डिजिटल मार्केटिंग में है संभावनाओं का खुला संसार, जानिए इस फील्ड में आप खुद को कैसे बढ़ा सकते हैं आगे

डिजिटल मार्केटिंग के जानकारों के लिए आज तकरीबन हर छोटी बड़ी कंपनी में नौकरी के मौके हैं। वैसे ऐसे लोगों के लिए अभी सबसे अधिक अवसर डिजिटल मार्केटिंग एजेंसी आनलाइन शापिंग कंपनी रिटेल कंपनी और सर्विस प्रोवाइडिंग कंपनी में उपलब्‍ध हैं।

Dhyanendra Singh ChauhanTue, 28 Sep 2021 04:52 PM (IST)
डिजिटल मार्केटिंग को ही आनलाइन मार्केटिंग या इंटरनेट मार्केटिंग भी कहते हैं

[चेतन देशपांडे]। पिछले कुछ वर्षों से हर तरह के कारोबार को डिजिटल मार्केटिंग के जरिए आगे बढ़ाने का चलन तेजी से बढ़ा है। कोरोना काल में इसमें और उछाल आ गई है। हर तरह के उत्‍पादों और सेवाओं का इंटरनेट के माध्‍यम से प्रचार-प्रसार किया जा रहा है। विशेषज्ञों की मानें, तो भारत जैसी दुनिया की दूसरी विशाल आबादी वाले देश में हर उद्योग को कुशल डिजिटल मार्केटर्स की जरूरत लगातार बढ़ रही है। कहा जा सकता है कि इस क्षेत्र में रुचि रखने वाले युवा आवश्यक कौशल सीखकर और अपडेट रहकर इस क्षेत्र में खुद को आगे बढ़ा सकते हैं...

कोरोना महामारी के बाद से बहुत सारे नये उद्योग अब डिजिटल मार्केटिंग का उपयोग कर रहे हैं, बल्कि पहले से कहीं ज्‍यादा पैसे डिजिटल मार्केटिंग और इस तरह के ऐड में निवेश कर रहे हैं। परंपरागत मार्केटिंग की तुलना में आनलाइन मार्केटिंग को काफी असरदार भी देखा जा रहा है। क्‍योंकि लोगों के बीच डिजिटल चैनल्‍स और इंटरनेट मीडिया का दखल और प्रभाव काफी बढ़ गया है। शायद ही कोई हो जो सुबह उठकर वाट्सएप या फेसबुक न देखता हो या दिन के समय इस पर एक्टिव न रहते हों। दरअसल, मार्केटिंग का मकसद ही यही होता है कि ज्‍यादा से ज्‍यादा लोगों तक अपने बिजनेस की जानकारी पहुंचाई जाए। ऐसे में आफलाइन और आनलाइन मार्केटिंग साथ में किये जाने से बिजनेस में कहीं ज्यादा मुनाफा देखा जा रहा है। यही वजह है कि बड़ी संख्‍या में छोटी-बड़ी सभी तरह की कंपनियां कम समय में अपने टारगेट ग्राहकों तक पहुंचने के लिए डिजिटल मार्केटिंग में रुचि ले रही हैं। इसीलिए हर कंपनी और उद्योग को अपने उत्पादों या सेवाओं के लिए डिजिटल मार्केटिंग के विशेषज्ञों की जरूरत पड़ रही है।

क्‍या है डिजिटल मार्केटिंग

डिजिटल मार्केटिंग को ही आनलाइन मार्केटिंग या इंटरनेट मार्केटिंग भी कहते हैं। इस तरह की मार्केटिंग का मतलब है इंटरनेट मीडिया (वाट्सएप, फेसबुक, ट्विटर, यूट्यूब आदि) के जरिए उत्‍पादों और सेवाओं का प्रचार-प्रसार करना। परंपरागत मार्केटिंग में जहां बैनर, होर्डिंग, साइनबोर्ड आदि के जरिए उत्‍पाद और सेवाओं के प्रचार-प्रसार किये जाते हैं, वहीं डिजिटल मार्केटिंग में मुख्‍य रूप से गूगल सर्च, वाट्सएप, फेसबुक, ट्विटर, ईमेल और वेबसाइट्स का इस्‍तेमाल किया जाता है।

