अमित शाह ने भरी हुंकार, कहा- शांति और विकास को बाधित नहीं कर पाएगा कोई, जानें गृहमंत्री के जम्‍मू दौरे की बड़ी बातें

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कश्मीर के बाद अब जम्मू में भी विकास की हुंकार भरी। उन्होंने पाकिस्तान का नाम लिए बिना कहा कि किसी को जम्मू-कश्मीर में शांति और विकास को बाधित नहीं करने दिया जाएगा। जानें केंद्रीय गृह मंत्री के दौरे की बड़ी बातें....

Krishna Bihari SinghSun, 24 Oct 2021 11:56 PM (IST)
केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कश्मीर के बाद अब जम्मू में भी विकास की हुंकार भरी।

नई दिल्‍ली/जम्‍मू, जेएनएन/एजेंसियां। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कश्मीर के बाद अब जम्मू में भी विकास की हुंकार भरी। उन्होंने पाकिस्तान का नाम लिए बिना कहा कि किसी को जम्मू-कश्मीर में शांति और विकास को बाधित नहीं करने दिया जाएगा। इसके साथ ही शाह विपक्ष पर भी जमकर बरसे। उन्‍होंने कहा कि बीते सात दशक में जम्मू-कश्मीर का विकास नहीं कर पाने के लिए 'तीन परिवार' ही जिम्मेदार हैं। जम्मू के साथ अन्याय का दौर अब समाप्त हो गया है। गृह मंत्री ने कहा कि हम ऐसा माहौल बनाना चाहते हैं जिससे आतंकवाद का सफाया हो जाए।

शांति और विकास को नहीं रोक पाएगा कोई

गृह मंत्री ने कहा कि मोदी सरकार के नेतृत्व में जम्मू-कश्मीर में 12 हजार करोड़ का निवेश आया है। यही नहीं 2022 तक 51 हजार करोड़ का निवेश आने वाला है। इससे पूरे प्रदेश का कायाकल्प ही हो जाएगा। जम्मू-कश्मीर में विकास का नया चरण शुरू हो गया है। मैं यहां विश्वास दिलाने आया हूं कि कोई भी शांति व विकास को अवरुद्ध नहीं कर सकेगा।

आतंकियों के नापाक मंसूबों को बनाएं नाकाम

अनुच्छेद-370 हटने के बाद पहली बार जम्मू आए गृह मंत्री अमित शाह ने भगवती नगर क्षेत्र में रविवार को ठंड की दस्तक के बीच अपने आधे घंटे के संबोधन में पूरे जम्मू में जोश भर दिया। शाह ने कहा कि अब कश्मीर तथा जम्मू दोनों का साथ में विकास होगा। दोनों मिलकर भारत को आगे ले जाएंगे। उन्होंने युवाओं से कहा कि वे विकास के लिए कार्य करें और शांति में खलल डालने वाले आतंकियों के नापाक मंसूबों को विफल बना दें।

विपक्ष पर निशाना

शाह ने पीडीपी, नेशनल कांफ्रेंस और कांग्रेस का नाम लिए बिना कहा कि तीन परिवार पूछ रहे हैं कि क्या देकर जाओगे। मैं यह पूछता चाहता हूं कि पहले तीन परिवार 70 साल का हिसाब दें। ये तीन परिवार दशकों तक जम्मू-कश्मीर के लोगों का शोषण करते रहे, मजाक उड़ाते थे कि यहां कौन आएगा। राज्य की जनता उनसे जवाब मांग रही है कि सात दशक तक उन्होंने जम्मू-कश्मीर को क्या दिया है। क्या आपने अपने परिवार के सदस्यों के अलावा किसी के बारे में सोचा है।

12 हजार करोड़ का निवेश आया

केंद्रीय गृह मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में जम्मू-कश्मीर में 12 हजार करोड़ का निवेश आया है। 2022 तक 51 हजार करोड़ का निवेश आने वाला है। ये मोदी जी का शासन है, जिसमें न शोषण होगा और न तुष्टिकरण। प्रधानमंत्री ने 55 हजार करोड़ का विकास का पैकेज दिया। इसमें 35 हजार करोड़ की 21 परियोजनाएं समाप्त हो गई हैं।

