फलस्तीन-इजरायल संघर्ष: कांग्रेस ने कहा- ईद के मौके पर भड़की हिंसा पूरी दुनिया के लिए चिंता का विषय

क्षेत्र में शांति बहाली के लिए सुरक्षा परिषद से किया दखल देने का अनुरोध।

दोनों पक्षों के बीच संघर्ष बढ़ने गाजा पट्टी पर हवाई हमले और हमास के राकेट हमले से कई निर्दोष लोगों विशेषकर बच्चों और बुजुर्गों को जान से हाथ धोना पड़ा। इसके अलावा कई अन्य लोग घायल भी हुए हैं। सार्वजनिक संपत्तियों और बुनियादी ढांचों को नुकसान से मुश्किलें बढ़ी हैं।

Bhupendra SinghFri, 14 May 2021 11:09 PM (IST)

नई दिल्ली, प्रेट्र। कांग्रेस ने शुक्रवार को भारत सरकार से अनुरोध किया कि वह इजरायल और हमास के बीच दुश्मनी खत्म करवाने के लिए सक्रिय रूप से काम करे। इसके साथ ही पार्टी ने क्षेत्र में शांति बहाली के लिए संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के दखल देने की मांग भी की। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता आनंद शर्मा ने कहा कि ईद के मौके पर भड़की हिंसा पूरी दुनिया के लिए गंभीर चिंता का विषय है।

इजरायल और हमास को आपसी दुश्मनी खत्म करने का अनुरोध करती है कांग्रेस

कांग्रेस नेता ने कहा, हमारी पार्टी इजरायल और हमास दोनों से आपसी दुश्मनी खत्म करने का अनुरोध करती है। इसके साथ ही हम संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद से शांति बहाल करने के लिए दखल देने की मांग करते हैं। यह मामला नैतिक और मानवीय दोनों है। सुरक्षा परिषद का स्थायी सदस्य होने के नाते भारत को इस उद्देश्य के लिए सक्रिय होकर काम करना चाहिए।

कांग्रेस ने कहा- फलस्तीन-इजरायल संघर्ष के चलते बच्चों और बुजुर्गों को जान से हाथ धोना पड़ा

शर्मा ने कहा, फलस्तीन के लोगों को सुरक्षित वातावरण में सम्मान के साथ रहने का अधिकार है। इसी तरह इजरायल के लोगों को भी यह अधिकार मिला हुआ है। उन्होंने कहा कि दोनों पक्षों के बीच संघर्ष बढ़ने, गाजा पट्टी पर हवाई हमले और हमास के राकेट हमले से कई निर्दोष लोगों विशेषकर बच्चों और बुजुर्गों को जान से हाथ धोना पड़ा। इसके अलावा कई अन्य लोग घायल भी हुए हैं। सार्वजनिक संपत्तियों और बुनियादी ढांचों को नुकसान से मुश्किलें बढ़ी हैं।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.