असीमित संभावनाएं

माना जा रहा है कि अगले दो तीन साल में कंपनियों का डिजिटल ऐड खर्च भी बढ़कर लगभग उतना ही हो जाएगा, जितना अभी प्रिंट ऐड पर वे खर्च कर रही हैं। यही कारण है कि नौकरियों के लिहाज से भी इस फील्‍ड में असीमित संभावनाएं देखी जा रही हैं। वैसे, भी कोरोना महामारी के बाद आनलाइन गतिविधियां बढ़ने से इस तरह की मार्केटिंग पर काफी जोर दिया जा रहा है। तकरीबन हर कंपनी के अपने आनलाइन प्‍लेटफारर्म्स, एप्‍स और वेबसाइट हैं, जिसके लिए कंपनियां अपने ब्रांड (प्रोडक्‍ट/सर्विसेज) को प्रमोट करने के लिए डिजिटल मीडिया मार्केटर, सोशल मीडिया मैनेजर जैसे पदों के लिए नियुक्तियां भी करने लगी हैं। माना जा रहा है कि जिस तेजी से पिछले एक डेढ साल में तमाम कंपनियां आनलाइन बिजनेस में आई हैं और लगातार आ रही हैं, उससे कुशल डिजिटल मार्केटर्स की जरूरत लगातार बढ़ रही है।

करियर के मौके

डिजिटल मार्केटिंग के जानकारों के लिए आज तकरीबन हर छोटी बड़ी कंपनी में नौकरी के मौके हैं। वैसे, ऐसे लोगों के लिए अभी सबसे अधिक अवसर डिजिटल मार्केटिंग एजेंसी, आनलाइन शापिंग कंपनी, रिटेल कंपनी और सर्विस प्रोवाइडिंग कंपनी में उपलब्‍ध हैं। इसके अलावा, तमाम कारपोरेट कंपनियां यहां तक कि निजी स्‍कूल/कालेज, कोचिंग इंस्‍टीट्यूट्स और पोटर्ल्‍स भी इस तरह के प्रोफेशनल्‍स की अपने यहां सेवाएं ले रहे हैं।

इन भूमिकाओं में डिमांड

उपयुक्‍त स्किल और कुशलता हासिल करके आप इस फील्‍ड में डिजिटल मार्केटिंग, सोशल मीडिया मार्केटिंग, डिजिटल ऐड, कंटेंट मार्केटिंग, एसईओ मार्केटिंग जैसे विभिन्‍न क्षेत्रों में अपनी विशेषज्ञता के अनुसार जाब तलाश सकते हैं। फिलहाल इनदिनों इस फील्‍ड में इस तरह के लोगों की बहुत डिमांड है...

डिजिटल मार्केटिंग कंसल्‍टेंट/सोशल मीडिया मैनेजर

डिजिटल मार्केटिंग के अंतर्गत सोशल मीडिया मैनेजर अपनी टीम के साथ मिलकर फेसबुक, ट्विटर, इंस्‍टाग्राम,लिंक्‍डइन, वाट्सएप तथा यूट्यूब जैसे मीडियम के माध्‍यम से कंपनियों के ब्रांड के प्रचार-प्रसार का काम देखते हैं। हालांकि तकनीक बदलने और उन्नत होने से इनकी भूमिका में बदलाव भी आ रहा है। ऐसे लोग अब कंटेंट लिखने के साथ-साथ इंफो, ऐड तैयार करने के अलावा कंटेंट और ग्राफिक डिजाइनिंग का भी काम देखने लगे हैं। वेबसाइट और एप्‍स का ट्रैफिक मॉनीटर कर उसकी एनालिसिस जैसे काम भी यही लोग देखते हैं। इस पद पर पांच से 10 साल के अनुभवी लोग अपनी सेवाएं देते हैं।

