भाजपाध्यक्ष नड्डा ने कहा, शिवराज चौहान किसान हित के निर्णय लागू करने वाले एकमात्र मुख्यमंत्री

कार्यसमिति को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान प्रदेश अध्यक्ष विष्णु दत्त शर्मा प्रदेश प्रभारी पी. मुरलीधर राव सह संगठन महामंत्री शिवप्रकाश सहित कई नेताओं ने संबोधित किया। इस वर्चुअल बैठक में 57 स्थानों से नेताओं ने भाग लिया ।

Dhyanendra Singh ChauhanThu, 24 Jun 2021 08:42 PM (IST)
भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा और मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज चौहान की फाइल फोटो

भोपाल, राज्य ब्यूरो। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने मध्य प्रदेश की शिवराज सरकार को नंबर वन सरकार बताया है। उन्होंने कहा है कि चाहे गेहूं उपार्जन की बात हो या किसान कल्याण की, शिवराज सरकार ने सबसे बेहतर काम किया है। उन्होंने कहा कि शिवराज सरकार ने कोरोना में अनाथ हुए बच्चों की शिक्षा से लेकर पेंशन तक सारी चिंता की है। शिवराज सरकार ने प्रदेश को कई मामलों में देश का नंबर वन राज्य बना दिया है।

नड्डा गुरूवार को मध्य प्रदेश भाजपा कार्यसमिति की पहली बैठक का वर्चुअल रूप से शुभारंभ करने के बाद संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि देश में अगर कोई किसानों का सबसे बड़ा हितैषी है तो वह प्रधानमंत्री मोदी हैं और किसान हित के निर्णयों को लागू करने वाला कोई मुख्यमंत्री है, तो वह शिवराज सिंह हैं। पार्टी के कार्यकर्ताओं को यह बात जनता तक पहुंचानी चाहिए।

कार्यसमिति को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, प्रदेश अध्यक्ष विष्णु दत्त शर्मा, प्रदेश प्रभारी पी. मुरलीधर राव, सह संगठन महामंत्री शिवप्रकाश सहित कई नेताओं ने संबोधित किया। इस वर्चुअल बैठक में 57 स्थानों से नेताओं ने भाग लिया। इनमें केंद्रीय मंत्री थावर चंद गहलोत, नरेंद्र सिंह तोमर, प्रह्लाद पटेल, राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय एवं वरिष्ठ नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया केंद्रीय कार्यालय में उपस्थित थे।

मोदी के नेतृत्व में कोरोना को हराने में सफल रहे : शिवराज

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को कल्पनाशील, संवेदनशील बताते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि उनके नेतृत्व के कारण आज हम कोरोना को हराने में सफल रहे हैं। एक तरफ प्रधानमंत्री वैक्सीन का इंतजाम कर रहे हैं, दूसरी ओर कांग्रेस नेता राहुल गांधी वैक्सीन को लेकर सवाल उठा रहे हैं। उन्हें यह पता होना चाहिए कि चिकनपॉक्स महामारी विदेश में खत्म होने के बाद कांग्रेस सरकार उसका टीका पांच साल बाद दे पाई थी। इसी तरह पोलियो टीका 20 साल बाद भारत को मिला था लेकिन आज देश ने नौ महीने में ही दो-दो स्वदेशी वैक्सीन तैयार कर ली हैं।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.