कांग्रेस में खुली जंग के संकेत, दिग्गजों ने पार्टी की मजबूती के बहाने नेतृत्व को कठघरे में डाला

जम्मू में शांति सम्मेलन कांग्रेस की सियासी खींचतान का खुला अखाड़ा बन गया।

जम्मू में गांधी की विचारधारा के प्रसार के नाम पर हुआ शांति सम्मेलन कांग्रेस की सियासी खींचतान का खुला अखाड़ा बन गया। इस दौरान कांग्रेसी दिग्गज पार्टी को बचाने के नाम पर अपनी ही पार्टी हाईकमान से लड़ाई जारी रखने का संकेत दे गए।

Krishna Bihari SinghSat, 27 Feb 2021 10:11 PM (IST)

नवीन नवाज, जम्मू। सिर पर भगवा रंग की डोगरा पगड़ी और निशाने पर कांग्रेस नेतृत्व। जम्मू में गांधी की विचारधारा के प्रसार के नाम पर हुआ शांति सम्मेलन कांग्रेस की सियासी खींचतान का खुला अखाड़ा बन गया। इस दौरान गुलाम नबी आजाद के साथ देशभर से आए कांग्रेसी दिग्गज कांग्रेस को बचाने के नाम पर अपनी ही पार्टी हाईकमान से लड़ाई जारी रखने का संकेत दे गए। भले ही किसी बड़े नेता का नाम नहीं लिया, लेकिन पार्टी की हालत के लिए शीर्ष नेतृत्व पर सवाल उठाने से भी वे नहीं चूके।

बदलाव के लिए बुलंद की आवाज 

शनिवार को गांधी ग्लोबल फैमिली की ओर से आयोजित शांति सम्मेलन में पूर्व मुख्यमंत्री गुलाम नबी आजाद के नेतृत्व में जमा हुए कांग्रेस के धुरंधरों ने साफ कर दिया कि बीते साल अगस्त में उन्होंने जिस बदलाव के लिए आवाज उठाई थी, उसे लाए बिना वह चैन से नहीं बैठने वाले। उन्होंने कहा कि जी-23 कहने वाले जान लें, यह गांधी-23 है, यह गांधी की कांग्रेस है, यही असली कांग्रेस है। खास बता यह है कि इन नेताओं ने कश्मीर और अन्य मसलों पर सरकार की नीतियों को कोसा लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का एक बार भी नाम नहीं लिया।

आजाद का शक्ति प्रदर्शन

राज्यसभा का कार्यकाल पूरा होने के बाद गुलाम नबी आजाद पहली बार शुक्रवार को जम्मू पहुंचे। उनके साथ पार्टी के वरिष्ठ नेता और पूर्व मंत्री कपिल सिब्बल, आनंद शर्मा, मनीष तिवारी, हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र हुड्डा, राज बब्बर और राज्यसभा सदस्य विवेक तन्खा भी आए थे। गुलाम नबी आजाद गांधी ग्लोबल फैमिली के अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष हैं। अलबत्ता, गांधी ग्लोबल फैमिली का शांति सम्मेलन सिर्फ कांग्रेस के इन नेताओं को सम्मानित करने तक सीमित नहीं रहा। सम्मेलन एक तरह से गुलाम नबी आजाद के लिए शक्ति प्रदर्शन करने का मौका और कांग्रेस नेतृत्व पर दबाव बनाने का अवसर अधिक दिखा।

मैं राज्यसभा से रिटायर हुआ हूं, राजनीति से नहीं 

गुलाम नबी आजाद ने कहा कि मैंने गांधी की विचारधारा से अपनी राजनीति शुरू की थी। हमारी जिंदगी भी इसी विचारधारा के साथ समाप्त होगी। उन्होंने कहा कि राजनीति में कभी लड़ाई खत्म नहीं होती, कभी यह बेरोजगारी के खिलाफ होती है तो कभी अशिक्षा और गरीबी के खिलाफ तो कभी निजाम बदलने के लिए। उन्होंने कहा कि मैं राजनीति से रिटायर नहीं हुआ हैं। मैं संसद से कई बार यूं रिटायर हुआ हूं। 

आजाद बोल- मैं वो सूरज हूं जो... 

