नशे की गिरफ्त में कराह रहा बचपन

कहा जाता है कि बच्चों को जिस माहौल में ढाला जाए वे ढल जाते हैं लेकिन हैरानी तो तब होती है जब पढ़ने-लिखने व खेलने की उम्र में छोटे-छोटे मासूम नशे की लत में चूर नजर आते हैं।

JagranFri, 03 Dec 2021 07:20 AM (IST)
नशे की गिरफ्त में कराह रहा बचपन

संसू, बंडामुंडा : कहा जाता है कि बच्चों को जिस माहौल में ढाला जाए, वे ढल जाते हैं, लेकिन हैरानी तो तब होती है जब पढ़ने-लिखने व खेलने की उम्र में छोटे-छोटे मासूम नशे की लत में चूर नजर आते हैं। जी हां ऐसा ही नजारा रेलनगरी बंडामुंडा में देखने को मिल रहा है। यहां की युवा पीढ़ी में तेजी से नशे की लत फैल रही है। वहीं, जवान हो रही पीढ़ी (14 से 20 साल) में नशे की लत तेजी से फैल रही है। यह नशा शराब या सिगरेट का नहीं है, बल्कि गांजा और ब्राउन शुगर का है। इस तरह का नशा करने की वजह से युवाओं की मानसिक स्थिति बिगड़ती जा रही है। कई का तो मनोरोग चिकित्सालयों में इलाज भी चल रहा है। वहीं इस नशे के आदी होने के बाद से क्षेत्र में अपराध भी बढ़ते जा रहे है। बंडामुंडा क्षेत्र के डीजल कॉलोनी, सेक्टर -ई, ए, बी और सी में युवा पीढ़ी नशे की ज्यादा आदी हो जाने से क्षेत्र में चोरी, लूटपाट, मारपीट जैसी घटना लगातार बढ़ती जा रही है। आलम यह है कि क्षेत्र में चंद रुपये के लिए युवा लूट करते नजर रहे है। क्षेत्र में पिछले दो वर्षों के आंकड़े देखे जाए तो क्षेत्र में हुई चोरी, लूटपाट सहित अन्य वारदातों में सबसे ज्यादा आरोपित युवा वर्ग के हैं।

क्षेत्र के युवाओं के लिए गांजा और ब्राउन शुगर खरीदना आसान सी बात है। लेकिन कानून व्यवस्था से जुड़ी पुलिस को इसकी भनक तक नहीं कि अवैध गांजा और ड्रग्स का कारोबार शहर में कहां और किस तरह हो रहा है। हैरत की बात यह है की यह नशा अब शहर के साथ साथ गांवों में भी देखने को मिल रहा है। ड्रग्स युवाओं के दिलो दिमाग पर इस कदर छा जाता है कि 15 दिन में वे इसके आदी हो जाते हैं। इसकी तलब मिटाने के लिए युवा चोरी करने लगते है। शहर की रगो में नशा बसता जा रहा है। दिनों दिन नशे की जड़ें मजबूत होती जा रही हैं। कभी चोरी छिपे बिकने वाले नशे का सामान, आज धड़ल्ले से बिक रहा है। गांजा के धुएं से जवानी सुलग रही और नशीले इंजेक्शन नसों में उतारे जा रहे हैं। शहर की गली-गली में नशे के दीवाने झूमते दिख रहे हैं। नशे के आदी युवाओं की बर्बादी का मंजर खुलेआम शहर में चलता जा रहा है। जो युवाओं के परिवारों को बर्बादी की ओर ले जा रहा है।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.