top menutop menutop menu

राहुल ने कहा, सरकार के तीन गलत कदमों से उफान पर बेरोजगारी, प्रियंका ने भी बोला हमला

राहुल ने कहा, सरकार के तीन गलत कदमों से उफान पर बेरोजगारी, प्रियंका ने भी बोला हमला
Publish Date:Sun, 09 Aug 2020 08:33 PM (IST) Author: Krishna Bihari Singh

नई दिल्ली, जेएनएन। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने देश में बेरोजगारी की दर चिंताजनक स्तर पर पहुंचने के लिए राजग सरकार की नीतियों को जिम्मेदार ठहराया है। राहुल ने कहा है कि नोटबंदी, त्रुटिपूर्ण जीएसटी और आनन-फानन में लागू किए गए लॉकडाउन के चलते अर्थव्‍यवस्‍था तहस नहस हो गई और बेरोजगारी उफान पर पहुंच गई है।

14 करोड़ हुए बेरोजगार

बेरोजगारी के खिलाफ युवा कांग्रेस के 'रोजगार दो अभियान' में शामिल होते हुए राहुल ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जब सत्ता संभाली थी तो हर साल दो करोड़ युवाओं को रोजगार देने का वादा किया था लेकिन आज देश के 14 करोड़ लोगों को बेरोजगार बना दिया है। यह नोटबंदी, जीएसटी की खामियों और बिना विचार के लागू किए लॉकडाउन का परिणाम है।

रोजगार युवा भारत की जरूरत : प्रियंका वाड्रा

वहीं कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा कि युवा शक्ति भारत की ताकत है। भाजपा सरकार की रोजगार नष्ट करने वाली नीतियों के ठीक विपरीत आज भारत के युवाओं के लिए रोजगार के ज्यादा अवसर खड़े करने की आवश्यकता है। रोजगार युवा भारत की मांग है। रोजगार युवा भारत की जरूरत है।

रोजगार के बगैर नहीं चल पाएगा देश : कांग्रेस

कांग्रेस प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा कि पीएम मोदी ने साल 2014 में सत्ता संभाली थी तब बेरोजगारी की दर 4.9 फीसद थी जो मई 2020 में 29 फीसद के चिंताजनक स्तर पर पहुंच गई है। रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि रोजगार के बगैर न देश चल पाएगा, न देश का युवा इसीलिए देश के युवाओं को गुण के आधार पर रोजगार दिया जाए।

सोनिया अभी बनी रहेंगी कांग्रेस अध्यक्ष

कांग्रेस अध्‍यक्ष पर अभी तक फैसला नहीं होने के मद्देनजर सोनिया गांधी अंतरिम अध्यक्ष का कार्यकाल पूरा होने के बाद भी पार्टी की कमान अभी संभालती रहेंगी। अंतरिम अध्यक्ष बने सोमवार को एक साल हो जाएंगे। पार्टी ने कहा कि कांग्रेस कार्यसमिति सोनिया गांधी के अध्यक्ष के तौर पर कार्यकाल के विस्तार को लेकर जरूरी प्रक्रिया जल्‍द पूरा कर लेगी।

फुलटाइम अध्यक्ष पर जल्द हो फैसला : थरूर

बहरहाल, पार्टी के अंदर ही यह आवाज भी उठ रही है कि फुलटाइम अध्यक्ष पर जल्द फैसला होना चाहिए। कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने एक समाचार एजेंसी से बातचीत में कहा है कि यह धारणा नहीं बननी चाहिए कि पार्टी दिशाविहीन है और चुनौतियों का सामना करने में असमर्थ है। 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.