वेंकैया नायडू बोले- मंत्री के हाथों से प्रति छीन कर हवा में लहराना संसदीय लोकतंत्र पर हमला

राज्यसभा के सभापति एम वेंकैया नायडू (M Venkaiah Naidu) ने उच्च सदन में प्रोद्योगिकी एवं संचार मंत्री अश्विनी वैष्णव के हाथों से टीएमसी सदस्य शांतनु सेन द्वारा बयान की प्रति छीनकर उसके टुकड़े हवा में लहराने की घटना को सदीय लोकतंत्र पर हमला करार दिया है।

Krishna Bihari SinghFri, 23 Jul 2021 05:08 PM (IST)
राज्यसभा के सभापति एम वेंकैया नायडू ने उच्च सदन में लगातार हो रहे हंगामे पर क्षोभ प्रकट किया है।

नई दिल्‍ली, एजेंसियां। राज्यसभा के सभापति एम वेंकैया नायडू (M Venkaiah Naidu) ने उच्च सदन में लगातार हो रहे हंगामे पर क्षोभ प्रकट किया है। उन्‍होंने (Rajya Sabha Chairman) शुक्रवार को प्रोद्योगिकी एवं संचार मंत्री अश्विनी वैष्णव के हाथों से टीएमसी सदस्य शांतनु सेन द्वारा बयान की प्रति छीनकर उसके टुकड़े हवा में लहराने की घटना को 'सदीय लोकतंत्र पर हमला' करार दिया। साथ ही सदस्यों से सदन की कार्यवाही बाधित ना करने और जनहित से जुड़े मुद्दों पर चर्चा करने की गुजारिश की।

एम वेंकैया नायडू (M Venkaiah Naidu) ने शुक्रवार को कहा कि हंगामे के चलते संसद का मानसून सत्र शुरू होने के बाद अब तक केवल कोविड-19 महामारी के मुद्दे पर चार घंटे की चर्चा हो पाई है और इसके अलावा कोई अन्य कामकाज नहीं हो पाया है। ऐसे में जब महामारी के खतरे के बीच यह सत्र आयोजित हुआ है तो इसमें जनता से जुड़े महत्‍वपूर्ण मुद्दों पर चर्चा की जानी चाहिए। राज्‍यसभा के सभापति ने बृहस्पतिवार को सदन में हुए हंगामे और इस दौरान शांतनु सेन सहित अन्य विपक्षी नेताओं के आचरण को अशोभनीय बताया।

सभापति ने कहा कि गुरुवार को सदन जो कुछ हुआ उससे निश्चित तौर पर सदन की गरिमा प्रभावित हुई है। कार्य मंत्रणा समिति की बैठक में पहले ही साफ कर दिया गया था कि सदस्यगण मंत्री के बयान के बाद सवाल पूछकर अपनी शंकाओं का निवारण कर सकते हैं। लेकिन गुरुवार को दुर्भाग्यवश सदन की कार्यवाही तब निम्न स्पर पर पहुंच गई जब मंत्री के हाथों से बयान की प्रति छीन कर उसके टुकड़े हवा में लहरा दिए गए। यह संसदीय लोकतंत्र पर हमला है। ऐसी घटनाओं से दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र की गरिमा को चोट पहुंचती है।

उल्‍लेखनीय है कि प्रोद्योगिकी एवं संचार मंत्री अश्विनी वैष्णव बृहस्पतिवार को इजराइली स्पाईवेयर पेगासस के जरिए भारतीयों की कथित जासूसी के मसले पर सदन में बयान दे रहे थे। इसी दौरान टीएमसी और कुछ अन्य विपक्षी दल के सदस्य हंगामा करते हुए आसन के नजदीक पहुंच गए और नारेबाजी करने लगे। वहीं टीएमसी के सदस्य शांतनु सेन ने केंद्रीय मंत्री अश्विनी वैष्णव के हाथों से बयान की प्रति छीन ली और उसके टुकड़े कर हवा में उछाल दिया। इस मामले में शांतनु सेन को उनके गलत व्‍यवहार की वजह से पूरे मानसून सत्र के लिए राज्‍य सभा से निलंबित कर दिया गया है।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.