top menutop menutop menu

MP Politics: दिल्ली से भोपाल तक कवायद, छह दिन बाद भी नहीं बंट सके मप्र में मंत्रियों को विभाग

भोपाल, राज्‍य ब्‍यूरो। दिल्ली से लेकर भोपाल तक कई दौर की बैठकों के बाद भी मप्र के मंत्रियों को विभागों के बंटवारे पर माथापच्ची जारी है। दो जुलाई को हुए मंत्रिमंडल विस्तार के छठवें दिन भी 28 नए मंत्रियों को विभागों के आवंटन को लेकर असमंजस बरकरार रहा। उधर, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भोपाल स्थित प्रदेश भाजपा कार्यालय में मीडिया से कहा, 'सारे विभाग मुख्यमंत्री में निहित होते हैं। मैं सारे विभागों का मंत्री हूं और सब काम सुचारू चल रहे हैं। कल (गुरुवार) को कैबिनेट बैठक है। सब हो जाएगा।' इधर, कांग्रेस ने सरकार की इस स्थिति को लेकर तंज कसते हुए कहा कि मुख्यमंत्री कभी इतने कमजोर नहीं दिखे कि विभाग का बंटवारा तक न कर पाएं। 

शिवराज बोले, 'मैं सभी विभागों का मंत्री, कल कैबिनेट बैठक है, सब हो जाएगा'

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह के उक्त बयान के मायने यह निकाले जा रहे हैं कि अब भी विभागों के बंटवारे की गुत्थी नहीं सुलझ पाई है। जबकि मंगलवार को भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा और संगठन महामंत्री सुहास भगत के साथ बैठक के बाद संकेत दिए गए थे कि बुधवार को विभागों का आवंटन हो जाएगा। ज्ञात हो कि गत गुरुवार को मंत्रिमंडल का विस्तार होने के बाद संभावना जताई जा रही थी कि दो-तीन दिन में मंत्रियों को विभाग बांट दिए जाएंगे और विधिवत कामकाज प्रारंभ हो जाएगा। 

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने रविवार और सोमवार को विभागों के बंटवारे को लेकर नई दिल्ली में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा, संगठन महामंत्री बीएल संतोष, पार्टी उपाध्यक्ष व प्रदेश प्रभारी विनय सहस्रबुद्धे, केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर से मुलाकातें की थीं। ज्योतिरादित्य सिंधिया से भी इस दौरान उनकी चर्चा हुई। सूत्रों का कहना है कि सिंधिया समर्थक मंत्रियों के लिए बड़े विभागों की मांग रखी गई है। उपचुनाव की परिस्थिति को देखते हुए केंद्र से लेकर प्रदेश भाजपा संगठन के स्तर पर मंथन का दौर चला, लेकिन आमराय नहीं बन पा रही है। 

बड़े विभागों पर दावा छोड़ने तैयार नहीं सिंधिया समर्थक

माना जा रहा है कि सिंधिया समर्थक बड़े विभागों पर दावा छोड़ने के लिए तैयार नहीं हैं। वहीं, मुख्यमंत्री भाजपा के वरिष्ठ मंत्रियों को कुछ महत्वपूर्ण विभाग उनके अनुभव के आधार पर देना चाहते हैं। इसी मुद्दे पर पेंच फंसा हुआ है। अब अंतिम निर्णय लेने के लिए एक बार फिर केंद्रीय संगठन से संवाद किया जा रहा है। 

कैबिनेट बैठक का समय बदला

विभागों के बंटवारे की कवायद के बीच राज्य सरकार ने गुरवार को होने वाली कैबिनेट बैठक का समय फिर बदल दिया है। मंत्रियों को जो सूचना भेजी गई थी, उसके मुताबिक बैठक सुबह साढ़े दस बजे से होनी थी, लेकिन इसे अब बढ़ाकर शाम पांच बजे कर दिया गया है। संभवत: इसके पहले विभागों का बंटवारा हो सकता है। 

प्रदेश की छवि पर विपरीत प्रभाव पड़ रहा : पीसी शर्मा

कांग्रेस नेता व पूर्व जनसंपर्क मंत्री पीसी शर्मा ने कहा कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को कभी इतनी कमजोर स्थिति में नहीं देखा। मंत्रिमंडल विस्तार के छह दिन बाद भी विभाग नहीं बांट पाने से उनकी स्थिति को अंदाजा लगाया जा सकता है। इससे जनता का नुकसान हो रहा है और प्रदेश की छवि पर भी विपरीत प्रभाव पड़ रहा है।

सबसे सलाह करके निर्णय लेती है पार्टी : डॉ.मिश्रा

उधर, प्रदेश के गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ.नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि भाजपा की कार्य पद्धति सबसे सलाह-मशविरा करने की है। इसके आधार पर यह पार्टी चलती है। यह कोई परिवार नहीं है। पार्टी कोई व्यक्ति नहीं, एक समूह है जो परस्पर चर्चा के बाद आगे बढ़ता है। 

 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.