भाजपा में शामिल मणिपुर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष ने राहुल पर बोला हमला, कहा- वर्षों इंतजार के बाद भी नहीं हुई मुलाकात

गोविंदास ने मणिपुर के मुख्यमंत्री एन. बीरेन सिंह भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ए. शारदा देवी राज्यसभा सदस्य अनिल बलूनी व पार्टी के प्रदेश प्रभारी संबित पात्रा आदि की उपस्थिति में पार्टी का दामन थामा। बिशनपुर से छह बार विधायक रहे गोविंदास कांग्रेस से पहले ही इस्तीफा दे चुके थे।

Neel RajputSun, 01 Aug 2021 09:06 PM (IST)
गोविंदास ने कहा, वर्षो इंतजार के बाद भी कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष से नहीं हो पाई मुलाकात

नई दिल्ली, प्रेट्र। कांग्रेस की मणिपुर इकाई के पूर्व अध्यक्ष गोविंदास कोंथौजैम ने रविवार को भाजपा का दामन थाम लिया। इसके बाद कांग्रेस नेतृत्व पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि राहुल गांधी समेत पार्टी के वरिष्ठ नेताओं से मुलाकात करना भी बेहद मुश्किल है।

गोविंदास ने मणिपुर के मुख्यमंत्री एन. बीरेन सिंह, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ए. शारदा देवी, राज्यसभा सदस्य अनिल बलूनी व पार्टी के प्रदेश प्रभारी संबित पात्रा आदि की उपस्थिति में नई पारी की शुरुआत की। बिशनपुर से छह बार विधायक रहे गोविंदास कांग्रेस से पहले ही इस्तीफा दे चुके थे। बीरेन सिंह ने गोविंदास को पुराना दोस्त बताया। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विकास का एजेंडा पूर्वोत्तर के लोगों को काफी पसंद आ रहा है। केंद्रीय कैबिनेट में पूर्वोत्तर के पांच मंत्रियों को शामिल किया जाना पीएम मोदी की क्षेत्र के प्रति गंभीरता को जाहिर करता है। पात्रा ने कहा कि गोविंदास के भाजपा में शामिल होने से पार्टी के साथ-साथ पूर्वोत्तर को भी काफी फायदा होगा। गोविंदास ने बाद में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात की। नड्डा ने ट्वीट किया, 'मैं उनका पार्टी में स्वागत करता हूं और नई पारी के लिए शुभकामना देता हूं।'

समाचार एजेंसी एएनआइ के अनुसार, गोविंदास ने कांग्रेस की कार्यशैली पर जमकर हमला बोला। उन्होंने कहा, 'हमने वर्षों इंतजार किया, लेकिन राहुल गांधी समेत कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं से मुलाकात नहीं हो सकी। ऐसी पार्टी में काम करना मुश्किल था। पीएम मोदी के नेतृत्व में पूरा देश तरक्की कर रहा है.. इसलिए मैं यहां हूं।'

असम के एक और कांग्रेस विधायक भाजपा में

समाचार एजेंसी आइएएनएस के मुताबिक, कांग्रेस के दो बार के विधायक सुशांत बोरगोहेन रविवार को भाजपा में शामिल हो गए। उन्होंने शुक्रवार को कांग्रेस से इस्तीफा दिया था। जोरहाट जिले की थौरा विधानसभा सीट से चुने गए सुशांत ने विधानसभा से भी इस्तीफा दे दिया है। इसके साथ ही 126 सदस्यीय विधानसभा में कांग्रेस सदस्यों की संख्या 29 से घटकर 27 रह गई है। सुशांत ने मुख्यमंत्री हिमंता बिस्व सरमा से भी मुलाकात की। सरमा ने कहा कि युवा नेता सुशांत के शामिल होने से पार्टी को काफी लाभ मिलेगा। इससे पहले 21 जून को चार बार कांग्रेस विधायक रहे रूपज्योति कुर्मी ने भाजपा का दामन थाम लिया था।

 

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.