तीसरी लहर से निपटने आरजीएच में ऑक्सीजन प्लांट का निर्माण

कोरोना की दूसरी लहर के थमने के बाद राउरकेला सरकारी अस्पताल में तीसरी लहर से निपटने की तैयारियां कर ली गई हैं।

JagranMon, 02 Aug 2021 07:24 AM (IST)
तीसरी लहर से निपटने आरजीएच में ऑक्सीजन प्लांट का निर्माण

जागरण संवाददाता, राउरकेला : कोरोना की दूसरी लहर के थमने के बाद राउरकेला सरकारी अस्पताल में तीसरी लहर से निपटने की तैयारियां कर ली गई हैं। इसके लिए अस्पातल परिसर में ही 50 लाख रुपये की लागत पर एक हजार एलएमपी क्षमता वाले ऑक्सीजन प्लांट के साथ ही वातावरण से ही ऑक्सीजन लेकर बेड तक पहुंचाने के लिए प्रेशर स्वींग आब्जवर्सन (पीएसए) मशीन लग चुकी है। दूसरी लहर में उत्पन्न असुविधा से सबक लेते हुए तीसरी लहर से निपटने के लिए आवश्यक जांच, चिकित्सक व चिकित्सा कर्मी, बेड आदि का प्रबंधन कर लिया गया है। गंभीर मरीजों को यहां से जेपी अस्पताल, हाइटेक अस्पताल तथा इस्पात निदान केंद्र स्थानांतरित किया जाएगा। राउरकेला सरकारी अस्पातल में 54 बेड वाले आइसोलेशन वार्ड बनाया गया है पर यहां अब दूसरे संक्रमित 22 मरीजों का इलाज चल रहा है। यहां कोरोना के एक भी मरीज नहीं हैं। यहां गंभीर मरीजों के लिए आइसीयू या वेंटिलेटर की सुविधा नहीं है। किसी मरीज की तबीयत बिगड़ने पर उसे तत्काल हाइटेक कोविड अस्पातल में स्थानांतरित किया जाएगा। यहां से मरीजों को फर्टिलाइजर में 100 बेड वाले इस्पात निदान केंद्र में भी भेजा जा सकता है जहां सभी बेड में ऑक्सीजन की आपूर्ति की सुविधा है। कोरोना की दूसरी लहर में ऑक्सीजन की कमी महसूस की गई थी पर यहां इसकी कमी से किसी की मौत नहीं हुई थी। तीसरी लहर आने की संभावना तथा ऑक्सीजन संकट से निपटने के लिए केंद्र और राज्य सरकार की ओर से राउरकेला सरकारी अस्पताल में ऑक्सीजन प्लांट का निर्माण कार्य शुरू हो चुका है। आरजीएच क्षेत्र में जगह की कमी के चलते मातृ एवं शिशु अस्पताल (एमएचसीएच) भवन के पास प्लांट बनाया जा रहा है। इसकी क्षमता 833 एलपीएम (लीटर प्रति मिनट) है। लोक निर्माण विभाग द्वारा बनाए जा रहे प्लांट की स्थापना पर 50 लाख रुपये से अधिक खर्च होंगे। ऑक्सीजन को वातावरण से एकत्र किया जाएगा और संयंत्र के माध्यम से रोगियों तक पहुंचाया जाएगा। इसके अलावा पीएसए मशीन भी लगाई गई है। इसके जरिए ऑक्सीजन वातावरण से लेकर सीधे बेड तक पहुंचाया जाएगा। अस्पातल में भी कोरोना का आरटीपीसीआर व एंटीजेन टेस्ट सुविधा है। एक दिन जरूरत के अनुसार सभी नमूनों की जांच की जा सकती है। कोरोना के इलाज के लिए सरकार की ओर से आवश्यक सभी जीवन रक्षक दवाएं उपलब्ध करायी गई है। सरकार की ओर से तीसरे लहर को लेकर किसी तरह का निर्देश जारी नहीं किया गया है। इसके बावजूद अस्पताल प्रबंधन की ओर से सभी तरह की तैयारी होने की बात प्रबंधक मोहित कुमार श्रीवास्तव ने कही है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.