Vijay Mallya Case: विजय माल्या ने बैंकों का उड़ाया मजाक, कहा- अभी भी उनका पैसा है पास

माल्या ने ट्विटर पर एक खबर पोस्ट की। इसमें कहा गया है कि आइडीबीआइ बैंक ने एयरलाइंस के ऊपर बकाया 753 करोड़ रुपये वसूल लिए हैं। इसके साथ ही भगोड़े कारोबारी ने ट्वीट किया और बैंक कहते हैं मैं उनका बकायेदार हूं।

Pooja SinghFri, 30 Jul 2021 12:20 AM (IST)
विजय माल्या ने बैंकों का उड़ाया मजाक, कहा- अभी भी उनका पैसा है पास

नई दिल्ली, प्रेट्र। आइडीबीआइ बैंक द्वारा बंद हो चुकी किंगफिशर एयरलाइंस से अपना पूरा बकाया वसूल कर चुकने की रिपोर्टो के साथ भगोड़े शराब कारोबारी विजय माल्या ने गुरुवार को बैंकों का मजाक उड़ाते हुए कहा कि अभी भी उसके पास बैंकों का धन है। माल्या ने ट्विटर पर एक खबर पोस्ट की। इसमें कहा गया है कि आइडीबीआइ बैंक ने एयरलाइंस के ऊपर बकाया 753 करोड़ रुपये वसूल लिए हैं।

इसके साथ ही भगोड़े कारोबारी ने ट्वीट किया, 'और बैंक कहते हैं, मैं उनका बकायेदार हूं। 'मालूम हो कि ब्रिटेन की एक अदालत ने सोमवार को माल्या को दिवालिया घोषित करने का आदेश जारी किया था। इससे भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआइ) की अगुआई में भारतीय बैंकों के समूह के लिए किंगफिशर के ऊपर बकाये कर्ज की वसूली के लिए वैश्विक स्तर पर उनकी संपत्तियों की जब्ती की कार्रवाई कराने का रास्ता साफ हो गया है।

याद दिला दें कि माल्या मार्च, 2016 में ब्रिटेन भाग गया था। वह भारत में 9,000 करोड़ रुपये के कर्ज की हेराफेरी और मनी लांड्रिंग मामले में वांछित है। यह कर्ज किंगफिशयर एयरलाइंस को कई बैंकों ने दिया था।

गौरतलब है कि ब्रिटिश हाई कोर्ट ने भगोड़े कारोबारी विजय माल्या को दिवालिया घोषित कर दिया है। इसके साथ ही भारतीय बैंकों के लिए दुनिया भर में फैली उसकी संपत्तियों को जब्त करने का रास्ता आसान हो गया है। माल्या ने अब बंद हो चुकी अपनी किंगफिशर एयरलाइंस के लिए भारतीय बैंकों से नौ हजार करोड़ रुपये से ज्यादे का कर्ज लिया था और जब कंपनी डूबी तो कर्ज चुकाए बिना ही वह लंदन भाग गया।

 

बता दें कि हाल ही में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने बताया था कि मनी लांड्रिंग-रोधी कानून के तहत किंगफिशर एयरलाइंस के अटैच किए गए शेयरों के एक हिस्से की बिक्री के जरिये एसबीआइ के नेतृत्व वाले कर्जदाता कंसोर्टियम को 792.11 करोड़ रुपये मिल गए हैं। ईडी की ओर से जारी बयान के मुताबिक देश के दो सबसे बड़े बैंक लोन घोटालों में फंसी कुल रकम का करीब 58 फीसद हिस्सा बैंकों और सरकार को वापस मिल चुका है।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.