पीएम मोदी ने लांच की आयुष्मान भारत योजना, कहा-गरीब भी करा सकेंगे अमीरों की तरह इलाज

राज्य ब्यूरो, रांची। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भगवान बिरसा मुंडा की धरती झारखंड से देश को विश्र्व की सबसे बड़ी स्वास्थ्य बीमा योजना 'प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना' आयुष्मान भारत की सौगात दी है। जिसका लाभ दस करोड़ चयनित परिवारों के लगभग पचास करोड़ लोगों को मिलेगा। इससे लाभार्थी पांच लाख रुपये तक का मुफ्त इलाज करा सकेगा।

इसी के साथ प्रधानमंत्री ने चाईबासा और कोडरमा में 600 करोड़ की लागत से बनने वाले मेडिकल कॉलेज और रांची, बोकारो एवं जमशेदपुर में दस वेलनेस सेंटर का भी उद्घाटन किया। इस योजना से 13 हजार सरकारी और निजी अस्पतालों को जोड़ा गया है।

रांची के प्रभात तारा मैदान पर उमड़ी करीब सवा लाख की भीड़ को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि देश में बेहतर इलाज कुछ लोगों तक सीमित न रहे बल्कि गरीब भी करा सकें, इसी लक्ष्य के साथ यह योजना राष्ट्र को समर्पित की जा रही है।

देश की 50 करोड़ की आबादी को पांच लाख का स्वास्थ्य बीमा अपनी तरह की सबसे बड़ी योजना है। योजना से जुड़ने वाले लाभार्थियों की संख्या यूरोपियन यूनियन के 27-28 देशों की आबादी से कहीं अधिक है। अमेरिका, कनाडा और मैक्सिको में रहने वालों से अधिक है।

गरीबी हटाओ का नारा देने वालों ने गरीबों की आंखों में झोंकी धूल
प्रधानमंत्री ने किसी राजनीतिक दल का नाम लिए बगैर कहा, गरीबी हटाओ का नारा देकर गरीबों की आंखों में धूल झोंकी गई है। उन्हें वोट बैंक के लिए ही इस्तेमाल किया जाता रहा।

राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू व सीएम रघुवर दास ने एयरपोर्ट पर पीएम मोदी का स्वागत किया।

गरीबों ने ही हिन्दुस्तान का नाम रौशन किया
प्रधानमंत्री ने कहा कि गरीब परिवार के लोगों ने ही हिन्दुस्तान का नाम रौशन किया है। एशियन गेम्स में पदक जीतने वाले ज्यादातर गरीब परिवार से थे। मौका मिला तो इन्होंने देश का नाम रौशन किया। इसलिए हमारी सारी योजनाएं गरीबों को मजबूत करने के लिए हैं। मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारा कहीं भी जाने वाला व्यक्ति हो उसे इस योजना का लाभ मिलेगा।

क्या हैं फायदे
- सरकारी ही नहीं, निजी अस्पतालों में भी होगा इलाज
- 1300 बीमारियों का इलाज होगा
- जांच, इलाज और दवा का खर्च शामिल
- पहले से कोई बीमार है तो भी उसका इलाज होगा
- अस्पताल में ई-कार्ड दिखाइए, इलाज कराइए
- आशा, एएनएम बहनें और आरोग्य मित्र अस्पताल में आपकी मदद करेंगे
- 14555 नंबर पर फोन कर लोग जान सकते हैं कि आयुष्मान योजना में उनका नाम है कि नहीं

आयुष्मान भारत स्वास्थ्य के क्षेत्र में लंबी छलांगः नड्डा
इस मौके पर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा ने कहा कि आयुष्मान भारत स्वास्थ्य के क्षेत्र में लंबी छलांग है। पूरी दुनिया में चर्चा हो रही है। उनके मुताबिक, गोल्डन कार्ड से मुफ्त इलाज होगा। आपात स्थिति में पास में कार्ड नहीं होने पर अंगूठा लगाकर इलाज करा सकेंगे। यह योजना पेपरलेस, कैशलेस होगी। देश में कहीं भी मरीज इलाज करा सकता है।

इनमें मिलेगा लाभ
1350 प्रकार के प्रोसेड्योर में, जिनमें इनडोर सुविधा, दवा, ऑपरेशन, तमाम तरह के मेडिकल चार्ज तथा फालोअप शामिल है।

इनमें नहीं मिलेगा लाभ
ओपीडी, जन्मजात बाह्र रोग, कॉस्मेटिक सर्जरी, टीकाकरण, प्रजनन संबंधित उपचार, ड्रग्स से संबंधित बीमारियां, आर्गन ट्रांसप्लांट आदि।

लाभ नहीं मिलने पर यहां करें शिकायत
टोल फ्री नंबर 14,555 पर या उपायुक्तों की अध्यक्षता में गठित जिलास्तरीय शिकायत निवारण समिति के पास। आप लाभुक हैं या नहीं जानने के लिए 'एम आई इलिजिबल' पोर्टल भी है।

पांच लाभुकों को सौंपे गोल्डन कार्ड
प्रधानमंत्री ने कार्यक्रम में पांच लाभुकों को गोल्डन कार्ड सौंपे। 

यह भी पढ़ेंः 50 करोड़ गरीबों को पीएम मोदी का तोहफा, एेसे उठाएं योजना का लाभ

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.