कोरोना के प्रति सचेत करते हुए पीएम ने कहा- कहीं सटीक न हो जाए वो शायरी... कश्‍ती वहीं डूबी जहां पानी कम था

केंद्र और राज्‍यों को मिलकर करना होगा काम: प्रधानमंत्री मोदी

Prime Minister Narendra Modi Virtual Meeting प्रधानमंत्री मोदी ने स्‍पष्‍ट तौर पर कहा कि कोविड-19 के मामले में दूसरे देशों की तुलना में भारत बेहतर हालात में हैं। साथ ही उन्‍होंने महामारी से निपटने के लिए केंद्र व राज्‍यों को मिलकर काम करने की बात कही।

Publish Date:Tue, 24 Nov 2020 03:09 PM (IST) Author: Monika Minal

नई दिल्‍ली, एएनआइ। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को आठ राज्‍यों के मुख्‍यमंत्री के साथ वर्चुअल बैठक की और कोविड-19 संक्रमण के कारण उत्‍पन्‍न हालात पर चर्चा की। कोविड-19 संक्रमण से स्‍वस्‍थ होने वालों व इसके कारण होने वाली मौत के आंकड़ों का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने  संक्रमण के आने वाले नए मामलों की दर को कम करने की आवश्‍यकता पर जोर दिया। उन्‍होंने कहा कि पॉजिटिविटी रेट को पांच फीसद से कम करने और  RT-PCR टेस्‍ट को बढ़ाने की जरूरत है।

आपदा के गहरे समुद्र से आए हैं बाहर: पीएम मोदी

प्रधानमंत्री ने कोविड-19 से अब तक जारी जंग का उल्‍लेख किया और कहा, 'हम आपदा के गहरे समुद्र से बाहर आए हैं। दुनिया का मानना था कि भारत महामारी से नहीं बच पाएगा लेकिन हम आपदा के गहरे समुद्र से निकलकर किनारे की ओर बढ़ रहे हैं। हमारे साथ पुरानी शायरी कहीं सटीक न हो जाए कि हमारी कश्ती भी वहां डूबी जहां पानी कम था। यह स्थिति हमें नहीं आने देना है। जिन देशों में कोरोना कम हो रहा था, वहां तेजी से संक्रमण फैल रहा है। हमारे देश के कई राज्यों में भी यही ट्रेंड है इसलिए हमें पहले से अधिक जागरूक होना होगा।'

1 फीसद से कम हो मृत्‍यु दर: पीएम मोदी

उन्‍होंने कहा, 'देश में कोविड-19 के लिए काफी बेहतर प्रबंधन का इंतजाम है। इस क्रम में आगे की रणनीति के तहत पॉजिटिविटी रेट और मृत्‍यु दर में कमी लाने की जरूरत है। इसके तहत आने वाले नए मामलों की  दर 5 फीसद से कम और मृत्‍यु दर 1 फीसद से कम  करने पर काम करने की जरूरत है।'  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज COVID-19 स्थिति को लेकर मुख्यमंत्रियों के साथ एक वर्चुअल बैठक की। बैठक में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह भी शामिल हुए।

वैक्‍सीन के वितरण के लिए ब्‍लॉक स्‍तर पर टीम का गठन 

उन्‍होंने आगे कहा, 'मैं चाहता हूं कि ब्‍लॉक स्‍तर पर टीम का गठन हो जो वैक्‍सीन की ट्रेनिंग और डिस्‍ट्रीब्‍यूशन के लिए काम करे। वैक्‍सीन की कीमत, खुराक और आने की तिथि वैज्ञानिक तय करेंगे।  हालांकि भारत से जुड़ी दो वैक्सीन रेस में आगे चल रही हैं। हम ग्लोबल फर्म्स के साथ भी काम कर रहे हैं। कई साल तक दवाई मौजूद रहने के बाद भी लोगों को पर इसका विपरीत प्रभाव होता है इसलिए वैज्ञानिक ही इस संबंध में फैसला लेंगे।'  

