अठावले ने की 2024 चुनाव परिणाम की भविष्यवाणी, बोले- प्रशांत किशोर के मत बनो आदी, पीएम पक्के अंबेडकरवादी

रामदास अठावले ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी ने साल 2019 के लोकसभा चुनाव में प्रशांत किशोर के बिना 303 सीटें जीती थीं। उन्होंने कहा कि सदन में भी एनडीए को विपक्षी दलों का समर्थन मिल रहा है।

Neel RajputMon, 14 Jun 2021 09:49 AM (IST)
रामदास अठावले का खास अंदाज में विपक्ष पर हमला

नई दिल्ली, एएनआइ। केंद्रीय मंत्री और आरपीआइ प्रमुख रामदास अठावले ने अलग अंदाज में विपक्ष पर हमला बोला है। इस दौरान उन्होंने हालही में हुई चुनाव रणनीतिकार प्रशांत किशोर और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी सुप्रीमो शरद पवार की मीटिंग पर भी निशाना साधा। अठावले ने कहा कि प्रशांत किशोर और शरद पवार की मुलाकात से विपक्ष का कोई बड़ा फॉर्मूला नहीं निकलेगा। उन्होंने कहा कि इससे सभी विपक्षी नेता एक साथ नहीं आ सकते हैं।

इस दौरान उन्होंने विपक्ष पर निशाना साधते हुए कहा कि प्रशांत किशोर के मत बनो आदी, नरेंद्र मोदी इज पक्के अंबेडकरवादी, 2024 में फिर से पीएम बनेंगे मोदी। उन्होंने आगे कहा कि भारतीय जनता पार्टी ने साल 2019 के लोकसभा चुनाव में प्रशांत किशोर के बिना 303 सीटें जीती थीं। उन्होंने कहा कि सदन में भी एनडीए को विपक्षी दलों का समर्थन मिल रहा है। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि साल 2024 में एनडीए पीएम मोदी के नेतृत्व में एक बार फिर से जीत हासिल करेगा।

तीन घंटे चली प्रशांत किशोर और शरद पवार की बैठक

शुक्रवार को शरद पवार और प्रशांत किशोर की बैठक तीन घंटे तक चली। पवार के आवा सिल्‍वर ओक में चली इस बैठक में राकांपा के प्रदेश अध्यक्ष जयंत पाटिल को भी बुलाया गया था। हालांकि इन नेताओं के बीच किस मुद्दे को लेकर चर्चा हुई इस पर पूरी जानकारी सामने नहीं आई। इस पर कई तरह के कयास लगाये जा रहे थे। माना जा रहा था कि आने वाले समय में प्रशांत किशोर राकांपा या समूची महाविकास आघाड़ी के लिए काम कर सकते हैं। हालांकि राकांपा के वरिष्ठ नेता एवं राज्य के उपमुख्यमंत्री अजीत पवार ने इनकार करते हुए इन अटकलों पर विराम लगा दिया।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.