आप भी जानें, वैश्विक महामारी कोविड-19 के कारण दुनियाभर में क्या कुछ हुआ बेहतर

हर चीज के दो पहलू होते हैं अच्‍छा भी बुरा भी। (फोटो-एएफपी)

कोविड-19 की बदौलत दुनियाभर में काफी कुछ ऐसा हुआ है जिसके बारे में अब तक सोचना भी मुश्किल लग रहा था। प्रदूषण के स्‍तर में गिरावट हो या कार्बन उत्‍सर्जन में कमी बिना कोविड-19 के मुमकिन नहीं लगता है।

Publish Date:Tue, 24 Nov 2020 11:46 AM (IST) Author: Kamal Verma

नई दिल्‍ली (ऑनलाइन डेस्‍क)। कहते हैं जो काम किसी तरह की अपील से नहीं होता है उसको किसी चीज का डर अपने आप करवा देता है। ये कहावत मौजूदा समय में बिल्‍कुल सटीक दिखाई देती है। कोविड-19 के डर की बदौलत सिर्फ बुरा ही नहीं हुआ बल्कि काफी कुछ अच्‍छा भी हुआ है। कोविड-19 से पहले तक इनके बारे में सोचना भी गुनाह जैसा लगता था। कई बार सामाजिक तौर पर हम कई चीजों को करने से पीछे हट जाते थे कि लोग क्‍या कहेंगे। लेकिन अब ऐसा नहीं है। जानें क्‍या हुआ इस दौरान अच्‍छा।

कार्बन उत्‍सर्जन में गिरावट

कोविड-19 की वजह से वैश्विक तौर पर लगे लॉकडाउन का सबसे बड़ा फायदा कार्बन उत्‍सर्जन में गिरावट को लेकर हुआ है। विश्‍व की बड़ी संस्‍थाओं ने इसको लेकर अपनी रिपोर्ट में भी कहा है। नेचर कम्‍युनिकेशंस मैग्‍जीन की रिसर्च रिपोर्ट में कहा गया कि कोविड-19 के बाद लगे लॉकडाउन में अप्रैल तक कार्बन उत्‍सर्जन में करीब 17 फीसद तक की कमी आई थी। जून में ये कमी करीब 9 फीसद दर्ज की गई। इस बारे में कुछ दिन पहले सामने आई विश्व मौसम विज्ञान संगठन (डब्ल्यूएमओ) की रिपोर्ट काफी खास है। इसमें कहा गया है कि मौजूदा वर्ष में सालाना वैश्विक कार्बन डाइऑक्साइड उत्सर्जन 4.2 से 7.5 फीसदी के बीच रहा है। इसमें ये भी कहा गया है कि दैनिक स्‍तर पर इसमें ये कमी 17 फीसद तक रही है। ये तमाम आंकड़े इसलिए काफी महत्‍वपूर्ण है क्‍योंकि हर साल वैश्विक स्‍तर पर कार्बन उत्‍सर्जन में कमी लाने की बात कही जाती रही है। लेकिन इस संबंध में कुछ खास नहीं हो पाया था। कोविड-19 ने इसको भी आसान बना दिया।

प्रदूषण में गिरावट

कोविड-19 के फायदे में दूसरा सबसे बड़ा फायदा प्रदूषण में कमी रहा है। भारत की ही यदि बात करें तो कोविड-19 की वजह से पहली बार हुए लॉकडाउन के दौरान इसका असर भी दिखाई देने लगा था। इस दौरान दिल्ली मुंबई, अहमदाबाद और पुणे में वायु प्रदूषण 20-25 फीसद तक की गिरावट आई थी। सीपीसीबी के आंकड़े इसकी तस्‍दीक दे रहे हैं। इसके मुताबिक इन शहरों में वायु प्रदूषण के प्रमुख कारकों पीएम 10, पीएम 2.5 और एनओ के उत्सर्जन में 15-50 फीसद तक की कमी दर्ज की गई है। इस दौरान देश के करीब 104 शहरों में हवा की गुणवत्‍ता संतोषजनक स्‍तर पर रही है। हाल ही में नासा की एक रिपोर्ट में कहा गया लॉकडाउन के दौरान वैश्विक स्‍तर वायुमंडल में नाइट्रोजन डाइऑक्साइड में 20-25 फीसद तक कमी आई है।

