top menutop menutop menu

पद्म विभूषण के लिए चुनी गईं महिला बॉक्सर मेरी कॉम बनना चाहती हैं भारत रत्न

नई दिल्ली, प्रेट्र। पद्म विभूषण के लिए चुनी गई पहली महिला खिलाड़ी भारतीय दिग्गज मुक्केबाज एमसी मेरी कॉम ने रविवार को कहा कि वह टोक्यो ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीतकर भारत रत्न बनना चाहती हैं।

छह बार की विश्व चैंपियन मुक्केबाज मेरी कॉम ने यहां पत्रकारों से कहा, 'भारत रत्न हासिल करना सपना है। इस पुरस्कार (पद्म विभूषण) से मुझे और बेहतर करने की प्रेरणा मिलेगी ताकि मैं भारत रत्न बन सकूं। सचिन तेंदुलकर ही एकमात्र खिलाड़ी हैं जिन्हें इस पुरस्कार से नवाजा गया है और मैं भी इसे हासिल करना चाहती हूं और ऐसा करने वाली पहली महिला बनना चाहती हूं।

उन्होंने कहा कि मैं तेंदुलकर की राह पर चलना चाहती हूं और मुझे उनसे प्रेरणा मिलती है। मेरा अभी लक्ष्य ओलंपिक के लिए क्वालीफाई करना है। अगर मैं क्वालीफाई कर लेती हूं और टोक्यो में स्वर्ण पदक जीत लेती हूं तो मैं भारत रत्न हासिल करने की उम्मीद कर सकती हूं। भारत रत्न से नवाजा जाना सिर्फ एक खिलाड़ी के लिए ही नहीं, बल्कि किसी भी भारतीय की उपलब्धियों का शीर्ष सम्मान है। भारत रत्न देश का सर्वश्रेष्ठ नागरिक सम्मान है।'

वहीं दूसरी तरफ भारतीय महिला हॉकी कप्तान रानी रामपाल ने कहा कि वह पद्मश्री पुरस्कार के लिए चुने जाने से सम्मानित महसूस कर रही हैं। रानी सहित छह खिलाडि़यों को पद्मश्री से नवाजा जाएगा। रानी ने इस पुरस्कार को अपनी टीम को समर्पित किया।

25 साल की इस खिलाड़ी ने ट्वीट किया, 'मैं अपने देश के सबसे बड़े नागरिक पुरस्कारों में से एक के लिए चुने जाने से सम्मानित महसूस कर रही हूं। मैं इस पुरस्कार को पूरी टीम और सहयोगी स्टाफ को समर्पित करती हूं। मैं खेल मंत्री किरन रिजिजू, हॉकी इंडिया, कोच बलदेव सर, परिवार, दोस्तों और प्रशंसकों की शुक्रगुजार हूं जिन्होंने हमेशा मेरा समर्थन किया।' रानी ने भारत के लिए 200 से ज्यादा मैच खेले हैं और हाल में उन्होंने देश को टोक्यो ओलंपिक कोटा दिलवाने में मदद की। उन्होंने लिखा, 'यह सम्मान भारतीय महिला हॉकी के लिए है। हम इस खेल में काफी आगे बढ़े हैं और मेरा सच में मानना है कि हम इससे बेहतर नतीजे हासिल कर सकते हैं।

खेल मंत्री रिजिजू ने कहा, 'रानी रामपाल पद्मश्री के लिए चुने जाने के लिए बधाई। आपने पूरी युवा भारतीय पीढ़ी को प्रेरित किया है। आपके प्रयास भारतीय हॉकी को नए स्तर तक ले जाएंगे। मुझे आपकी उपलब्धियों पर गर्व है।' हॉकी इंडिया ने भी रानी को बधाई दी।

 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.