देश में टेस्टिंग से लेकर ट्रीटमेंट का एक बहुत बड़ा नेटवर्क 

प्रधानमंत्री ने कहा, 'आज मृत्यु दर और संक्रमण से स्‍वस्‍थ होने की दर में भारत दूसरे देशों के मुकाबले बहुत संभली हुई स्थिति में हैं। हम सभी के अथक प्रयासों से देश में टेस्टिंग से लेकर ट्रीटमेंट का एक बहुत बड़ा नेटवर्क काम कर रहा है। PM CARES फंड की ओर से ऑक्सीजन और वेंटीलेटर उपलब्ध करवाने पर भी जोर दिया जा रहा है।' प्रधानमंत्री मोदी ने महामारी कोविड-19 के लिए विकसित किए जा रहे वैक्‍सीन को लेकर देश में की जा रही राजनीति पर चिंता जताई और कहा कि वे इसे नहीं रोक सकते। 

वैक्‍सीन के लिए राज्‍यों में हो कोल्‍ड स्‍टोरेज की व्‍यवस्‍था: पीएम

प्रधानमंत्री ने कहा, 'कोविड-19 वैक्‍सीन के लिए राज्‍यों को कोल्‍ड स्‍टोरेज की सुविधाओं का इंतजाम करना होगा।' उन्‍होंने कहा, 'वैक्‍सीन के लिए जिला स्‍तर पर टास्‍क फोर्स का गठन की आवश्‍यकता है।' प्रधानमंत्री ने आगे कहा, 'जहां तक वैक्सीन के वितरण की बात है उसकी तैयारी सभी राज्यों के साथ मिलकर की जाएगी। वैक्सीन प्राथमिकता के आधार पर किसे लगाई जाएगी इसका निर्णय भी राज्यों के साथ मिलकर लेना होगा। राज्यों को इस पर काम करना शुरू कर देना चाहिए। इसकी अतिरिक्त सप्लाई पर भी काम किया जाएगा।'

दूसरे देशों की तुलना में बेहतर है भारत के हालात

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, 'वैक्‍सीन को लेकर देश में राजनीति हो रही है। मैं राजनीति नहीं रोक सकता।' उन्‍होंने आगे कहा, 'संयुक्‍त प्रयासों के बदौलत दूसरे देशों की तुलना में आज भारत में बेहतर हालात हैं।' प्रधानमंत्री ने कहा, 'वैक्सीन को लेकर भारत के पास जैसा अनुभव है वो दुनिया के बड़े- बड़े देशों को नहीं है। हमारे लिए स्पीड जितनी जरूरी है उतनी ही जरूरी सेफ्टी भी है। भारत जो भी वैक्सीन अपने नागरिकों को देगा वो हर वैज्ञानिक कसौटी पर खरी होगी।'  प्रधानमंत्री ने कहा कि देश में ऑक्‍सीजन व वेंटिलेटर के निर्माण और इसे उपलब्‍ध कराने पर फोकस दिया जा रहा है।

हर किसी को वैक्‍सीन मुहैया कराना हमारी प्राथमिकता

प्रधानमंत्री कहा, 'देश में अब लोग अपनी बीमारी को छिपा रहे हैं। केंद्र और राज्‍यों को मिलकर काम करना होगा। भारत में फिर से कोरोना बढ़ सकता है। वैक्‍सीन कब आएगी और इसके कितने डोज होंगे इसका फैसला वैज्ञानिक करेंगे।'  उन्होंने कहा, 'कोरोना के खिलाफ लड़ाई में शुरू से ही एक-एक जिंदगी को बचाना हमारी प्राथमिकता रही है। अब हमारी प्राथमिकता होगी कि हर किसी को वैक्सीन उपलब्‍ध हो। कोरोना की वैक्सीन से जुड़ा भारत का अभियान अपने हर नागरिक के लिए एक नेशनल कमिटमेंट है।'

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.