कोरोना हालात पर चर्चा के लिए हो संसद का विशेष सत्र, सांसदों ने की मांग

कोरोना हालात पर चर्चा के लिए हो संसद का विशेष सत्र, सांसदों ने की मांग

कोविड-19 महामारी के कारण देश में हालात खराब है। सांसदों ने मांग की है कि हालात पर चर्चा के लिए सांसदों ने संसद के विशेष सत्र की मांग रखी है। इस क्रम में शिवसेना सांसद संजय राउत कांग्रेस सांसद मनीष तिवारी ने अपनी मांग रखी है।

Monika MinalMon, 19 Apr 2021 01:25 PM (IST)

नई दिल्ली, एएनआइ। शिवसेना के संजय राउत (Shiv Sena MP Sanjay Raut) और कांग्रेस सांसद मनीष तिवारी (Manish Tewari) ने सोमवार को देश में बढ़ रहे कोरोना हालात पर चिंता जताई और इसपर चर्चा के लिए संसद के विशेष सत्र बुलाए जाने की पेशकश की।

शिवसेना सांसद ने कहा, 'मैं संसद के विशेष सत्र की मांग इसलिए कर रहा हूं क्योंकि कल देश के प्रमुख नेताओं से मेरी चर्चा हो रही थी और सबकी मांग थी कि उनके राज्य में भी गंभीर स्थिति है। ऐसे मामले में अगर सरकार विशेष सत्र बुलाती है तो हर राज्य की स्थिति के बारे में वहां खुलकर चर्चा होगी।'  इससे पहले उन्होंने कहा कि देश में जंग जैसे हालात हैं। सांसद ने कहा,'हर जगह चिंता और दुख का माहौल है। कम से कम दो दिन के लिए संसदीय सत्र बुलाई जानी चाहिए।' 

कांग्रेस सांसद मनीष तिवारी ने राष्ट्रपति से अपील किया है कि महामारी पर चर्चा के लिए दो दिन के लिए आपातकालीन संसद सत्र आयोजित किया जाना चाहिए ताकि इस संकट से निकलने के लिए संयुक्त रूप से रणनीतियों पर चर्चा हो सके। एक वीडियो स्टेटमेंट में उन्होंने कहा, 'देश के राष्ट्रपति से मैं दो दिन के लिए संसद का आपातकालीन सत्र बुलाए जाने की अपील करता हूं। देश में हालात खराब होती जा रही है।' उन्होंने कहा कि दफन करने और अंतिम संस्कार के लिए भी अब जगह नहीं है। देश में ऑक्सीजन, बेड, वेंटिलेटर और वैक्सीन की कमी हो गई है।

भारत में पिछले 24 घंटों में 2,73,810 नए कोरोना संक्रमण के मामले दर्ज किए गए हैं। सोमवार को स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी इन आंकड़ों के अनुसार आज लगातार पांचवां दिन है जब देश में 2 लाख से अधिक संक्रमण के नए मामले सामने आए हैं। इसके बाद अब तक देश में संक्रमितों के कुल मामलों का आंकड़ा 1,50,61,919 हो गया है। भारत में रविवार को 2,61,500 नए कोविड-19 के मामले आए, वहीं शनिवार को 2,34,692,  गुरुवार और शुक्रवार को 2,00,739 और 2,17,353 मामले दर्ज किए गए। 

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.