Odisha: चुनाव आयोग पर हमलावर हुई भाजपा, संसद में महाभियोग प्रस्ताव लाने की दी धमकी

भारतीय जनता पार्टी ने राज्य चुनाव आयोग से ओडिशा में पंचायत एवं नगर निकाय चुनाव को जल्द से जल्द कराने की मांग की। भाजपा प्रवक्ता पीताम्बर आचार्य ने कहा है कि नगर निकायों का कार्यकाल 2018 से ही खत्म हो गया है मगर अभी तक चुनाव नहीं हो पाया है।

Babita KashyapMon, 26 Jul 2021 11:22 AM (IST)
ओडिशा में पंचायत एवं नगर निकाय चुनाव को जल्द से जल्द कराने की मांग

भुवनेश्वर, जागरण संवाददाता। भारतीय जनता पार्टी ने ओडिशा में पंचायत एवं नगर निकाय चुनाव को जल्द से जल्द कराने की मांग करते हुए राज्य चुनाव आयोग एवं ओडिशा सरकार पर तीखा प्रहार किया है। भाजपा ने कहा है कि नगर निकाय में जन प्रतिनिधि नहीं है। आम लोगों को उनके मौलिक अधिकार से वंचित किया जा रहा है। यह जनतंत्र के लिए ठीक नहीं है। नगर निकाय एवं पंचायत चुनाव तुरन्त कराए जाने चाहिए।

राज्य भाजपा कार्यालय में आयोजित एक पत्रकार सम्मेलन को सम्बोधित करते हुए प्रदेश भाजपा अध्यक्ष समीर महांति एवं प्रवक्ता पीताम्बर आचार्य ने कहा है कि प्रदेश के पांच महानगर एवं 109 नगर निकाय में चुनाव नहीं हो पा रहा है। चुनाव में हो रही देरी को लेकर चुनाव आयोग हाईकोर्ट जाएं, चुनाव आयोग यदि एक सप्ताह में हाईकोर्ट नहीं गए तो फिर संसद में महाभियोग प्रस्ताव लाए जाने की बात भाजपा प्रवक्ता पीताम्बर आचार्य ने कही है। भाजपा प्रवक्ता ने कहा है कि नगर निकायों का कार्यकाल 2018 से ही खत्म हो गया है, मगर अभी तक चुनाव नहीं हो पाया है। ऐसे में चुनाव अधिकारी को राज्य चुनाव आयोग के पद पर बैठने का अधिकार नहीं है। पंचायत चुनाव से पहले नगर निकाय चुनाव कराने की भाजपा ने मांग की है।

 वहीं दूसरी तरफ भाजपा के आरोप पर पलटवार करते हुए बीजू जनता दल के प्रवक्ता लेनिन महांति ने कहा है कि राज्य चुनाव आयोग जैसे संवैधानिक अनुष्ठान की राज्य भाजपा ने अनादर किया है। यह दुर्भाग्यजनक एवं निंदनीय है। भाजपा की इस टिप्पणी से आज एक बार फिर ओडिशा वासियों के सामने जनतंत्र की हत्या हुई है। भाजपा के पत्रकार सम्मेलन का जवाब देते हुए बीजद प्रवक्ता लेनिन महांति ने कहा कि अपने इसी अहंकार के कारण भाजपा लगातार नगर निकाय एवं पंचायत चुनाव में पराजित होती आ रही है, मगर अपने पराजय से भी वह शिक्षा नहीं ले रही है।

बीजद प्रवक्ता ने कहा कि 2019 से जितने भी उप चुनाव हुए हैं, ओडिशा के लोगों ने बीजद उम्मीदवारों को चुना है। यहां तक कि 2019 चुनाव में भाजपा ने जो सीट जीती थी, उसे भी हार गई है। ओडिशा भाजपा के नेताओं को मान्यवर सर्वोच्च न्यायालय, मान्यवर उच्च न्यायालय, भारतीय चुनाव आयोग एवं राज्य चुनाव आयोग जैसे संवैधानिक अनुष्ठान का सम्‍मान करना सीखना होगा। यदि उनकी कोई शिकायत है तो उन्हें अदलात का दरवाजा खटखटाना चाहिए। ऐसे करने के बदले चुनाव आयोग जैसी संवैधानिक संस्थान का अनादर करना एवं राज्य वासियों को भ्रमित करना उचित नहीं है। बीजू जनता दल हर समय चुनाव के लिए तैयार है, वह चाहे पंचायत चुनाव हो या फिर आम चुनाव। इसका कारण है कि चुनाव के लिए नहीं बल्कि लोगों के हित के लिए काम करते हैं। ओडिशा के लोग हमारे अच्छे कार्य के लिए ही प्रत्येक चुनाव में सरताज पहनाते आ रहे हैं।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.