चीन व पाकिस्तान को संदेश देने वाले होंगे संयुक्त राष्ट्र की 75वीं वर्षगांठ पर पीएम मोदी के दो भाषण

चीन व पाकिस्तान को संदेश देने वाले होंगे संयुक्त राष्ट्र की 75वीं वर्षगांठ पर पीएम मोदी के दो भाषण
Publish Date:Sat, 19 Sep 2020 10:26 PM (IST) Author: Bhupendra Singh

जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। चीन के साथ बढ़ते तनाव के बीच अंतरराष्ट्रीय मंचों पर भारत की कूटनीतिक गतिविधियां अगले हफ्ते से और रफ्तार पकड़ने वाली हैं। एक तरफ जहां पीएम नरेंद्र मोदी की संयुक्त राष्ट्र में दो भाषण होंगे वहीं इसके तुरंत बाद अमेरिका, जापान, आस्ट्रेलिया, इंडोनेशिया, रूस जैसे मित्र देशों के साथ कई स्तरों पर रणनीतिक विचार विमर्श भी रफ्तार पकड़ेगा। इस बीच सार्क देशों के विदेश मंत्रियों की वर्चुअल बैठक की तिथि भी तय हो गई है जहां इस साल पहली बार भारत, नेपाल और पाकिस्तान के विदेश मंत्री आमने सामने होंगे। जानकारों का कहना है कि पीएम मोदी का भाषण चीन के साथ ही पाकिस्तान के साथ भारत के मौजूदा रिश्ते को परिलक्षित करने वाला होगा।

कोरोना की वजह से 75वीं वर्षगांठ पर संयुक्त राष्ट्र की सभी बैठक होंगी वर्चुअल

कोरोना की वजह से संयुक्त राष्ट्र की सभी बैठक इस साल वर्चुअल होने वाली है। पीएम मोदी सबसे पहले संयुक्त राष्ट्र स्थापना की 75वीं वर्षगांठ पर एक आयोजन में अपना संबोधन देंगे जबकि उसके बाद संयुक्त राष्ट्र की सालाना बैठक में 26 सितंबर को दोबारा भाषण देंगे। यूएन में भारत के राजदूत टी एस त्रिमूर्ति ने कहा है कि जनवरी, 2021 में भारत सुरक्षा परिषद के अस्थाई सदस्य के तौर पर अपना कार्यकाल शुरु करेगा, ऐसे में पीएम मोदी के भाषण का अलग महत्व है।

पीएम मोदी के भाषण में वैश्विक मंचों के पुनर्गठन करने पर होगा जोर

माना जा रहा है कि पीएम मोदी के भाषण में बदलते वैश्विक माहौल के मुताबिक वैश्विक मंचों के पुनर्गठन करने पर सबसे ज्यादा जोर दिया जाएगा। बहुत संभव है कि मोदी की बात का दूसरे कई देशों की तरफ से जबरदस्त समर्थन दिया जाए। इसी भाषण के आसपास दक्षिण एशियाई देशों के विदेश मंत्रियों की एक अलग वर्चुअल बैठक होगी। इसमें दूसरे सार्क देशों के विदेश मंत्रियों के साथ पाकिस्तान व नेपाल के विदेश मंत्री भी होंगे। इन दोनो देशों ने हाल ही में नया नक्शा पारित किया है जिसमें भारतीय जमीन को भी अपने अपने हिस्से में दिखाया है।

अमेरिका, जापान व आस्ट्रेलिया के विदेश मंत्रियों की बैठक की तैयारियों में जुटा भारत

भारतीय विदेश मंत्रालय उक्त बैठकों के अलावा अमेरिका, जापान व आस्ट्रेलिया के विदेश मंत्रियों के साथ होने वाली बैठक की तैयारियों में भी जुटा है। इन चार देशों के गठबंधन 'क्वैड' के तहत इस बैठक को बेहद महत्वपूर्ण माना जा रहा है। बैठक नई दिल्ली में होनी है। इसी तरह भारत, आस्ट्रेलिया और इंडोनेशिया के रक्षा व विदेश मंत्रियों की अलग से एक बैठक होनी है। यह इन तीन देशों के बीच इस तरह की पहली बैठक होगी।

पीएम मोदी की जापान के नए पीएम सुगा के साथ होगी पहली बैठक

पीएम नरेंद्र मोदी की जापान के नए पीएम के साथ बैठक की अब नए सिरे से तैयारी है। पहले सितंबर में ही मोदी व शिंजो आबे के बीच बैठक होनी थी, लेकिन आबे ने अब त्यागपत्र दे दिया है। नए पीएम योशिहिदे सुगा के साथ अब मोदी की पहली बैठक होगी। पीएम मोदी की रूस के राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन के साथ भी सालाना शिखर बैठक की तैयारियां चल रही हैं।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.