शिवसेना नेता संजय राउत के साथ हुई मुलाकात पर फडनवीस बोले, कोई राजनीतिक बात नहीं हुई

पूर्व सीएम फड़नवीस से मुलाकात पर संजय राउत ने दी सफाई
Publish Date:Sun, 27 Sep 2020 11:07 AM (IST) Author: Babita kashyap

मुंबई, एएनआइ।  शिवसेना नेता संजय राउत से शनिवार को हुई मुलाकात को लेकर पूर्व मुख्‍यमंत्री फडनवीस ने कहा कि संजय राउत जी शिवसेना के अखबार सामना के लिए मेरा साक्षात्कार लेना चाहते थे। इस पर चर्चा के लिए बैठक आयोजित की गई थी, मैं चाहता था कि इसे शिवसेना के मुखपत्र सामना में प्रकाशित किया जाए। बैठक में कोई राजनीतिक बातचीत नहीं हुई। 

गौरतलब है कि ऐसा कहा जा रहा है कि शिवसेना नेता संजय राउत ने शनिवार को कुछ खास मुद्दों को लेकर देवेंद्र फडणवीस से मुलाकात की थी। राउत ने कहा था कि वह महाराष्ट्र में विपक्ष के नेता हैं और बिहार चुनाव के लिए भाजपा प्रभारी हैं। हमारे आपस में वैचारिक मतभेद हो सकते हैं लेकिन हम दुश्मन नहीं हैं। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को हमारी इस बैठक के बारे में जानकारी है।

पांच सितारा होटल में पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस एवं शिवसेना नेता संजय राउत की डेढ़ घंटे चली इस मुलाकात ने कयासों का बवंडर खड़ा कर दिया है। हालांकि, राउत और भाजपा की तरफ से इस मुलाकात के राजनीतिक निहितार्थ नहीं निकालने की बात कही गयी है। लेकिन, फड़नवीस के करीबी नेता प्रवीण दरेकर का कहना है कि राजनीति में कुछ भी संभव है। हालांकि मुलाकात से पहले दोनों दलों की ओर से ये सूचना गुप्त रखी गयी थी। बात सार्वजनिक होने पर राउत ने सफाई देते हुए कहा कि वह शिवसेना के मुखपत्र सामना के लिए फड़नवीस का इंटरव्‍यू लेना चाहते हैं। 

 बता दें कि कुछ दिन पहले शिवसेना नेता संजय राउत ने ट्वीट कर भाजपा-शिवसेना के संबंध सुधरने की तरफ इशारा किया था । अब सवाल ये उठ रहा है कि क्या यह मुलाकात दोनों दलों के आपसी संबंधों को पुन: गठबंधन के स्तर तक ले जाने का प्रयत्‍न है? इस मुलाकात के बाद प्रदेश भाजपा अध्यक्ष चंद्रकांत दादा पाटिल ने भी यह कहकर सवाल खड़ा कर दिया है कि वर्तमान सरकार को गिराने का प्रयत्‍न हम नहीं करेंगे। लेकिन यदि यह अपने ही अंतर्विरोधों के कारण गिरी, तो क्या होगा? 

जिस गठबंधन में शिवसेना और अकाली दल नहीं उसे NDA नहीं कहा जा सकता- संजय राउत 

शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा कि राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) के मजबूत स्तंभ शिवसेना (Shivsena) और अकाली दल थे। शिवसेना को मजबूरन एनडीए से बाहर निकलना पड़ा, अब अकाली दल निकल गया। एनडीए को अब नए साथी मिल गए हैं, मैं उनको शुभकामनाएं देता हूं। जिस गठबंधन में शिवसेना और अकाली दल नहीं हैं, मैं उसको एनडीए नहीं मानता। गौरतलब है कि भाजपा की सहयोगी शिरोमणि अकाली दल ने शनिवार शाम एनडीए से अलग होने की घोषणा की थी। अकाली दल के इस फैसले से सियासी हलचल पैदा हो गयी थी। वहीं, शिवसेना के राज्यसभा सांसद और पार्टी प्रवक्ता संजय राउत ने कहा कि जिस गठबंधन में शिवसेना और अकाली दल नही, उसे एनडीए नहीं कहा जा सकता है। 

 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.