यूएई की मध्यस्थता के बीच हो रही भारत-पाकिस्तान के विदेश मंत्रियों की दुबई यात्रा

यूएई की तरफ से मध्यस्थता की खबरों के बीच दोनों नेताओं की यात्रा।

अमेरिका में यूएई के राजदूत यूसुफ अल ओतैबा ने सार्वजनिक तौर पर स्वीकार किया कि उनका देश भारत व पाक के बीच मध्यस्थता कर सकता है। कुछ घंटों में पता चलेगा कि दुबई में दोनों देशों के विदेश मंत्रियों की उपस्थिति में ये रास्ते खुलते हैं या नहीं।

Bhupendra SinghSat, 17 Apr 2021 10:25 PM (IST)

जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। भारत और पाकिस्तान के बीच यूएई की तरफ से मध्यस्थता करने की खबरों के बीच रविवार को विदेश मंत्री एस जयशंकर संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) पहुंच रहे हैं। उनकी इस यात्रा को लेकर कूटनीतिक गलियारों में इसलिए भी ज्यादा चर्चा है, क्योंकि शनिवार को पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी यूएई पहुंच चुके हैं। भारत और पाकिस्तान के रिश्तों में वर्ष 2016 से तल्खी चल रही थी, लेकिन फरवरी 2021 में दोनों देशों ने संघर्ष विराम की घोषणा की है। यह सूचना भी आ रही है कि दोनों देशों की खुफिया एजेंसियों के बीच बैक चैनल वार्ता हो रही है।

विदेश मंत्री जयशंकर 18 अप्रैल को पहुंचेंगे यूएई, आर्थिक सहयोग पर होगी वार्ता

जयशंकर की इस यात्रा को लेकर विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने दो लाइन का ट्वीट किया है। बागची ने बस इतना लिखा है कि अपने समकक्ष के आमंत्रण पर विदेश मंत्री जयशंकर 18 अप्रैल, 2021 को यूएई की यात्रा पर जा रहे हैं। वहां पर उनकी बातचीत मुख्य तौर पर आर्थिक सहयोग और सामुदायिक कल्याण पर होगी। इसके अलावा विदेश मंत्रालय की तरफ से कोई जानकारी नहीं दी गई है।

भारत और यूएई के बीच मजबूत होता आर्थिक सहयोग

आम तौर पर विदेश मंत्री की यात्रा की जानकारी देने के लिए विदेश मंत्रालय की तरफ से विस्तृत ब्योरा दिया जाता है। वैसे भारत और यूएई के बीच लगातार उच्चस्तरीय कूटनीतिक संपर्क होता है। आना-जाना भी लगा रहता है। दोनों देशों के बीच आर्थिक सहयोग भी लगातार मजबूत हो रहा है और वहां काम करने वाले तकरीबन 25 लाख भारतीयों के कल्याण के संदर्भ में भी दोनों देश लगातार संपर्क में रहते हैं।

भारत व पाक के बीच यूएई मध्यस्थता कर सकता: राजदूत ओतैबा

भारत और पाकिस्तान के बीच बैक चैनल वार्ता को लेकर दोनों देशों की तरफ से आधिकारिक तौर पर अभी तक कुछ नहीं कहा गया है। लेकिन पिछले गुरुवार को अमेरिका में यूएई के राजदूत यूसुफ अल ओतैबा ने सार्वजनिक तौर पर स्वीकार किया कि उनका देश भारत व पाक के बीच मध्यस्थता कर सकता है।

ओतैबा ने कहा- कश्मीर में हालात को सामान्य करने और सीजफायर कराने में यूएई की भूमिका

उन्होंने यहां तक दावा किया कि कश्मीर में हालात को सामान्य करने और सीजफायर कराने में भी यूएई की भूमिका है। इसके पहले यह सूचना भी आई थी कि भारत और पाकिस्तान की खुफिया एजेंसियों की दुबई में बैठक हुई है।

दुबई में भारत और पाक के विदेश मंत्रियों की उपस्थिति में क्या रास्ते खुलेंगे

माना जाता है कि बैक चैनल में दोनों देशों के बीच बातचीत भारत के एनएसए अजीत डोभाल और पाकिस्तान के पीएम इमरान खान के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार मोईद यूसुफ की देखरेख में हो रही है। सनद रहे कि जब भारत व पाक की सेनाओं के बीच सीज फायर की घोषणा हुई थी तब मोईद यूसुफ ने कहा था कि दोनों देशों के बीच कूटनीतिक संपर्क बना हुआ है और आने वाले दिनों में कई और रास्ते खुलेंगे। अब यह अगले कुछ घंटों में पता चलेगा कि दुबई में दोनों देशों के विदेश मंत्रियों की उपस्थिति में ये रास्ते खुलते हैं या नहीं।

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.