साइबर लुटेरों ने डॉक्टरों को 1 करोड़ 30 लाख रुपए का लगाया चूना, FD पर भी किया हाथ साफ

डॉक्टर के बैंक अकाउंट से करीब 78 लाख रुपए ले उड़े हैं साइबर अपराधी।

कटक में साइबर लुटेरों ने दो डॉक्‍टरों के बैंक अकाउंट से 1 करोड़ 30 लाख रुपए पर हाथ साफ कर लिया है साथ ही उनकी 6 से 7 फिक्स डिपाजिट यानी स्थाई जमा से भी करीब 67 लाख रुपए साइबर अपराधी ले उड़े हैं।

Babita KashyapThu, 18 Feb 2021 02:21 PM (IST)

कटक, जागरण संवाददाता। कटक में रहने वाले एक अवसर प्राप्त डॉक्टर के बैंक अकाउंट से करीब 78 लाख रुपए ले उड़े हैं साइबर अपराधी। फरवरी 9 तारीख से 15 तारीख के बीच साइबर अपराधी डॉक्टर के अकाउंट से विभिन्न पड़ाव में उनके दो बैंक अकाउंट से करीब 77 लाख 86 हजार 727 रुपए लूट लिए हैं। इस संबंध में एक मामला बुधवार को क्राइम ब्रांच साइबर थाने में की गई है। लेकिन सबसे हैरान करने वाली बात यह है कि डॉक्टर के 6 से 7 फिक्स डिपाजिट यानी स्थाई जमा से भी करीब 67 लाख रुपए साइबर अपराधी ले उड़े हैं। इस लूट को राज्य का सबसे बड़ा साइबर लूट माना जा रहा है। हालांकि इस क्षेत्र में बैंक अधिकारियों की गैर जिम्मेदाराना हरकत भी सामने आयी है। इस लूट में पश्चिम बंगाल के साइबर अपराधियों का हाथ होने का संदेह किया जा रहा है। 

सूचना के मुताबिक, अनुगुल एनटीपीसी अस्पताल में कार्य करने वाले डॉक्टर सनातन मोहंती पिछले 4 सालों से कटक सीडीए सेक्टर 7 इलाके में रह रहे है। पिछले 9 फरवरी अपराह्न को उनके मोबाइल फोन पर  एक कॉल आया। फोन करने वाला युवक हिंदी में बात कर रहा था। डॉ सनातन के बीएसएनल नंबर में केवाईसी अपडेट नहीं हुआ है और उनका नंबर ब्लॉक हो जाएगा। यह बात इस युवक ने डॉक्टर को फोन पर बतायी। 

साइबरअपराधी ने उन्हें कहा  केवाईसी अपडेट न करने सिम कार्ड ब्लॉक हो जाएगा। उसे एक्टिव करने के लिए गूगल प्ले स्टोर से टीम विवर क्विक सपोर्ट एप्लीकेशन डाउनलोड कर लें। सनातन साइबर अपराधी के चाल को समझ नहीं पाये और उस एप्लीकेशन को फोन पर डाउनलोड कर लिया। एप्लीकेशन डाउनलोड होने के पश्चात फोन में उस बीएसएनल नंबर के लिए 10 रुपए का रिचार्ज करने के लिए उन्हें कहा गया। जिसमें डेबिट कार्ड नंबर, सीवीवी नंबर दिए। 

 यह सब देकर उन्‍होंने मोबाइल रिचार्ज किया। तभी दूसरी तरफ टीम विवर के माध्यम से साइबर अपराधी उनके डेबिट कार्ड नंबर सीवीवी नंबर चोरी कर लिया था। सनातन के मोबाइल को एक ओटीपी आया था।ओटीपी भी उसने साइबर अपराधियों को दे दिया था। इसके बाद बीड़ानासी और तुलसीपुर में मौजूद एसबीआई बैंक शाखा से पहले उनका 25 लाख 29 हजार 298 रुपए फिर 24 लाख 28 हजार 421 रुपए गायब हो गई थी। उसी शाम के 6:45 बजे को सनातन के मोबाइल का एटीएम कार्ड ब्लॉक हो जाने का एक मैसेज आया था। 

 ऐसा मैसेज पाने के पश्चात उन्‍होंने बैंक शाखा में संपर्क किया था। बैंक अधिकारी ने जांच किए बगैर उन्हें और एक एटीएम कार्ड लेने के लिए सलाह दे दी। पहला वाला एटीएम ब्लॉक हो जाने हेतु नया एटीएम में उन्हें किसी भी तरह की परेशानी नहीं होगी यह भरोसा दिया। लेकिन साइबर अपराधी पिछले 9 फरवरी को डॉक्टर सनातन से लिए तमाम तथ्य के आधार पर उनके अकाउंट से तमाम रुपए लूट लिये थे। इस बारे में साइबर थाने में आरोप आने के पश्चात क्राइमब्रांच साइबर थाना पुलिस घटना की जांच पड़ताल शुरू कर दी है।

ठीक इसी तरह कटक में ही एक आयुर्वेदिक डॉक्टर से भी 52 लाख रुपए की ठगी होने की सूचना मिली है। डॉक्टर के बैंक अकाउंट से साइबर अपराधी बीमा करने की आड़ में विभिन्न पड़ाव में 52 लाख रुपए ले उड़े। साइबर अपराधी बीमा कंपनी के नाम पर 30 लाख रुपए जमा करने से उन्हें 60 लाख रुपए मिलने का लालच दिया था। जिसके चलते डॉक्टर झांसे में आकर विभिन्न पड़ाव में 52 लाख रुपए दे दिए थे। लेकिन अब यह सब फर्जी होने की बात का पता चली है। 

 यह अपराध कार्य जमतरा गैंग या नाइजीरियन गैंग का होने का अनुमान लगाया जा रहा है। जो कि नकली बीमा संस्थान के नाम पर ठगी करते आ रहे हैं। इस बारे में भी साइबर थाने में एक मामला आने के पश्चात सदर थाना पुलिस घटना की जांच पड़ताल शुरू कर दी है। हालांकि इस लूट के बारे में क्राइमब्रांच की ओर से समाचार लिखे जाने तक विस्तृत जानकारी नहीं दी गई है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.