बेहद कम समय में टीका विकसित 

विश्‍व में पहली बार चेचक का टीका वर्ष 1798 में विकसित किया गया था। इसके बाद 1979 में इसका वैश्विक स्‍तर पर प्रोडेक्‍शन शुरू हुआ था। हालांकि चेचक जैसी बीमारी का जिक्र इसके विकसित होने से 700 वर्ष पहले चीन के दस्‍तावेजों में भी मिलता है। बहरहाल, ये सब कहने का मकसद सिर्फ ये बताना है कि किसी बीमारी के बाद किसी वैक्‍सीन को विकसित करने में एक लंबा समय लगा। चाहे वो प्‍लेग हो या फिर बीसीजी के टीके की बात हो या दूसरी कोई और वैक्‍सीन हो। लेकिन पहली बार ऐसा देखा जा रहा है कि किसी बीमारी के सामने आने के महज एक वर्ष के अंदर कोई वैक्‍सीन विकसित की गई हो। इतने कम समय में अब से पहले कोई वैक्‍सीन विकसित नहीं की गई है। हालांकि इसकी एक बड़ी वजह ये रही है कि कोविड-19 की चपेट में दुनिया के सभी देश आ चुके हैं। इसकी वजह से पूरी दुनिया के वैज्ञानिक इस वैक्‍सीन को बनाने में एकजुटता दिखा रहे हैं। लेकिन ये भी कोविड-19 की ही वजह से हो पाया है।

मास्‍क लगाना बन गई आदत 

कोविड-19 आने से पहले किसी ने नहीं सोचा था कि उन्‍हें घर से बाहर निकलते हुए मास्‍क लगाना पड़ेगा। लेकिन, इस महामारी ने अब इसे आम लोगों की आदत में शुमार करवा दिया है। पहले की बात करें तो जुकाम हो या खांसी, भीड़ में लोग घूमते और दूसरे को संक्रमित करते आम दिखाई दे जाते थे। लेकिन अब मास्‍क लगने की वजह से दूसरों के संक्रमित होने का खतरा काफी कम हो गया है। ये ऐसी समस्‍या है जिस पर कभी किसी ने मुंह ढकने की सलाह दी भी तो लोगों ने इसको सिरे से खारिज करने में जरा भी देर नहीं लगाई। विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन की तरफ से तो यहां तक कहा गया है कि कोविड-19 पर काबू पाने के बाद भी मास्‍क सार्वजनिक जगहों पर मास्‍क लगाकर रखना फायदे का सौदा होगा। गौरतलब है कि दिसंबर 2019 के अंत में ये बीमारी चीन के वुहान शहर में शुरू हुई थी। इसके बाद भारत समेत दुनिया के कई दूसरे देशों में जनवरी के अंत तक इसके मामले सामने आ गए थे। मार्च के खत्‍म होते होते इसकी चपेट में समूचा विश्‍व आ चुका था। पृथ्‍वी पर केवल अंटार्कटिका ही एक ऐसी जगह थी जहां इसका कोई मामला नहीं आया।  

ये भी पढ़ें:- 

जानें -भारत के लिए क्यों ज्यादा मुफीद है ऑक्सफोर्ड की वैक्सीन, फरवरी तक आ सकती हैं दो वैक्‍सीन

भारत की एंटी रेडिएशन मिसाइल से घबराया चीन, सुखोई-30 एमकेआइ स्क्वाड्रन का होगी हिस्‍सा 

शानदार उपलब्धि! देश की बढ़ती सैन्‍य क्षमता के बाद भारत बना हिंद महासागर का वास्‍तविक संरक्षक

एक्‍सपर्ट की कलम से जानें- समान नागरिक संहिता के लागू न होने से क्‍या होंगी समस्‍याएं, सरकार करे पहल 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.