गुलाम नबी आजाद ने कहा कि मैं वो सूरज हूं, जो इस तरफ डूबता है तो उस तरफ से फिर निकल आता है। हम कांग्रेस को मजबूत बनाएंगे। उन्होंने जम्मू-कश्मीर के हालात का जिक्र करते हुए कहा कि हमें यहां कई चीजों के खिलाफ लड़ना है। प्रदेश से पाकिस्तान और चीन की सीमाएं लगती हैं। हम तभी इनका मुकाबला कर सकेंगे जब आपस में प्यार और मुहब्बत से रहें। उन्होंने देश की एकता अखंडता के लिए सुरक्षाबलों की सराहना करते हुए कहा कि बीते डेढ़ साल से प्रदेश के हालात ठीक नहीं हैं। प्रदेश के टुकड़े हो गए हैं, हमारी पहचान चली गई है। यहां जल्द विधानसभा बहाल होनी चाहिए।

इन नेताओं ने पिछले साल सोनिया गांधी को लिखी थी चिट्ठी 

पूर्व सांसद गुलाम नबी आजाद समेत कांग्रेस के 23 वरिष्ठ नेताओं ने अगस्त में कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी को एक पत्र लिखकर कांग्रेस नेतृत्व की नीतियों के प्रति अपना असंतोष जताया था। इन नेताओं ने कांग्रेस की नीतियों में सुधार पर जोर देते हुए जमीनी स्तर के नेताओं व कार्यकर्ताओं को शामिल कर संगठनात्मक चुनाव कराने पर जोर दिया था। हालांकि दिसंबर, 2020 में सोनिया गांधी के साथ बागी नेताओं की मुलाकात के बाद विरोध के स्वर कुछ शांत होते नजर आ रहे थे। कहा जा रहा था कि दोनों पक्ष एक समझौते पर पहुंच गए हैं पर यह अब भंग होता नजर आ रहा है।

जानें किसने क्‍या कहा

राज बब्बर : कुछ लोग हमें जी-23 कहते हैं, मैं कहता हूं कि यह गांधी-23 है। यही असली कांग्रेस है। आजाद साहब की राजनीतिक यात्रा समाप्त नहीं हुई है, यह तो अभी आधी भी नहीं हुई है।

मनीष तिवारी : आज जिस मुश्किल दौर से कांग्रेस और यह मुल्क गुजर रहा है, उसमें हमें गुलाम नबी आजाद की सबसे ज्यादा जरूरत है।

कपिल सिब्बल : मुझे समझ नहीं आता कि कांग्रेस गुलाम बनी आजाद का इस्तेमाल क्यों नहीं करती। हमें इस देश में एक नई आजादी की लड़ाई लड़नी है। इसके लिए हम सब एक हैं।

आनंद शर्मा : हम नहीं चाहते कि कांग्रेस कमजोर हो। कांग्रेस की पहचान हम लोगों से है। हम कांग्रेस को बनाएंगे। दूसरे दल भी चाहते हैं कि कांग्रेस मजबूत हो, ताकि यहां एक मजबूत विपक्ष हो।

भूपेंद्र सिंह हुड्डा : गुलाम नबी आजाद का सफर समाप्त नहीं हुआ है, इनका नया सफर, नया संघर्ष शुरू हुआ है। कांग्रेस में दो तरह के लोग हैं और उनमें से एक वह हैं, जिनमें कांग्रेस पूरी तरह रची बसी है। आजाद उनमें से एक हैं।

वीके तन्खा : हम जम्मू-कश्मीर के हक के लिए संसद के भीतर और बाहर हर जगह आवाज उठाते रहेंगे। जम्मू-कश्मीर हमारा एक हिस्सा है, हमारा परिवार है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.