कृषि मंत्री ने ममता बनर्जी को पत्र लिख कहा -राज्य सहयोग करे तो किसानों के खाते में जमा हो जाएगी राशि

केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी।

गत सोमवार को ही ममता सरकार ने इस योजना को बंगाल में लागू करने को लेकर दिलचस्पी दिखाई थी। सूत्रों के मुताबिक इस योजना का लाभ लेने के लिए राज्य के लगभग 21 लाख किसानों ने केंद्र सरकार के पास आवेदन किया है।

Publish Date:Wed, 06 Jan 2021 10:56 PM (IST) Author: Arun kumar Singh

 कोलकाता, राज्य ब्यूरो। केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि के संबंध में एक पत्र लिखा है। उन्होंने पत्र में कहा है कि राज्य सहयोग करे तो किसानों के खातों में योजना के अनुसार राशि जमा हो जाएगी। इसके साथ ही ममता को राज्य में एक नोडल अधिकारी नियुक्त करने तथा राज्य से आवेदन करने वाले किसानों की सूची की जांच करने का भी अनुरोध किया है। 

बंगाल की सीएम से केंद्रीय कृषि मंत्री ने किया अनुरोध 

गौरतलब है कि गत सोमवार को ही ममता सरकार ने इस योजना को बंगाल में लागू करने को लेकर दिलचस्पी दिखाई थी। सूत्रों के मुताबिक इस योजना का लाभ लेने के लिए राज्य के लगभग 21 लाख किसानों ने केंद्र सरकार के पास आवेदन किया है। इस आधार पर केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने राज्य सरकार को आवेदकों की सूची को सत्यापित करने का निर्देश दिया है। मुख्यमंत्री ने कहा है कि इससे उन्हें कोई आपत्ति नहीं है। उन्होंने कहा कि हमने सत्यापन के लिए सूची मांगी है। सूची मिल जाने पर सत्यापित कर दिया जाएगा। किसानों को राशि मिलनी चाहिए। 

गौरतलब है कि हाल ही में केंद्र को लिखे पत्र में ममता बनर्जी ने कहा था कि पीएम किसान सम्मान निधि की राशि राज्य के खजाने में भेजी जाए, जिसके बाद वह किसानों को दी जाएगी। इसे लेकर जमकर राजनीति हुई थी। बंगाल में इस योजना को शुरू नहीं करने को लेकर पीएम नरेंद्र मोदी, केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह, भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा से लेकर अन्य कई भाजपा नेता ममता सरकार पर लगातार यह कहते हुए हमला बोल रहे थे कि किसानों को लाभ से वंचित किया जा रहा है।

लगातार हो रहे हमले के बाद गत सोमवार को ममता ने इस योजना को लागू करने के संकेत दे दिए। ममता ने कहा था कि अगर आपको विश्वास नहीं है, तो हमें सूची भेजें, हमारी सरकार सत्यापित कर देगी।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.