सोशल मीडिया एग्‍जीक्‍यूटिव

सोशल मीडिया मैनेजर की तुलना में यह जूनियर पद है। शुरुआत में डिजिटल मार्केटिंग का कोर्स करके आने वाले युवाओं को इसी पद पर ज्‍वाइनिंग मिलती है। ये प्रोफेशनल्‍स सोशल मीडिया मैनेजर्स के सहयोगी के रूप में काम करते हैं, जिनका प्रमुख कार्य सोशल साइट्स पर कंपनियों की ब्रांडिंग और मार्केटिंग के लिए वीडियो या इमेज पोस्‍ट इत्‍यादि अपलोड करना होता है।

ग्राफिक डिजाइनर्स/वीडियो एडिटर्स

डिजिटल मार्केटिंग के तहत आजकल कंटेंट के अलावा इमेज और वीडियो का भी खूब इस्‍तेमाल हो रहा है। ऐसे में इन इमेजेज को तैयार करने, इमेज पर कंटेंट की डिजाइनिंग आदि के लिए ग्राफिक्‍स डिजाइनर्स अपनी सेवाएं देते हैं। इसी तरह, वीडियो की एडिटिंग और उसे टू द प्‍वाइंट बनाने के लिए वीडियो एडिटर्स की आवश्‍यकता पड़ती है।

कंटेंट क्रिएटर्स

आनलाइन मार्केटिंग में कंटेंट का बहुत बड़ा योगदान होता है, ताकि ग्राहकों को एंगेज करके, उन्‍हें प्रभावित करके प्रोडक्‍ट या सर्विस के काल टू एक्‍शन तक ले जाया जा सके। ऐसे में इस तरह का प्रभावी कंटेंट जो लोग तैयार करते हैं, उन्‍हें कंटेंट क्रिएटर्स कहते हैं। इस प्रोफाइल के तहत काम करने के लिए जरूरी है कि आपको अच्‍छी कापी लिखनी आनी चाहिए ताकि कम शब्‍दों में रोचक/प्रभावी तरीके से किसी भी प्रोडक्‍ट या सर्विस की जानकारी लोगों तक पहुंचा सकें।

आवश्यक स्किल्‍स

जो युवा इस फील्‍ड में करियर बनाना चाहते हैं, उन्‍हें डिजिटल मार्केटिंग, सोशल मीडिया मार्केटिंग, डिजिटल ऐड, कंटेंट मार्केटिंग, एसईओ मार्केटिंग, डाटा माइनिंग जैसे विषयों को सीखना चाहिए, तभी वे इस फील्‍ड में तेजी से आगे बढ़ सकते हैं। इसलिए इसकी पढ़ाई करते समय लाइव प्रोजेक्‍ट्स से ज्यादा से ज्‍यादा सीखने की कोशिश करें, सिर्फ थियरी पर निर्भर न रहें। इसके अलावा, अगर आपकी कम्युनिकेशन स्किल अच्‍छी है। अच्‍छा बोलना और लिखना दोनों जानते हैं, तो आप डिजिटल मार्केटिंग में बहुत आगे तक जा सकते हैं। इसलिए अपनी कम्युनिकेशन स्किल को सुधारने का भी प्रयास करें।

कोर्स एवं योग्‍यताएं

किसी भी बैकग्राउंड के युवा डिजिटल मार्केटिंग की स्किल सीख कर इस फील्ड में आगे बढ़ सकते हैं। वैसे, ग्रेजुएशन के बाद डिजिटल मार्केटिंग का कोर्स कर सकते हैं। अभी छह महीने से लेकर तीन साल तक के डिग्री कोर्सेज इसमें उपलब्ध हैं। ये कोर्सेज भारत के विभिन्‍न संस्‍थानों के अलावा फारेन यूनिवर्सिटीज में भी उपलब्‍ध हैं। फिलहाल, स्‍टूडेंट्स को सुझाव यही है कि आप वही संस्‍थान चुनें, जहां ज्‍यादा लाइव प्रोजेक्ट और वर्क एक्‍सपीरिएंस मिले। सस्ते और मुफ्त के आनलाइन कोर्सेज को चुनने से पहले सावधानी से उनके जांचें-परखें।