आतंकवाद का सफाया हो जाएगा

शाह ने कहा, हम ऐसा माहौल बनाना चाहते हैं कि एक भी व्यक्ति की जान नहीं जाए और आतंकवाद का सफाया हो जाए। रही बात सुरक्षा की तो, साल 2004 से लेकर 2014 तक 2081 नागरिकों की मौत हुई। इस हिसाब से हर साल 208 नागरिकों की मौत हुई। साल 2014 से लेकर साल 2021 तक 249 नागरिकों की मौत हुई। हर साल 20 लोगों की मौत हुई। हम इससे भी संतुष्ट नहीं है। पांच अगस्त, 2019 को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने ऐतिहासिक फैसला किया। अनुच्छेद-370 और 35ए हटाकर लोगों के साथ न्याय किया।

हर जिले में हेलीपैड बनेगा, मेट्रो भी चलेगी

शाह ने जम्मू-कश्मीर की विभिन्न विकास परियोजनाओं का जिक्र करते हुए कहा कि हर जिले में हेलीपैड बनाया जाएगा। प्रधानमंत्री के नेतृत्व में दो साल के भीतर जम्मू व श्रीनगर के लोगों को मेट्रो मिलने वाली है। जम्मू एयरपोर्ट का विस्तार 700 करोड़ में किया जाएगा। जम्मू-कश्मीर में नई औद्योगिक नीति लाई गई है। इस मंच से 15 हजार करोड़ की योजनाओं का उद्घाटन किया जा रहा है। आने वाले दो-तीन साल में जम्मू कश्मीर में बिजली की समस्या नहीं रहेगी। पन बिजली परियोजनाओं पर काम हो रहा है।  

माता वैष्णो देवी की कृपा से आपसे मिल रहा हूं

गृह मंत्री ने अपने भाषण की शुरुआत में कहा कि टेंशन चल रही थी कि बारिश आ रही है, मैं आप से मिल पाऊंगा या नहीं, लेकिन माता वैष्णो देवी की कृपा हुई है। पंडित प्रेम नाथ डोगरा की जयंती है। पूरा भारत प्रेम नाथ डोगरा को भुला नहीं सकता। डोगरा ने श्यामा प्रसाद मुखर्जी के साथ मिलकर दो प्रधान, दो निशान, दो संविधान नहीं चलेंगे का नारा दिया था। आज प्रेम नाथ डोगरा और श्यामा प्रसाद मुखर्जी की आत्मा प्रधानमंत्री का अभिवादन कर रही होगी। उन्होंने अपने भाषण शुरू करने से पहले भारत माता की जय के नारे लगाए।

सरकार की उपलब्धियां बताई

शाह ने केंद्र में भाजपा सरकार बनने के बाद से उठाए अनेक कदम गिनाते हुए कहा कि जम्मू-कश्मीर में पांच लाख रोजगार का सृजन किया गया। 25,000 लोगों को पिछले दो साल में सेवा चयन बोर्ड के माध्यम से नौकरियां दी गयी हैं। शाह ने कहा कि पहाड़ी भाषाई लोगों को आरक्षण मिल रहा है। आने वाले समय में गुज्जरों को भी आरक्षण का लाभ मिलेगा। महाजन, खत्री और सिख समुदाय के लोग कृषि भूमि खरीद सकते हैं। वन अधिकार कानून के तहत गुज्जर बक्करवालों को अधिकार मिले हैं।

