बंगाल वॉरियर्स के कप्तान मनिंदर सिंह ने कहा- ट्रॉफी जीतने को लगा देंगे पूरा दम

विशाल श्रेष्ठ, कोलकाता। नया कोच, नया कप्तान, नई टीम। आखिरकार छह सत्र बाद बंगाल वारियर्स को सफलता मिली और उसने प्लेऑफ से आगे बढ़ते हुए फाइनल में कदम रख दिया है। मंजिल अब बस एक कदम दूर है लेकिन आसान नहीं। सामने दबंग दिल्ली जैसी बेहद मजबूत टीम है। वो भी पहली बार खिताब जीतने को कोई कसर नहीं छोड़ेगी। शनिवार को अहमदाबाद के एका एरिना स्टेडियम में होने वाली इस खिताबी जंग से पहले बंगाल टीम के कप्तान मनिंदर सिंह व कोच बीसी रमेश से खास बातचीत।

आपकी टीम छह सत्र के बाद आखिरकार फाइनल में पहुंच गई। इस पर आपकी प्रतिक्रिया?

मनिंदर : प्रो-कबड्डी की ट्राफी जीतना हरेक खिलाड़ी का सपना होता है। हम फाइनल खेलने को लेकर बेहद खुश और उत्साहित हैं और ट्राफी जीतने की पूरी कोशिश करेंगे और इसके लिए पूरा दम लगा देंगे।

रमेश : मैंने जब बतौर कोच शुरुआत की तो मेरा पहला लक्ष्य एक संतुलित टीम तैयार करना था और अब आखिरी लक्ष्य ट्रॉफी जीतना है। हम खिताब से सिर्फ एक कदम दूर हैं।

नया कप्तान, नया कोच, नई टीम, भिन्न टीम संयोजन या कोई खास रणनीति, इस बार बंगाल वारियर्स के लिए क्या कारगर साबित हुआ?

मनिंदर : इस बार कई चीजें हमारे पक्ष में रहीं। हमने एक नई टीम के रूप में शुरुआत की। नए कोच बीसी रमेश ने हमें नए सांचे में ढाला। उन्होंने हरेक खिलाड़ी पर बहुत काम किया, जिससे हमारा कौशल निखरा। हमने अपने कमजोर पहलुओं को दूर किया। हरेक मैच के लिए नए टीम संयोजन को अपनाया और अलग से रणनीति बनाई। कुल मिलाकर कहें तो हमने सही तरीके से खेला, जिससे हमें फाइनल में पहुंच पाए।

रमेश : किसी भी खेल में सही संतुलन की जरुरत होती है, यही हमारे काम आया। हमने आक्रमण व रक्षण का सही संतुलन बनाया। अपनी खामियों को दूर किया और विरोधी टीमों को हमारे मूव को भांपने नहीं दिया।

दिल्ली के खिलाफ खिताबी मुकाबला कितना आसान या कितना मुश्किल?

मनिंदर : यह सत्र बेहद कठिन रहा है। हरेक टीम जीत के लिए अंतिम मिनट तक लड़ी हैं। दबंग दिल्ली के लिए यह सत्र अभूतपूर्व रहा है। उसका टीम संयोजन और रणनीति अच्छी रही हैं। मैं यही कहना चाहूंगा कि खिताबी मुकाबला काफी रोमांचक होगा और दोनों टीमें अपना 100 फीसद देंगी।

रमेश : दबंग दिल्ली काफी मजबूत टीम है लेकिन मेरी टीम भी बिना किसी दबाव के उतरेगी। कोच के तौर पर मैं अपने खिलाडि़यों को अन्य दिनों की तरह ही खेलने को कहूंगा लेकिन हमारा लक्ष्य ट्रॉफी जीतना होगा।

दिल्ली के नवीन कुमार और रविंदर पहल जैसे इन फार्म खिलाडि़यों को रोकने के लिए आपकी क्या रणनीति होगी?

मनिंदर : दिल्ली के लिए नवीन कुमार इस साल सरप्राइज पैकेज रहे हैं। उन्होंने बेहद खूबसूरती से खेला है और हर मैच में योगदान किया है। इसी तरह रविंदर उनके प्रमुख डिफेंडर रहे हैं लेकिन हमारे पास दिल्ली के सभी खिलाडि़यों के लिए रणनीति है।

रमेश : हमारी अपनी रणनीति है, जिसे हम योजना के मुताबिक क्रियान्वित करने की कोशिश करेंगे।

प्रश्न : आपके कौन से खिलाड़ी फाइनल में अहम साबित हो सकते हैं?

मनिंदर : हम फाइनल में एक टीम की तरह खेलेंगे। हर खिलाड़ी का योगदान मायने रखेगा। रेडिंग में नबीबख्श, प्रपंजन और सुकेश हेगड़े अहम भूमिका निभाएंगे तो डिफेंस में बलदेव सिंह, जीवा कुमार और ¨रकू नरवाल टीम की दीवार की तरह होंगे।

रमेश : फाइनल में हमारे सभी खिलाड़ी महत्वपूर्ण हैं। हम हालात के मुताबिक खिलाड़ी और रणनीति बदलते रहेंगे। टीम खिताबी मुकाबले में अपना सर्वोत्तम देगी

फाइनल से पहले आप अपनी टीम के समर्थकों को क्या कहना चाहेंगे?

मनिंदर : हम अपने समर्थकों को यही कहेंगे कि हम यह खिताब आपके लिए जीतना चाहते हैं और इसके लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं।

रमेश : हमारी टीम को हमेशा जबरदस्त समर्थन मिला है, जो हमारे लिए अमूल्य है। हम प्रशंसकों से यही कहेंगे कि इसे जारी रखें। हम आपके लिए यह खिताब जीतना चाहते हैं।

1952 से 2019 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.