पीएम सुरक्षा को अभेद्य बनाने में लगे 21 जिलों के साढ़े तीन हजार जवान

पीएम सुरक्षा को अभेद्य बनाने में लगे 21 जिलों के साढ़े तीन हजार जवान
Publish Date:Wed, 05 Aug 2020 11:47 PM (IST) Author: Jagran

अयोध्या : प्रधानमंत्री की सुरक्षा को लेकर रणनीति महज 15 दिनों के भीतर बुनी गई। कम समय के भीतर प्रशासन और पुलिस ने रामनगरी को अभेद्य दुर्ग में तब्दील कर दिया। कोरोना से बचाव के इंतजाम पुख्ता करते हुए पीएम का कार्यक्रम संपन्न कराना चुनौती भरा था, लेकिन प्रशासन ने अपनी सूझबूझ से इस अग्निपरीक्षा को पास कर लिया। पीएम के आने के 48 घंटे पहले ही जिले से लेकर रामनगरी के अंदर सुरक्षा व निगरानी को बढ़ा दिया गया था। बुधवार को सुबह से लेकर पीएम के रवानगी तक किसी को भी रामनगरी ही नहीं जिले की सीमा में भी प्रवेश नहीं मिला। जालौन, लखनऊ, गोरखपुर, इटावा सहित 21 जिलों की साढ़े तीन हजार फोर्स पीएम सुरक्षा में तैनात रही, जिसमें पैरामिलिट्री भी शामिल है। इन सुरक्षाकर्मियों की मेहनत का परिणाम रहा कि पीएम का कार्यक्रम निर्विघ्न संपन्न हुआ। राममंदिर के भूमि पूजन में पीएम शामिल होंगे यह 25 जुलाई को पुष्ट हुआ, लेकिन संभावना के मद्देनजर प्रशासन 19 जुलाई से ही तैयारी शुरू कर चुका था। जिलाधिकारी अनुज झा के पास समय कम था और जिम्मेदारी बड़ी थी। मंडलायुक्त एमपी अग्रवाल, आईजी रेंज डॉ. संजीव गुप्त का मार्गदर्शन अधिकारियों को मिलता रहा। यही वजह रही की सीएम की समीक्षा में प्रशासन की कार्ययोजना बेहतर ही मिली। इसी बीच एसएसपी आशीष तिवारी का 26 जुलाई को स्थानांतरण हो गया। चित्रकूट से स्थानांतरित होकर आए डीआइजी दीपक कुमार ने सुरक्षा तैयारियों की कमान संभाली। पहले से ही पीएम के दो कार्यक्रमों को संपन्न करा चुके दीपक कुमार के पास अनुभव था, जिसका इस्तेमाल उन्होंने बखूबी किया। पीएम सुरक्षा के महत्वपूर्ण ¨बदु यातायात की कार्ययोजना तैयार करने की जिम्मेदारी एसपी सिटी विजयपाल ¨सह, सीओ यातायात अर¨वद चौरसिया को सौंपी गई। कार्यक्रम समाप्त होने के बाद बुधवार को अपने निर्धारित समय पर पीएम का हेलीकॉप्टर साकेत हेलीपैड से उड़ते ही प्रशासन ने राहत की सांस ली।

............

पाबंदियों में मिली रियायत

-कार्यक्रम समाप्त होने के बाद पीएम, राज्यपाल और सीएम के रवाना होने के बाद पाबंदियों में धीरे-धीरे रियायत दी जाने लगी। पुलिस अधिकारियों की माने तो देरशाम तक यातायात पूरी तरह से प्रतिबंधों से मुक्त कर दिया जाएगा।

...........

होटल से लेकर स्कूल तक में ठहरी फोर्स

-पीएम सुरक्षा के लिए आई फोर्स अधिक संख्या में थी। इनके ठहरने के लिए शहर के स्कूल, होटल, मैरिज लॉन, गेस्ट हाउस में व्यवस्था करनी पड़ी।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.