top menutop menutop menu

दुष्‍यंत चौटाला की पार्टी JJP नहीं लड़ेगी दिल्‍ली विधानसभा चुनाव, करेगी BJP के लिए प्रचार

पंचकूला/चंडीगढ़, जेएनएन/एएनआइ। Delhi Assemby Election 2020 को लेकर हरियाणा के उपमुख्‍यमंत्री दुष्‍यंत चौटाला ने बड़ा ऐलान किया है। दुष्‍यंत चौटाला ने कहा कि जननायक जनता पार्टी दिल्‍ली विधानसभा चुनाव नहीं लड़ेगी। जजपा ने सारे हालात की समीक्षा करने के बाद अपने उम्‍मीदवार चुनाव मैदान में नहीं उतारने का फैसला किया है। इसके साथ ही दुष्‍यंत ने कहा कि दिल्‍ली विधानसभा चुनाव में भाजपा का समर्थन करेंगे और उसके पक्ष में प्रचार करेंगे।

पसंद का चुनाव चिन्ह नहीं मिलने पर दिल्ली के रण से हटी जजपा

दिल्‍ली विधानसभा चुनाव 2020 लड़ने की पूरी तैयारी कर चुकी जननायक जनता पार्टी के अचानक चुनावी रण से कदम वापस खींच लेने से राजनीतिक जानकार हैरान रह गए हैं। दुष्यंत चौटाला ने चुनाव आयोग द्वारा उनकी पसंद का चुनाव चिन्ह आवंटित नहीं किए जाने को आधार बनाते हुए चुनावी रण से हटने की यह घोषणा की। चंडीगढ़ में पत्रकारों के सवालों का जवाब देते हुए दुष्यंत चौटाला ने कहा कि उनकी भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा से बात हुई है।

चंडीगढ़ में जजपा नेताओं के साथ पत्रकारों से बातचीत करते हरियाणा के उप मुख्‍यमंत्री दुष्‍यंत चौटाला।

दुष्‍यंत चौटाला ने कहा कि जजपा अब दिल्ली में भाजपा उम्मीदवारों के हक में चुनाव प्रचार करेगी। इस बारे में जजपा की दिल्ली इकाई और एनसीआर के जिलाध्यक्षों से भी बातचीत हो चुकी है। उनकी पार्टी का कोई कार्यकर्ता निर्दलीय भी चुनाव नहीं लड़ेगा। भाजपा उन्हें जिन सीटों पर की जिम्मेदारी सौंपेगी, वहां प्रचार किया जाएगा।

दुष्यंत के अनुसार, जननायक जनता पार्टी ने हरियाणा का विधानसभा चुनाव चाबी चुनाव चिन्ह पर लड़ा था। इससे पहले पार्टी को जींद उपचुनाव में कप प्लेट निशान मिला था। लोकसभा के चुनाव में चप्पल चुनाव चिन्ह मिला था। जजपा को चुनाव आयोग द्वारा क्षेत्रीय दल के रूप में मान्यता प्रदान की गई है। चुनाव आयोग ने दिल्ली में कप-प्लेट और चप्पल के चुनाव चिन्ह सितंबर माह तथा चाबी का चुनाव चिन्ह दिसंबर माह में अन्य दलों को आवंटित कर दिए थे।

दुष्यंत चौटाला ने कहा कि जजपा को अपने पुराने तीन चुनाव चिन्हों में से कोई नहीं मिला, इसलिए पार्टी की पांच सदस्यीय समिति ने नए चुनाव चिन्ह की बजाय चुनाव न लड़ने का फैसला किया। दुष्यंत ने चुनाव मैदान से हटने के पीछे राजनीतिक कारणों से इन्‍कार किया। उन्होंने कहा कि जजपा कार्यकर्ताओं की चुनाव को लेकर पूरी तैयारी थी, लेकिन ज्यादातर नेता इस बात के हक में नहीं थे कि नए राज्य में किसी नए चुनाव चिन्ह पर चुनाव लड़ा जाए।

