Dengue: भुवनेश्‍वर में डेंगू मच्छर का आतंक, 2212 मरीजों की हुई पहचान

Dengue ओडिशा के भुवनेश्‍वर में डेंगू मच्‍छर ने आतंक मचाया हुआ है। बीएमसी का दावा है कि 2212 डेंगू मरीजों में से1383 मरीज स्वस्थ हो चुके है। दूसरी तरफ डेंगू के खिलाफ बीएमसी और आंगनवाड़ी कर्मी घर-घर जाकर लोगों को जागरूक कर रहे है।

Babita KashyapTue, 07 Sep 2021 02:16 PM (IST)
भुवनेश्वर के उपनगरीय इलाका डेंगू मच्छरों का उत्पत्ति का केंद्र बन गया है।

भुवनेश्वर, जागरण संवाददाता। राजधानी भुवनेश्वर के उपनगरीय इलाका डेंगू मच्छरों का उत्पत्ति का केंद्र बन गया है। बीएमसी की तरफ से 67 वार्ड में कचरों के ढेर और जल निकासी के लिए बने नालों व अन्य जलभराव वाले जगहों में डेंगू मच्‍छरों के निवारण के लिए कदम उठाए गए हैं लेकिन उपनगरीय इलाकों के प्रति प्रशासन का ध्यान नही है। उपनगरीय अंचल के पंचायतों की तरफ से भी इसकी अनदेखी की गई, इनमें बीएमसी के 59 नंबर वार्ड से सटे शिशुपालगढ़ और लिंगीपुर के पंचायत शामिल हैं। इन दो पंचायत में बारिश के पानी के निकास की व्यवस्था नही है जिसकी वजह से आसपास के इलाकों में जलभराव की समस्या रहती है। जिसकी वजह से पानी में पड़ा कूड़ा सड़ता रहता है।

स्थानीय लोगों ने इसके खिलाफ प्रशासन में शिकायत दर्ज कराई है। अब तक भुवनेश्वर तथा बीएमसी अंचल में 2212 डेंगू मरीज चिंहित किये गए है। यह सरकारी आंकड़ा है लेकिन वास्तव में डेंगू मरीजों की संख्या इससे अधिक है। बीएमसी का दावा है कि 2212 डेंगू मरीजों में से1383 मरीज स्वस्थ हो चुके है। दूसरी तरफ डेंगू के खिलाफ बीएमसी और आंगनवाड़ी कर्मी घर-घर जाकर लोगों को जागरूक कर रहे है। बीएमसी ने मच्छरों के उदगम जगहों को चिंहित किया है और लार्वा को नष्ट किया। इन प्रयासों के बावजूद भी डेंगू मरीजों की संख्या में कोई कमी नही हो रही। शहर के कई नालों की ठीक से साफ-सफाई न होने और दवाई छिड़काव न करने से डेंगू महामारी का रूप ले रहा है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.