आकर्षक पे पैकेज

देश की हर छोटी-बड़ी कंपनी में डिजिटल मार्केटिंग में कुशल लोगों की मांग लगातार बढ़ रही है। जरूरत के मुताबिक कुशल डिजिटल मार्केटर्स नहीं हैं। यही वजह है कि ऐसे लोगों को अच्‍छे पे पैकेज भी आफर किये जा रहे हैं। अगर सैलरी की बात करें, तो भारत में कुशलता के आधार पर डिजिटल मार्केटिंग में 25-30 हजार रुपये से लेकर 10 लाख रुपये तक की मासिक सैलरी आफर की जा रही है। बाहर के देशों में इससे पांच गुना ज्यादा सैलरी ऐसे प्रोफेशनल्‍स को मिल रही है।

[सीनियर डिजिटल मार्केटिंग कंसल्‍टेंट]

प्रमुख संस्‍थान

दिल्ली स्कूल आफ इंटरनेट मार्केटिंग, दिल्‍ली

https://dsim.in

एनआइआइटी, दिल्ली

www.niit.com

वेब ब्रेन्स डिजिटल मार्केटिंग इन्सटीट्यूट

www.webbrains.com

डिजिटल एकेडमी इंडिया, गुरुग्राम

www.digitalacademyindia.com

इंटरनेट ऐंड मोबाइल रिसर्च इंस्टीट्यूट, बेंगलुरु

https://imri.in

तकनीकी बदलावों को अपनाकर रहें आगे

डिजिटल मार्केटिंग में आगे बढ़ने के अवसर असीमित हैं। विभिन्‍न प्लेटफार्म्स के आ जाने से यह क्षेत्र तेजी से बढ़ रहा है। मौजूदा उद्योग और कंपनियां भी अपने व्यवसाय की डिजिटल उपस्थिति बढ़ाने की दिशा में काम कर रही हैं। ब्रांड पहले से कहीं अधिक डिजिटल मार्केटिंग पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं। इसलिए इनदिनों डिजिटल मार्केटिंग स्किल काफी डिमांड में हैं। डिजिटल मार्केटिंग में विविध तरह के नौकरियों के विकल्‍प भी हैं, जैसे कि सर्च इंजन आप्टिमाइजेशन (एसईओ), सर्च इंजन मार्केटिंग (एसईएम), सोशल मीडिया आप्टिमाइजेशन (एसएमओ), ईमेल मार्केटिंग, कंटेंट मैनेजमेंट ऐंड क्‍यूरेशन, कापी राइटिंग, वेब डिजाइनिंग, एनालिटिक्‍स, वीडियो/आडियो प्रोडक्‍शन तथा मोबाइल मार्केटिंग इत्‍यादि। अगर युवा अपने करियर को शुरू करने और आगे बढ़ाने के लिए इनमें से कम से कम एक या दो एरिया में भी कुशलता हासिल कर लें, तो उनकी तरक्की के अवसर काफी बढ़ जाएंगे। कई संस्थान छह से 12 महीने के डिजिटल कोर्स की पेशकश भी कर रहे हैं। इनमें से कई आनलाइन भी चल रहे हैं, जहां से आप आसानी से इसे सीख सकते हैं। फिलहाल, यह फील्‍ड लगातार अपडेट हो रहा है। इसलिए एक डिजिटल मार्केटिंग प्रोफेशनल के तौर पर आपको हमेशा तकनीकी बदलावों को अपनाने के लिए तैयार रहना और खुद को एक्‍सप्‍लोर करते रहना चाहिए।

अनुराग श्रीवास्‍तव, सीनियर डिजिटल मार्केटिंग मैनेजर, डायलडेस्‍क

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.