दिव्यांग किसान ने अपनी प्रतिभा का मनवाया लोहा, वीडियो देख नम हो जाएंगी आंखें

दिव्यांग किसान ने अपनी प्रतिभा का मनवाया लोहा, वीडियो देख नम हो जाएंगी आंखें
Publish Date:Fri, 18 Sep 2020 05:24 PM (IST) Author: Umanath Singh

नई दिल्ली, लाइफस्टाइल डेस्क। साथी हाथ बढ़ाना, साथी हाथ बढ़ाना, एक अकेला थक जाएगा मिल कर बोझ उठाना यह गाना साहिर लुधियानवी ने लिखा है। इसका मुखड़ा आज भी चरितार्थ साबित हो रहा है। इस छंद को एक दिव्यांग किसान सच करने की कोशिश में है। इसका वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है, जिसे देख लोग हैरान हैं और उनकी आंखें नम हो गई हैं।

इस वीडियो में साफ देखा जा रहा है कि एक दिव्यांग व्यक्ति जो पेशे से किसान है। अपनी प्रतिभा और दक्षता का परिचय दे रहा है। इस समय धान की खेती का समय है, तो दिव्यांग किसान भी दिन भर खेतों में काम करता रहता है। इस दौरान वह खेत में मेंड़ बांधता है और खेतों से खरपतवार बाहर करता है। दिव्यांग व्यक्ति का आत्मबल देखने लायक है। मानो उसने अपनी कमजोरी को ताकत बना लिया है।

इस वीडियो में दिव्यांग व्यक्ति धान के खेत में मेंड़ बांध रहा है। इसके लिए वह बैशाखी का सहारा ले रहा है। इस दौरान वह बैशाखी पर अपने शरीर का भार देता है। जबकि हाथों से कुदाल चलाकर खेत से मिट्टी निकालकर मेंड़ पर रख रहा है। वीडियो वाकई में प्रशंसनीय है, जिसे देख लोग दिव्यांग किसान की जमकर तारीफ कर रहे हैं। इस वीडियो को दिव्यांग व्यक्ति के किसी सहयोगी ने रिकॉर्ड किया है।

इस वीडियो को भारतीय वन सेवा के अधिकारी ने रीट्वीट किया है

इस वीडियो को भारतीय वन सेवा के अधिकारी सुशांत नंदा ने सोशल मीडिया ट्विटर पर अपने अकांउट से रीट्वीट किया है। इसके कैप्शन में उन्होंने लिखा है- कोई भी शब्द इस वीडियो के साथ न्याय नहीं कर सकता है। इस वीडियो को खबर लिखे जाने तक 3 लाख 40 हजार से अधिक लोग देख चुके हैं और तकरीबन 20 हजार लोगों ने लाइक किया है और 3 हजार से अधिक लोगों ने वीडियो को रीट्वीट किया है। जबकि सैकड़ों लोगों ने कमेंट किए हैं, जिसमें उन्होंने दिव्यांग किसान के आत्मबल की सराहना की है।

Image Courtesy:यह तस्वीर ट्वीटर के अकाउंट Susanta Nanda से ली गई है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.