किसानों को गेहूं बेंचने में नहीं होगी परेशानी, बनाए गए 78 गेहूं खरीद क्रय केंद्

रामपुर जिले में गेहूं की फसल बेंचने के लिए अब किसानों को भटकने की जरूरत नहीं होगी।

रामपुर जिले में गेहूं की फसल बेंचने के लिए अब किसानों को भटकने की जरूरत नहीं होगी। किसान समीपवर्ती क्रय केंद्र पर ही गेहूं की बिक्री कर सकेंगे। इसके लिए ई-पास मशीन में क्षेत्र के किसानों का डाटा फीड कर जियो टैगिग की जाएगी।

Sant ShuklaWed, 24 Mar 2021 08:08 PM (IST)

मुरादाबाद, जेएनएन। रामपुर जिले में गेहूं की फसल बेंचने के लिए अब किसानों को भटकने की जरूरत नहीं होगी। किसान समीपवर्ती क्रय केंद्र पर ही गेहूं की बिक्री कर सकेंगे। इसके लिए ई-पास मशीन में क्षेत्र के किसानों का डाटा फीड कर जियो टैगिग की जाएगी। इसमें उसके नजदीकी क्रय केंद्र का विवरण दर्ज होगा।

शासन के निर्देश पर पहली अप्रैल से गेहूं की खरीद शुरू की जा रही है। अभी गेहूं खरीद का लक्ष्य नहीं मिला है, लेकिन स्थानीय प्रशासन ने तैयारियां शुरू कर दी हैं। फिलहाल 78 क्रय केंद्र बनाए गए हैं। इनकी संख्या बाद में और बढ़ाई जाएगी। जिले में पिछले साल गेहूं खरीद 1.59 लाख एमटी लक्ष्य मिला था। हालांकि कोरोना काल में लक्ष्य पूरा नहीं हो पाया था। तब 96 हजार 700 मीट्रिक टन खरीद हो सकी थी। इस बार खरीद का कोई लक्ष्य नहीं मिला है। हालांकि खाद्य विभाग ने खरीद के लिए तैयारियां शुरू कर दी हैं। खरीद के लिए सात एजेंसियां एफसीआइ, खाद्य विभाग, पीसीएफ, पीसीयू, एसएफसी, यूपीएसएस और मंडी परिषद को जिम्मेदारी दी गई है। इस बार नेफेड, एनसीसीएफ और यूपी एग्रो खरीद में शामिल नहीं होंगे। खरीद के बाद गेहूं रखने के लिए बोरों की पांच हजार गांठे आ चुकी हैं। एक गांठ में 500 बोरे होते हैं। इस तरह 25 लाख बोरे उपलब्ध हो चुके हैं। जिला खाद्य विपणन अधिकारी अनुपम निगम ने बताया कि किसानों की समस्या के लिए कंट्रोल रूम बनाया गया है। गेहूं बिक्री को लेकर कोई भी जानकारी चाहिए या समस्या होने पर किसान कंट्रोल रूम के नंबर 0595-2329575 पर काल कर सकते हैं।

मनमानी तरीके से गेहूं रिजेक्ट नहीं कर सकेंगे क्रय प्रभारी

नमी अधिक बताकर क्रय केंद्र प्रभारी अब मनमानी तरीके से किसान का गेहूं रिजेक्ट नहीं कर सकेंगे। प्रशासन ने इसके लिए रिजेक्शन कमेटी बनाई है। केंद्र प्रभारी द्वारा गेहूं रिजेक्ट करने पर किसान क्षेत्रीय विपणन अधिकारी से संपर्क कर सकता है। इसके बाद कमेटी गेहूं की जांच करेगी।

1350 किसानों ने कराया पंजीकरण

गेहूं बिक्री के लिए अभी तक 1350 किसानों ने पंजीकरण करा लिया है। गेहूं बेचने के लिए आनलाइन पंजीकरण जरूरी है। किसान अपने मोबाइल से खुद या फिर साइबर कैफे पर जाकर पंजीकरण करा सकते हैं। जो पहले से पंजीकृ़त हैं, उन्हें दोबारा पंजीकरण कराने की जरूरत नहीं है। पंजीकरण खाद्य विभाग के पोर्टल fcs.up.gov.in पर कराएं।

गत वर्ष के सापेक्ष एजेंसीवार स्वीकृत क्रय केंद्र का तुलनात्मक विवरण

एजेंसी वर्ष 2020 वर्ष 2021

एफसीआइ 00 02

खाद्य विभाग 09 13

पीसीएफ 55 45

पीसीयू 35 00

एसएफसी 03 03

यूपीएसएस 14 12

मंडी परिषद 00 03

-- -- -- -- -- -- -- -- -- -- -- -- -- -- -- -- -- -- -- -- -- -- -- -- -- -- -- -- -- -

कुल 116 78

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.