top menutop menutop menu

मायावती को अमित शाह की चुनौती स्वीकार, प्रियंका ने कहा-जागरूक जनता सब समझती है

लखनऊ, जेएनएन। बहुजन समाज पार्टी (BSP) की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने गृह मंत्री अमित शाह की चुनौती को स्वीकार करते हुए कहा कि बीएसपी नागरिकता संशोधन कानून (CAA), राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर (NRC) और राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (NPR) पर बहस के लिए तैयार है। उन्होंने बुधवार को ट्वीट कर कहा कि केंद्र सरकार सीएए के खिलाफ पूरे देश में हो रहे आंदोलनों से परेशान हो गई है। 

बसपा सुप्रीमो ने ट्वीट में लिखा है कि 'आति विवादित CAA/NRC/NPR के खिलाफ पूरे देश में खासकर युवाओं और महिलाओं के संगठित होकर संघर्ष और आंदोलित होने से परेशान केंद्र सरकार की लखनऊ की रैली में विपक्ष को इस मुद्दे पर बहस की चुनौती को बीएसपी किसी भी मंच पर और कहीं भी स्वीकार करने को तैयार है।'

 

बता दें कि मंगलवार को लखनऊ के रामकथा पार्क में सीएए के समर्थन में आयोजित रैली को संबोधित करते हुए गृहमंत्री अमित शाह ने विपक्ष पर निशाना साधा था। सीएए का विरोध करने वाले इन सभी नेताओं को उन्होंने ललकारा कि यदि इस कानून की कोई भी धारा किसी की नागरिकता ले सकती है तो वह मुझे दिखाइये। उन्हें चुनौती दी कि यदि उनमें हिम्मत है तो इस कानून पर बहस करने के लिए सार्वजनिक मंच ढूंढ़ें। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह उनसे मुकाबला करने के लिए तैयार हैं।

सपा अध्यक्ष को भी स्वीकार है चुनौती

इससे पहले समाजवादी पार्टी (SP) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भी गृहमत्री अमित शाह की चुनौती स्वीकार की है। अखिलेश ने कहा कि भाजपा के लोग मंच तय कर लें, स्थान तय कर लें, हम विकास के मुद्दे पर बहस करने के लिए तैयार हैं, लेकिन भाजपा के लोग बेरोजगारी और विकास के मुद्दे पर बहस नहीं करना चाहते हैं। उन्होंने भाजपा पर आरोप लगाया कि वह लगातार मुद्दों से भटकाने की राजनीति कर रही है।

जागरूक जनता सब समझती है: प्रियंका

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की चुनौती पर कांग्रेस महासचिव व प्रदेश प्रभारी प्रियंका वाड्रा ने भाजपा के अलावा बिना नाम लिए सपा बसपा पर निशाना साधा। बुधवार को उन्होंने ट्वीट किया, 'अजीब दास्तां है ये..कहां शुरू कहां खत्म. गृह मंत्री जी उप्र में उन्हें चुनौती दे रहे हैं जो उनके खिलाफ लडऩे के लिए घर से बाहर तक नहीं निकले और जिन्हें गृह मंत्री जी को चुनौती देनी चाहिए वे दूसरे प्रदेशों की समस्याओं की बातें कर रही हैं। उप्र की जागरूक जनता सब समझती है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.