मध्यप्रदेशः कर्ज माफी या मजाक, लाखों के ऋण में से माफ हुए मात्र 25 रुपये

नईदुनिया, खरगोन। farmer loan waiver in MP मध्य प्रदेश के खरगोन में  दो माह से कर्ज माफी का इंतजार कर रहे किसान कर्ज माफी की सूची देखकर चौंक गए। सूची में कुछ किसानों के सिर्फ 25 और 300 रुपये माफ होना दर्शाए गए थे। नाराज किसानों का कहना है कि कर्ज की राशि अधिक है। 

ऐसे में प्रशासन का यह हिसाब समझ से परे है। प्रशासन का कहना है कि 31 मार्च 2018 तक की अवधि में जिन किसानों पर ऋण है, उन्हीं की सूची जारी की गई है। उल्लेखनीय है कि कांग्रेस ने अपने वचन पत्र में सभी किसानों का दो लाख रुपये तक का कर्ज माफ करने की घोषणा की थी।

जय किसान ऋण मुक्ति योजना के तहत स्थानीय टाउन हॉल में कर्ज माफी की सूची बुधवार को चस्पा की गई। इसमें जैतपुर के किसान प्रकाश के 25 रुपये माफ होने की जानकारी थी। प्रकाश का कहना है कि ढाई लाख रुपये के कर्ज में से 25 रुपये किस हिसाब से माफ किए गए, समझ से परे है। इसी तरह सिकंदरपुरा के अमित के 300 रुपये माफ होने का जिक्र है। अमित का कहना है कि उन पर 30 हजार रुपये का कर्ज था।

किसानों का कहना है कि असुविधा से बचने के लिए उन्होंने अपने स्तर पर कर्ज की राशि जुटाकर जमा करवाई और खाता शून्य कर फिर से कर्ज लिया, लेकिन सूची में इसका उल्लेख नहीं है। कृषि विभाग के अनुसार जिले में दो लाख 57 हजार 600 संभावित ऋणि कृषक हैं। इनमें सहकारी बैंक के एक लाख 52 हजार और राष्ट्रीयकृत बैंकों के 20 हजार 600 कृषक शामिल हैं।

सरकार को अपना वचन निभाना चाहिए

घोषणा के अनुसार सभी किसानों का कर्ज माफ होना चाहिए। सूची के मुताबिक कई किसानों का सिर्फ 25 रुपये तक कर्ज माफ किया गया, जबकि इससे अधिक कर्ज लिया गया है। सरकार को अपना वचन निभाना चाहिए।

-श्यामसिंह पंवार, जिलाध्यक्ष, भारतीय किसान संघ, खरगोन

सूची के अनुसार ही फॉर्म जमा किए जा रहे हैं

किसानों के 31 मार्च 2018 तक की स्थिति अनुसार कर्ज माफी की सूची जारी की गई है। सूची के अनुसार ही किसानों के फॉर्म जमा किए जा रहे हैं।

-एमके बार्चे, महाप्रबंधक, जिला सहकारी केंद्रीय बैंक, खरगोन

यह भी पढ़ेंः मप्र में 120 करोड़ का फर्जी ऋण वितरण, किसानों ने कहा- कर्ज लिया ही नहीं तो 'माफी' कैसी

यह भी पढ़ेंः EXCLUSIVE- मध्य प्रदेश सरकार का एक माह पूरा, कर्जमाफी को लेकर कमलनाथ ने कही बड़ी बात

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
Next Story