सीमा पर पहुंच जवानों का बढ़ाया हौसला

गृहमंत्री अमित शाह रविवार को पाकिस्तान सीमा पर डटे जवानों के बीच पहुंचे और उनका हौसला बढ़ाया। उन्होंने जवानों की सराहना करते हुए कहा कि सीमा प्रहरी बिना चिंता के देश सेवा करें, उनके परिवारों की चिंता केंद्र सरकार करेगी। इस दौरान सीमा से सटे गांवों में भी लोगों से मिले। मकवाल क्षेत्र में जवानों से रूबरू होते हुए शाह ने कहा कि वह देशवासियों की ओर से अपने सुरक्षाबलों की बहादुरी को नमन करते हैं। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार सीमा तक हर सुविधा व विकास पहुंचाने के लिए कटिबद्ध हैं।

स्मार्ट फेंसिंग का निरीक्षण किया

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने अंतरराष्ट्रीय सीमा पर दुश्मन की साजिशों को नाकाम बनाने के लिए मकवाल में तैयार की गई 5.3 किलोमीटर लंबी स्मार्ट फेंसिंग का निरीक्षण भी किया। स्मार्ट फेंसिंग दुश्मन के मंसूबे नाकाम बनाने के लिए अदृश्य इलेक्ट्रानिक दीवार की तरह काम कर रही है। मकवाल के अलावा कठुआ जिले के हीरानगर में स्मार्ट फेंसिंग काम कर रही है।

ग्रामीण के घर पी चाय

गृहमंत्री ने मकवाल सीमा पर रह रहे ग्रामीण चुन्नी लाल भगत के घर पहुंचकर उनसे बात की और उनकी समस्याओं के बारे में जानकारी भी ली। इसके अलावा पाकिस्तान की गोलाबारी से बचाने के लिए बनाए गए बंकरों का भी जायजा लिया। इस दौरान उन्होंने ग्रामीणों के साथ चाय भी पी।

इन कार्यक्रमों में भी लिया हिस्‍सा

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने जम्मू में गुरुद्वारा डिगियाना आश्रम का भी दौरा किया। यही नहीं जम्मू में केंद्रीय गृह मंत्री ने गवर्नर हाउस में कई समुदायों के प्रतिनिधिमंडल से मुलाक़ात की। शाह ने आईआईटी जम्मू के नए कैंपस का उद्घाटन किया। इस दौरान उनके साथ केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान और उपराज्पाल मनोज सिन्हा भी मौजूद रहे।

बीएसएफ अधिकारियों से सुरक्षा पर की बैठक

गृहमंत्री ने सीमा सुरक्षा बल के अफसरों से सीमा की मौजूदा चुनौतियों व उनका सामना करने के लिए उठाए जा रहे कदमों के बारे में जानकारी लेने के साथ सीमा प्रहरियों से भी बातचीत की। इस मौके पर गृहमंत्री के साथ उपराज्यपाल मनोज सिन्हा के साथ गृह सचिव व सीमा सुरक्षा बल के महानिदेशक भी मौजूद थे। गृहमंत्री ने सीमा के सुरक्षा परिदृश्य की जानकारी लेने के साथ सीमा सुरक्षा बल के अधिकारियों से बैठक की।  

सोमवार को श्रीनगर में कई परियोजनाओं का शिलान्‍यास

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह सोमवार को श्रीनगर में विभिन्न विकास परियोजनाओं का उद्घाटन और शिलान्यास करेंगे। उल्‍लेखनीय है कि अपने दौरे के पहले दिन शनिवार को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने पाकिस्‍तान का बिना नाम लिए आतंकवाद पर करारा हमला बोला था। शाह ने श्रीनगर में यूथ क्लब के सदस्यों को संबोधित करते हुए कहा था कि मैं यकीन दिलाता हूं कि जम्मू-कश्मीर की शांति में जो भी खलल डालना चाहेगा उससे हम सख्ती से निपटेंगे। जम्‍मू-कश्‍मीर में विकास की जो यात्रा शुरू हुई है उसमें कोई भी रोढ़ा नहीं अटका पाएगा।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
You have used all of your free pageviews.
Please subscribe to access more content.
Dismiss
Please register to access this content.
To continue viewing the content you love, please sign in or create a new account
Dismiss
You must subscribe to access this content.
To continue viewing the content you love, please choose one of our subscriptions today.