एक सवाल के जवाब में दुष्यंत चौटाला ने कहा कि भाजपा के नव निर्वाचित अध्यक्ष जेपी नड्डा के साथ उनकी दो बार बातचीत हो चुकी है। भाजपा का शीर्ष नेतृत्व जहां भी उनकी तथा जजपा कार्यकर्ताओं की डयूटी लगाएगा, पार्टी वहां जाकर चुनाव प्रचार करेगी और बूथ संभालने का काम करेगी। आम आदमी पार्टी तथा शिरोमणि अकाली दल के विरोध में खुलकर बोलने से बचते हुए दुष्यंत चौटाला ने कहा कि भाजपा व जजपा का एकमात्र लक्ष्य इस चुनाव के दौरान ऐसी राजनीतिक ताकतों को दिल्ली से बाहर करना है, जिन्होंने सीएए व एनआरसी के मुद्दे पर देशवासियों को गुमराह करने का प्रयास किया है।

बता दें किे Delhi Assembly Election में जजपा चुनाव लड़ने की तैयारी कर रही थी। पार्टी बाहरी दिल्‍ली के जाट बहुल सीटों पर चुनाव लड़ना चाहती थी और इसके लिए वह भाजपा के साथ गठबंधन करना चाहती थी। जजपा करीब 12 सीटाें पर चुनाव लड़ना चाहती थी। भाजपा और जजपा के बीच चुनाव में गठबंधन को लेकर वार्ता भी हुई व कुछ सीटों पर समझौते को लेकर कयासबाजी भी चली।

इसी बीच भाजपा ने उन सीटों के लिए अपने उम्‍मीदवारों के नाम घोषित कर दिए जिन पर दुष्‍यंत चौटाला जजपा के उम्‍मीदवार खड़ा करना चाहते थे। इसके बाद भाजपा और जजपा का चुनावी समझौता खटाई में पड़ता दिखा। समझा जाता है कि भाजपा ने पार्टी के हरियाणा के जाट नेताओं के दबाव में जजपा से चुनावी समझौते में रुचि नहीं दिखाई। इसके बाद मंगलवार को दुष्‍यंत ने दिल्‍ली विधानसभा चुनाव 2020 नहीं लड़ने की घोषणा की।

पंचकूला में जजपा की बैठक में हरियाणा के उपमुख्‍यमंत्री दुष्‍यंत चौटाला व अन्‍य नेता।

जजपा के सदस्यता अभियान को देंगे मजबूती

दुष्यंत चौटाला ने मंगलवार को जजपा के जिलाध्यक्षों की बैठक में सदस्यता अभियान की समीक्षा की। उन्होंने बताया कि एक माह के भीतर 20 जनवरी तक चार लाख से अधिक नए सदस्य जजपा के साथ जुड़े हैैं। विधानसभा चुनाव में जजपा को 18 लाख यानी 15 फीसदी वोट मिले। ऐसे में जजपा का परिवार लगातार बढ़ता जा रहा है। दुष्यंत ने कहा कि अगले एक माह तक पार्टी द्वारा न केवल सदस्यता अभियान चलाया जाएगा बल्कि दूसरे राजनीतिक दलों में समान विचारधारा और अच्छी राजनीतिक छवि वाले नेताओं को भी जजपा में शामिल किया जाएगा।

इससे पहले दुष्‍यंत चौटाला मंगलवार को दिल्‍ली से पंचकूला पहुंचे। उन्‍होंने जननायक जनता पार्टी की राज्यस्तरीय बैठक की। पार्टी का सदस्‍यता अभियान 20 दिसंबर 2019 से 20 जनवरी 2020 तक चलाए गया। बैठक में पार्टी प्रदेश प्रधान सरदार निशान सिंह, राष्ट्रीय प्रधान महासचिव डॉ. केसी बांगड़, प्रदेश कार्यालय सचिव रणधीर सिंह समेत पार्टी के अन्य कई वरिष्ठ नेता मौजूद रहे। बैठक में प्रदेश के सभी 22 जिलों के शहरी व ग्रामीण जिला अध्यक्ष भी बैठक में  पहुंचे।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.