रवाई के लिए मौके पर भेजा गया। साथ ही 165 शिकायतों पर थाना स्तर से कार्रवाई सुनिश्चित कराई जा रही है। छह मामलों में एफआइआर भी दर्ज कराई गई है। उन्होंने बताया कि लखनऊ सेफ सिटी परियोजना के तहत पिंक पेट्रोल वाहनों तथा 25 पिंक बूथों को क्रियाशील करा दिया गया है। मिशन शक्ति के तहत 9,166 आरोपितों को पाबंद कराए जाने के साथ ही 4653 आरोपितों के विरुद्ध शांतिभंग करने के तहत चालान व 1524 आरोपितों के विरुद्ध गुंडा एक्ट समेत अन्य विधिक कार्रवाई की गई है।

महिलाओं व बालिकाओं की सुरक्षा और अधिक सुदृढ़ करने के लिए अब 1574 एण्टी रोमियो दल सक्रिय हैं। महिलाओं की सुरक्षा, सम्मान एवं स्वावलम्बन के लिए महिला पुलिसकर्मियों का दस्ता पूरे शहर में भ्रमण कर रहा है। इसके अन्तर्गत पिंक पेट्रोल के वाहन तथा 25 पिंक बूथ क्रियाशील हैं। इसके साथ ही 1524 व्यक्तियों पर हुई गुण्डा एक्ट के तहत कार्रवाई की गई है।  

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.