केंद्रीय मंत्री गहलोत ने लांच किया सुगम्य भारत एप, दिव्यांग और वृद्धजन होंगे लाभान्वित

एक्सेस द फोटो डाइजेस्ट नामक एक हैंडबुक भी लांच किया।

केंद्रीय मंत्री थावरचंद गहलोत ने सुगम्य भारत एप लांच किया। यह क्राउड सोर्सिंग मोबाइल एप्लीकेशन है। इसके साथ उन्होंने एक्सेस द फोटो डाइजेस्ट नामक एक हैंडबुक भी लांच किया। यह 10 क्षेत्रीय भाषाओं में उपलब्ध है जिनमें अंग्रेजी हिंदी मराठी तमिल उडि़या कन्नड़ तेलुगु गुजराती पंजाबी मलयालम शामिल हैं।

Bhupendra SinghWed, 03 Mar 2021 02:04 AM (IST)

नई दिल्ली, प्रेट्र। केंद्रीय मंत्री थावरचंद गहलोत ने मंगलवार को सुगम्य भारत एप लांच किया। यह एक क्राउड सोर्सिंग मोबाइल एप्लीकेशन है। इसके साथ उन्होंने एक्सेस द फोटो डाइजेस्ट नामक एक हैंडबुक भी लांच किया। एप की मदद से दिव्यांगों के साथ ही वृद्धजन इमारतों, परिवहन के माध्यमों या किसी इंफ्रास्ट्रक्चर में पेश आने वाली पहुंच (एक्सेसिबिलिटी) से जुड़ी परेशानियों को रजिस्टर कर सकेंगे। इसके लिए एप पर फोटो अपलोड करनी होगी। उन्हें एप के जरिये इससे संबंधित मामलों पर जानकारी भी मिल सकेगी।

मोबाइल एप में दिव्यांगों द्वारा कोरोना वायरस से संबंधित मुद्दों का समाधान मिलेगा

मोबाइल एप में दिव्यांगों द्वारा कोरोना वायरस से संबंधित मुद्दों का भी समाधान मिलेगा। इस एप और हैंडबुक को सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय के तहत दिव्यांग सशक्तीकरण विभाग ने विकसित किया है।

एप में पांच मुख्य फीचर्स हैं

इस एप में पांच मुख्य फीचर्स हैं, जिनमें से चार सीधे एक्सेसिबिलिटी को बढ़ाने से संबंधित हैं, जबकि पांचवां खास फीचर है, जो दिव्यांगों के लिए केवल कोरोना वायरस से जुड़े मामलों से संबंधित है।

यह एप 10 क्षेत्रीय भाषाओं में उपलब्ध है

एप को कई यूजर फ्रेंडली फीचर्स जैसे आसान ड्रॉप डाउन मेन्यू, हिंदी और अंग्रेजी में वीडियो साइन लैंग्वेज के साथ दिए गए हैं, जो रजिस्ट्रेशन और फोटोग्राफ के साथ शिकायतों को अपलोड करने की प्रक्रिया दिखाते हैं। यह 10 क्षेत्रीय भाषाओं में उपलब्ध है, जिनमें अंग्रेजी, हिंदी, मराठी, तमिल, उडि़या, कन्नड़, तेलुगु, गुजराती, पंजाबी और मलयालम शामिल हैं।

 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.