श्रीनिवास से दिल्ली पुलिस की पूछताछ पर भड़की कांग्रेस, रेड राज में प्रताड़ित करने का लगाया आरोप

युवा कांग्रेस के अध्यक्ष वी. श्रीनिवास से दिल्ली पुलिस की शुक्रवार को की गई पूछताछ

युवा कांग्रेस के अध्यक्ष वी. श्रीनिवास से दिल्ली पुलिस की शुक्रवार को की गई पूछताछ पर सियासत गरमा गई है। कांग्रेस ने इस पूछताछ को मानवता की मदद कर रहे लोगों को बेइज्जत करने का प्रयास बताते हुए इसके लिए केंद्र सरकार को सीधे जिम्मेदार ठहराया है।

Arun Kumar SinghFri, 14 May 2021 07:37 PM (IST)

नई दिल्ली, जागरण ब्यूरो। युवा कांग्रेस के अध्यक्ष वी. श्रीनिवास से दिल्ली पुलिस की शुक्रवार को की गई पूछताछ पर सियासत गरमा गई है। कांग्रेस ने इस पूछताछ को मानवता की मदद कर रहे लोगों को बेइज्जत करने का प्रयास बताते हुए इसके लिए केंद्र सरकार को सीधे जिम्मेदार ठहराया है। पार्टी ने कहा कि कोरोना के कहर से जान गंवा रहे लोगों की रक्षा का राजधर्म निभाने के बजाय केंद्र सरकार मददगारों के खिलाफ रेड राज चला रही है।

मदद करने वालों का गला घोंटा जा रहा  

कांग्रेस मीडिया विभाग के प्रमुख रणदीप सुरजेवाला ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह के इशारे पर पुलिस कार्रवाई का आरोप लगाते हुए कहा कि अगर हाईकोर्ट के किसी पीआइएल की आड़ लेकर दिल्ली पुलिस को कुछ पूछना ही था तो पहले नोटिस जारी कर अपराध बताना चाहिए था न कि मदद करने वालों का गला घोंटना चाहिए था। आक्सीजन की कमी से लोग बीते कई हफ्तों से जान गंवा रहे हैं।

जीवन रक्षक दवाइयां गायब हैं और दिल्ली में भी नहीं मिल पा रहीं हैं। तब युवा कांग्रेस के कार्यकर्ताओं और श्रीनिवास ने सोनिया गांधी और राहुल गांधी के आह्वान पर बड़ी मेहनत से एक-एक चीज जुटाकर लोगों की मदद की है। विदेशी दूतावासों तक ने युवा कांग्रेस से मदद मांगी। 

सुरजेवाला ने कहा कि पूरी दुनिया में युवा कांग्रेस और श्रीनिवास के कामों की सराहना की जा रही है मगर सरकार क्रूर तरीके से इन मदद करने वालों का गला घोंटने का प्रयास कर रही है जो भारतीय संस्कृति और संवेदनशीलता के खिलाफ है। चाहे सरकार मुकदमा दर्ज कर जेल में डाल दे मगर कांग्रेस कार्यकर्ता लोगों की मदद करने से न पीछे हटेंगे और न हीं डरेंगे।

सुरजेवाला ने सवाल उठाया कि युवा कांग्रेस अध्यक्ष श्रीनिवास, दिल्ली प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अनिल चौधरी और पूर्व कांग्रेस विधायक मुकेश शर्मा से तो पुलिस ने पूछताछ की है मगर भाजपा और आरएसएस के दफ्तरों में जाकर उनके प्रमुख नेताओं से दिल्ली पुलिस ने पूछताछ क्यों नहीं की। 

 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.