12 सहायक सुपरिटेंडेंट का वेतन सरकार ने रोका

संसू, भुवनेश्वर : कंधमाल जिला अंतर्गत दा¨रगीबाड़ी इलाके के एक आवासीय विद्यालय के छात्रावास में नाबालिग छात्रा के प्रसव मामले में राज्य शिक्षा विभाग ने 12 सहायक सुपरिटेंडेंट का वेतन रोक दिया है। सरकार की ओर से बताया गया है कि इन सहायक सुपरिटेंडेंट को अपने अपने कार्यस्थल में अनुपस्थित पाए जाने की सजा दी गई है। सरकार इसके जरिए संदेश देना चाहती है कि सरकार द्वारा परिचालित किसी भी आवासीय स्कूल या हॉस्टल में इस तरह की घटना की पुनरावृत्ति न हो। जिन सरकारी कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई की गई है उनमें घुमसुर उदयगिरी के काट्रींगिआ स्कूल छात्रावास की सहायक सुपरिटेंडेंट शोभाराणी नायक, खजुरीपड़ा ब्लॉक लंबागुड़ा की स्वाती तन्मय पंडा, दुति पड़ा की सस्मिता दास, फुलवाणी साईगीता स्कूल की संगीता पटनायक, सार्तागुडा की सत्यवती महाकुड़, कुंजिपड़ा की ममता मंजरी साहू, मुंडिपड़ा मां भैरवी स्कूल की विद्युतलता महांती, चकापाद मां भैरवी बालिका स्कूल की सागरिका महापात्र, फि¨रगिआ सलागुड़ा की अनंगमंजरी देहुरी, टिकाबाली मुनिगांव की ज्योत्सनारानी पंडा एवं तुमुडिबंध ब्लॉक के लंगागढ़ छात्रावास की सुपरिटेंडेट शामिल हैं। जिला मंगल अधिकारी चारूलता मलिक ने बताया कि दारिगींबाड़ी घटना को प्रशासन ने गंभीरता से लिया है और कर्तव्य में अवहेलना करने वाले कर्मचारियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई का निर्देश दिया है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.