असम में एआइयूडीएफ विधायक तालुकदार एक सितंबर को थामेंगे भाजपा का दामन, विपक्ष को लगेगा बड़ा झटका

एआइयूडीएफ उम्मीदवार के रूप में फणीधर तालुकदार ने सत्तारूढ़ गठबंधन में सहयोगी असम गण परिषद (अगप) के उम्मीदवार रंजीत डेका को हराया था। वह पार्टी के एकमात्र हिंदू विधायक थे और मुस्लिम बहुल इलाके से चुने गए थे।

Bhupendra SinghMon, 30 Aug 2021 12:06 AM (IST)
असम में एक सितंबर को विपक्ष को लगेगा एक और बड़ा झटका

गुवाहाटी, प्रेट्र। असम में विपक्ष को एक और बड़ा झटका लगने वाला है। कांग्रेस के रूपज्योति कुर्मी व सुशांत बोरगोहेन के बाद अब एआइयूडीएफ विधायक फणीधर तालुकदार ने भी भाजपा का दामन थामने का मन बना लिया है और इसके लिए वह पार्टी व विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे देंगे।

तालुकदार ने कहा- मैं एक सितंबर को हो जाऊंगा भाजपा में शामिल

तालुकदार ने रविवार को संवाददाताओं से कहा, 'मैंने अपनी पार्टी से इस्तीफा देने का फैसला किया है। मैं एक सितंबर को भाजपा में शामिल हो जाऊंगा।' तालुकदार आल इंडिया यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट (एआइयूडीएफ) से पहली बार विधायक बने हैं। वह भवानीपुर निर्वाचन क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करते हैं।

मुस्लिम बहुल इलाके से चुने गए तालुकदार एआइयूडीएफ के एकमात्र हिंदू विधायक

एआइयूडीएफ उम्मीदवार के रूप में तालुकदार ने सत्तारूढ़ गठबंधन में सहयोगी असम गण परिषद (अगप) के उम्मीदवार रंजीत डेका को हराया था। वह पार्टी के एकमात्र हिंदू विधायक थे और मुस्लिम बहुल इलाके से चुने गए थे। तालुकदार के इस्तीफे के बाद 126 सदस्यीय सदन में एआइयूडीएफ की संख्या घटकर 15 रह जाएगी।

असम में छह विधानसभा सीटों पर होंगे उपचुनाव

फिलहाल भाजपा के पास 60 विधायक हैं। हालांकि, प्रभावी संख्या 59 है, क्योंकि केंद्रीय मंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने अभी तक विधानसभा से इस्तीफा नहीं दिया है। सत्तारूढ़ गठबंधन में अगप के नौ और यूपीपीएल के पांच विधायक हैं। कांग्रेस विधायकों की संख्या 27 है। अब छह सीटों पर उपचुनाव होंगे। 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.