चुनावी हार को लेकर सोनिया ने जल्द कार्यसमिति की बैठक बुलाने की कही बात, नतीजों को बताया निराशाजनक

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की फाइल फोटो

सोनिया गांधी ने यह एलान भी किया कि हार पर चर्चा लिए कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक जल्द ही बुलाई जाएगी। सोनिया ने पार्टी की हार को अप्रत्याशित और निराशाजनक करार देते हुए इससे सबक लेकर भविष्य का रास्ता तय करने के संकेत देने की कोशिश भी की।

Dhyanendra Singh ChauhanFri, 07 May 2021 09:15 PM (IST)

संजय मिश्र, नई दिल्ली। पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की दुर्दशा पर पार्टी में अंदरूनी उबाल की आहट भांपते हुए अध्यक्ष सोनिया गांधी ने हार की ईमानदारी से समीक्षा करने की बात कही है। उन्होंने यह एलान भी किया कि हार पर चर्चा लिए कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक जल्द ही बुलाई जाएगी। सोनिया ने पार्टी की हार को अप्रत्याशित और निराशाजनक करार देते हुए इससे सबक लेकर भविष्य का रास्ता तय करने के संकेत देने की कोशिश भी की।

चुनावी हार को लेकर कार्यसमिति की बैठक बुलाने में इस बार देरी नहीं किए जाने के कांग्रेस हाईकमान के एलान को पार्टी में असंतोष के स्वर गंभीर होने की आशंका का नतीजा माना जा रहा है। हालांकि केरल और असम में पार्टी जिस तरह सत्ता से एक बार फिर बाहर रह गई और बंगाल में उसका सफाया हुआ है, उसे देखते हुए कांग्रेस की मौजूदा दशा-दिशा पर सवाल उठा रहे पार्टी के नेता हार की समीक्षा भर की बात से संतुष्ट होंगे इसकी गुंजाइश कम ही है।

चुनावी नतीजों ने कांग्रेस के बाहरी और भीतरी राजनीतिक संकट को और बढ़ाया

पार्टी के असंतुष्ट नेताओं के समूह जी-23 की ओर से लगातार संकेत दिए जा रहे हैं कि पांच राज्यों के नतीजों ने कांग्रेस के बाहरी और भीतरी राजनीतिक संकट को कहीं ज्यादा बढ़ा दिया है। एक वरिष्ठ असंतुष्ट नेता ने कहा कि अब केवल सतही समीक्षा और कमेटी बनाकर मुद्दों को टालने की रणनीति नहीं चल पाएगी क्योंकि पानी सिर से ऊपर बहने लगा है। इसलिए कार्यसमिति को न केवल हार की समीक्षा करनी होगी बल्कि जवाबदेही भी स्पष्ट रूप से तय करनी होगी। मगर इससे भी ज्यादा अहम है कि कांग्रेस को डूबने से बचाने के लिए संगठन के ढांचे में व्यापक बदलाव से लेकर संसदीय बोर्ड के गठन जैसे अहम फैसले करने होंगे। सामूहिक नेतृत्व और सामूहिक निर्णय का ढांचा बनाना होगा। खासकर बंगाल में ममता बनर्जी की धमाकेदार जीत के बाद क्षेत्रीय पार्टियों की देश में विपक्ष का राष्ट्रीय विकल्प तैयार करने की सक्रियता को देखते हुए कांग्रेस अपनी राजनीतिक स्थिति और भूमिका दोनों को तुरंत स्पष्ट नहीं करेगी तो पार्टी कहीं की नहीं रहेगी।

कांग्रेस नेतृत्व को भी अब पार्टी के भीतर सुलग रहे असंतोष और बेचैनी के इन स्वरों का अंदाजा होने लगा है। तभी सोनिया ने कांग्रेस संसदीय दल की बैठक में चुनावी हार की समीक्षा के लिए जल्द कार्यसमिति की बैठक बुलाने की घोषणा की। ममता बनर्जी और स्टालिन को बधाई देते हुए बैठक में सोनिया ने कहा कि कार्यसमिति जल्द इन नतीजों की समीक्षा करेगी मगर एक पार्टी के रूप में हमें सामूहिक रूप से विनम्रता की भावना से इस झटके को स्वीकार करते हुए सबक लेना चाहिए।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.